समर्थन मूल्य पर उपज बेचने के लिए मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर आज ही पंजीकरण करें

0
5068
kharif fasal panjiyan meri fasal mera byora

खरीफ उपज बेचने हेतु पंजीकरण

किसानों की खरीफ फसलें तैयार होने वाली है ऐसे में किसानों को केंद्र सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अपनी उपज बेचने के लिए पंजीयन करवाना होता है | हर राज्य सरकार किसानों से मंडी में फसल खरीदी के लिए पंजीयन करवाती है | मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ एवं हरियाणा आदि राज्यों में खरीफ फसलों की खरीदी के लिए पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है | हरियाणा राज्य में बाजरा उत्पादक किसानों के लिए पंजीकरण का आज अंतिम दिन है | ऐसे में अधिक से अधिक किसान पंजीकरण करवाएं जिससे वह उपज को मंडी में आसानी से समर्थन मूल्य पर बेच सकें |

हरियाणा सरकार ने राज्य के बाजरा उत्पादक किसानों के हित में अहम निर्णय लेते हुए ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर पंजीकरण करवाने के लिए 20 सितंबर 2020 तक समय बढ़ा दिया है। बाजरा के अतिरिक्त अन्य खरीफ फसलों के पंजीकरण की अंतिम तिथि भी 25 सितंबर 2020 तक बढ़ा दी है ताकि फसलों की बिजाई करने वाले सभी किसान अपना ब्यौरा इस पोर्टल पर अपलोड कर सकें।

यह भी पढ़ें   गौ-आधारित जीरो बजट प्राकृतिक कृषि मॉडल की जानकारी लेगी कृषि सुधार समिति

मेरी फसल मेरा ब्यौरा के तहत पंजीकरण की अंतिम तिथि

जो भू किसान किन्हीं कारणों सेअभी तक ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ योजना के तहत पोर्टल पर अपनी बाजरा की फसल का पंजीकरण कराने से चूक गए हैं, वे अब 20 सितंबर, 2020 तक अपनी फसल का विवरण अपलोड कर पंजीकृत कर सकते हैं, जबकि खरीफ की अन्य फसलों को 25 सितंबर 2020 तक पंजीकृत किया जा सकता है। अब तक पोर्टल पर 7,80,867 किसानों ने 43,08,444.97 एकड़ जमीन का पंजीकरण किया है।

किसान फसल बेचने के लिए यहाँ करें पंजीकरण

हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल ने राज्य के किसानों को ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ योजना के तहत fasal.haryana.gov.in   पर पंजीकरण करने का आग्रह करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने खरीफ-2020 के दौरान 100 प्रतिशत किसानों को इस पोर्टल पर पंजीकरण करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने बताया कि इससे पंजीकृत किसानों को विभाग द्वारा दी जा रहे प्रोत्साहन और सब्सिडी का लाभ होने के अलावा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल बेचने में मदद मिलेगी। उन्होंने यह भी कहा कि अधिक से अधिक किसानों द्वारा अपनी फसल पंजीकृत करने से दूसरे राज्यों से अवैध तरीके से लाई गई फसल की बिक्री रोकने में मदद मिलेगी। अवैध तरीके से लाई गई फसल राज्य के संसाधनों पर अतिरिक्त बोझ डालती है ।

यह भी पढ़ें   राजस्थान में 25 लाख किसानों को दिया जाएगा ब्याज मुक्त फसली ऋण, जानें कहाँ कितना मिलेगा

फसल पंजीयन के लिए हेल्पलाइन नम्बर

अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल ने बताया कि कोई भी किसान अधिक जानकारी के लिए विभाग के हेल्पलाइन नंबर 1800-180-2117 और 1800-180-2060 पर सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे के बीच संपर्क कर सकता है।

क्या है खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2020-21

सरकार ने विपणन सीजन 2020–21 के लिए खरीफ फसलों की एमएसपी की घोषणा पहले ही कर दी है | सरकार द्वारा इन्हीं मूल्यों पर किसानों से खरीदी की जाएगी |

  • धान (ग्रेड ए)- 1888 रुपये,
  • धान (सामान्य) -1868 रुपये,
  • बाजरा -2150 रुपये
  • ज्वार -2620 रुपये
  • मक्का- 1850 रुपये
  • सोयाबीन- 3880 रुपये

किसान मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण के लिए क्लिक करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here