66 हजार से अधिक किसानों को दिया गया टिड्डी कीट से हुई फसल नुकसानी का मुआवजा

0
3395
tiddi muavja

टिड्डी कीट से हुई फसल नुकसानी का मुआवजा

इस वर्ष रबी फसलों पर टिड्डी का प्रकोप 1996 के बाद पहली बार देखा गया है | टिड्डी का प्रकोप इतना ज्यादा था कि किसानों के अलावा राज्य सरकार को युद्ध स्तर पर कीटनाशक का छिडकाव करना पड़ा है | टिड्डी ने राजस्थान के अलवा हरियाणा, पंजाब जैसे राज्यों को अपने क्षेत्र में लिया था | अब जब इसका प्रकोप खत्म हो गया है तो वहीं किसानों की खेत में फसल पूरी तरह से नष्ट हो चूकी है | सबसे ज्यादा राजस्थान में नुकसानी होने के कारण राज्य सरकार ने यह घोषणा की थी कि टिड्डी प्रभावित सभी किसानों को नुकसानी का मुआवजा दिया जाएगा |

टिड्डी कीट का प्रकोप फिर से फसलों पर होगा 

मुख्यमंत्री ने टिड्डी के प्रकोप के कारण प्रदेश के करीब 8 जिलों में फसलों में हुए नुकसान पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि विश्व खाद्ध एवं कृषि संगठन द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार इस वर्ष टिड्डी का प्रकोप ज्यादा होने की आशंका है | सोमालिया, इथोपिया, इरिट्रिया पाकिस्तान, बलूचिस्तान एवं अर्ब देशों में टिड्डियों की संख्या में भारी वृद्धि होने के कारण मई माह से प्रदेश में टिड्डी का प्रकोप फिर बढ़ सकता है |

यह भी पढ़ें   उत्तरप्रदेश में धान विक्रय किसान कहाँ एवं किस प्रकार करें पंजीयन

श्री गहलोत ने अधिकारीयों को निर्देश दिए कि जोधपुर स्थित भारत सरकार के टिड्डी चेतावनी संगठन के साथ समन्वय कर समय रहते माकूल इंतजाम किए जाएँ | केंद्र सरकार को टिड्डी से निपटने के अधिक संसाधन उपलब्ध करने के लिए पत्र लिखा जाए साथ ही किसानों को भी टिड्डी से बचाव के उपाय करने के लिए जागरूक किया जाए |

अभी तक इतने किसानों को दिया गया है फसल नुकसानी का मुआवजा

टिड्डी से प्रभावित किसानों का फसल नुकसानी का मुआवजा दिया जा रहा है | यह मुआवजा उन किसानों को दिया जा रहा है जिनके पास बीमा है तथा उन किसानों को भी दिया जा रहा है जिनके पास बीमा नहीं है | राजस्थान के सहकारिता सचिव श्री नरेशपाल गंगवार ने बताया कि टिड्डी प्रभावित आठ जिलों के 66 हजार से अधिक किसानों को आपदा राहत कोष के माध्यम से 110 करोड़ रूपये दिये गये हैं | जिन किसानों के पास प्रधानमंत्री फसल बीमा था उन किसनों को मुख्यमंत्री के द्वारा सहायता राशि के अतरिक्त 25 प्रतिशत अन्तरिम क्लेम के रूप में 29 करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया गया है | सहकारिता सचिव के द्वारा बताया गया है कि अभी और भी किसानों को भुगतान करना बचा हुआ है, जिन्हें जल्द भुगतान किया जाएगा |

यह भी पढ़ें   केरल पहुंचा मानसून, जानें अन्य राज्यों में कब तक पहुँचने की उम्मीद है

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here