गेहूँ के साथ ही मंडियों में होगी चना, मसूर और सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीद

0
gehu chana masur sarso msp kharid mp

समर्थन मूल्य पर गेहूं, चना, मसूर और सरसों की खरीद

केंद्र सरकार द्वारा किसानों से मंडियों में खरीद के लिए प्रतिवर्ष 23 फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य तय किया जाता है | जिसके तहत राज्य सरकारों के द्वारा किसानों से पंजीकरण करवाए जाते हैं एवं उसके बाद किसानों से उनकी उपज को पंजीयन के अनुसार ख़रीदा जाता है | इस वर्ष केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2021-22 के लिए रबी फसलों ( गेहूं 1975 रुपये प्रति क्विंटल, जौ 1600 रुपये प्रति क्विंटल, चना 5100 रुपये प्रति क्विंटल, मसूर 5100 रुपये प्रति क्विंटल, रेपसीड एवं सरसों 4650 रुपये प्रति क्विंटल एवं कुसुम 5327 रुपये प्रति क्विंटल ) जारी किये गए हैं जिसके लिए हरियाणा एवं मध्यप्रदेश में पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है |

इन फसलों में से मध्यप्रदेश सरकार ने गेहूं, चना, मसूर एवं सरसों को समर्थन मूल्य पर खरीदने का निर्णय लिया है | इसके लिए मध्यप्रदेश में गेहूं के लिए किसानों के लिए 25 जनवरी से पंजीयन की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है वहीँ 01 फरवरी से अन्य फसलों की खरीदी के लिए पंजीकरण का कार्य शुरू कर दिया जायेगा |

गेहूं के साथ ही होगी चना, मसूर एवं सरसों की खरीद

मध्यप्रदेश में समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन के लिए पंजीयन की प्रक्रिया 25 जनवरी से प्रारंभ होकर 20 फरवरी तक किया जाना है | इसके साथ ही अब मध्यप्रदेश सरकार ने चना, मसूर और सरसों का उपार्जन का भी कार्य करने का निर्णय लिया है, उपार्जन के लिये पंजीयन का कार्य 01 फरवरी से किया जायेगा और खरीदी का कार्य 15 मार्च से प्रारंभ किया जायेगा |

यह भी पढ़ें   प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में किसान अपने आवेदन की स्थिति यहाँ देखें

किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा कि अब किसानों को अपनी दलहन की फसलों को मण्डी में बेचने के लिये गेहूँ उपार्जन का कार्य खत्म होने का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि अब-तक गेहूँ उपार्जन के पश्चात ही चना, मसूर एवं सरसों का उपार्जन कार्य सरकार द्वारा प्रारंभ किया जाता था। इससे किसानों को इंतजार करना पड़ता था। किसानों को अपनी दलहन की फसलों का वाजिब दाम सही समय पर मिल सकेगा।

समर्थन मूल्य पर उपज बेचने के लिए किसान पंजीयन

किसान समर्थन मूल्य पर अपनी गेहूं की उपज बेचने के लिए सोसाइटी के माध्यम से अथवा ई-उपार्जन पोर्टल से पंजीयन करवा सकते हैं | किसानों का पंजीयन ऑनलाइन किया जायेगा | किसान एम.पी.किसान एप, ई-उपार्जन मोबाईल पंजीयन, कॉमन सर्विस सेण्टर, लोक सेवा केंद्र और ई–उपार्जन केन्द्रों या समिति स्तर पर स्थापित पंजीयन केंद्र पर जाकर अपनी उपज का पंजीकरण करवा सकते हैं |

पंजीयन हेतु आवश्यक दस्तावेज़

किसानों को अनिवार्य रुप से समिति स्तर पर पंजीयन हेतु आधार नंबर, बैंक खाता नंबर, मोबाइल नंबर की जानकारी उपलब्ध करवाना होगा | किसानों को पंजीयन करवाते समय कृषक का नाम, समग्र आई डी नम्बर, ऋण पुस्तिका, आधार नम्बर, बैंक खाता नम्बर, बैंक का आईएफएससी कोड, मोबाइल नम्बर की सही जानकारी देना होगा | वनाधिकार पट्टाधारी एवं सिकमी किसानों को पंजीयन के लिए वनपट्टा तथा सिकमी अनुबंध की प्रति होनी चाहिए |

  • किसान अपना पंजीयन आधार नंबर एवं समग्र आई डी के आधार पर कर सकते है| पंजीयन के लिए आधार अथवा समग्र आई डी का होना अनिवार्य है |
  • यदि किसान के पास आधार नं और समग्र आई डी दोनों उपलब्ध नहीं है, तो कृपया नजदीकी ग्राम पंचायत से संपर्क करें| किसान अपने परिवार की समग्र आई डी से सदस्य समग्र आई डी खोज सकते है|
  • बैंक खाता क्रमांक पासबुक मे से देख कर सही प्रविष्ट करें| यदि आधार नंबर लोड नहीं हो रहा हो तो समग्र आई-डी से अपना पंजीयन करें|
  • पंजीयन के पश्चात् पावती प्रिंट करें तथा खरीदी के समय पावती ले जाना अनिवार्य है| किसान पंजीयन के लिए मोबाइल नंबर होना अनिवार्य है|
यह भी पढ़ें   कर्ज माफी आज अंतिम दिन है, किसान ऑनलाइन लिस्ट कहाँ देखें ?

Previous articleआज 20 लाख किसानों के बैंक खाते में दी जाएगी 2000 रुपये की किश्त
Next articleबजट 2021-22: जानिए इस वर्ष केंद्रीय बजट में किसानों को क्या-क्या मिला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here