फसलों को दीमक से कैसे बचाएं

12
21928

फसलों को दीमक से कैसे बचाएं

दीमक पोलीफेगस कीट होता है ,यह सभी फसलो को बर्बाद करता है | भारत में फसलों को करीबन 45 % से ज्यादा नुकसान दीमक से होता है। वैज्ञनिकों के अनुसार दीमक कई प्रकार की होती हैं। दीमक भूमि के अंदर अंकुरित पौधों को चट कर जाती हैं। कीट जमीन में सुरंग बनाकर पौधों की जड़ों को खाते हैं। प्रकोप अधिक होने पर ये तने को भी खाते हैं। इस कीट का वयस्क मोटा होता है, जो धूसर भूर रंग का होता है और इसकी लंबाई करीब भ्.भ्म् मिलीमीटर होती है। इस कीट की सूड़ियां मिट्टी की बनी दरारों अथवा गिरी हुई पत्तियों के नीचे छिपी रहती हैं। रात के समय निकलकर पौधो की पत्तियों या मुलायम तनों को काटकर गिरा देती है। आलू के अलावा टमाटर, मिर्च, बैंगन, फूल गोभी, पत्ता गोभी, सरसों, राई, मूली,गेहू आदि फसलो को सबसे ज्यादा नुकसान होता है। इस कीट के नियंत्रण के लिए समेकित कीट प्रबंधन को अपनाना जरूरी है |

यह भी पढ़ें   किसान खरीफ सीजन में अधिक पैदावार के लिए लगाए मक्का की यह नई उन्नत किस्में

दीमक की रोकथाम :

दीमक से बचाव के लिए खेत में कभी  भी कच्ची गोबर नहीं डालनी चाहिए। कच्ची गोबर दीमक का प्रिय भोजन होता है |

  1. बीजों को बिवेरिया बेसियाना फफूंद नाशक से  उपचारित किया जाना चाहिए। एक किलो बीजों को 20 ग्राम बिवेरिया बेसियाना फफुद नाशक से उपचारित करके बोनी चाहिए |
  2. 2 किग्रा सुखी नीम की बीज को कूटकर बुआइ से पहले 1 एकड़ खेत में डालना चिहिए |
  3. नीम केक 30 किग्रा /एकड़ में बुआइ से पहले खेत में डालना चिहिए |
  4. 1 किग्रा बिवेरिया बेसियाना फफूंद नासक और 25 किग्रा गोबर की सड़ी खाद में मिलाकर बुआइ से पहले खेत में डालना चिहिए |
  5. 1 किग्रा/एकड़ बिवेरिया बेसियाना फफूंद नासक को आवश्यकतानुसार पानी में घोलकर मटके में भरकर ,निचले हिस्से में छिद्र करके सिचाई के समय देना चाहिए |

दीमक नि‍यंत्रण के लि‍ए रासायनिक दवा :

  1. लिंडेन पाउडर 1 किग्रा /10 लीटर पानी में घोलकर 1 एकड़ खेत में बुआइ से पहले करना चाहिए |
  2. एक किलो बीजों को चार मिलीलीटर क्लोरोपाइरीफास दवा से उपचारित किए जा सकते हैं |
  3. दीमक को नियंत्रित करने के लिए दो लीटर क्लोरोपाइरीफास दवा को 4 किलो रेत में मिलाकर प्रति हैक्टैयर बुवाई के समय खेत में डालना होता है |
यह भी पढ़ें   केचुआ खाद बनाने की विधि एवं उससे होने वाली आय

इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बुवाई करने से पहले पिछली फसल के अवशेषों को एकत्रित कर नष्ट करना बेहतर होता है |

12 COMMENTS

  1. सर मुझे ऐसा ऐप्स चाहिए जिसमें सहज व सरल तरीके से सारी फसलों व फसलों की सारी बिमारियों का सटीक जवाब मिले कोई भी कंपनी की छाप नहीं केमिकल नाम बताऐ 9575334057
    खुस रहेगा किसान तभी तो आगे बडेगा हिंदुस्तान

    • सर किसान समाधान पर आपको सभी जानकारी मिल जाएगी |

    • https://kisansamadhan.com/protect-crop-and-plants-from-termites/ सर फसलों को दीमक से बचने के लिए दी गई लिंक पर जानकारी देखें |
      गेहूं की फसल में दीमक की रोकथाम के लिए https://kisansamadhan.com/crops-production/rabi-crops/wheat-farming/ दी गई लिंक पर देखें |
      बुआई से पूर्व दीमक के नियंत्रण हेतु क्लोरपाइरीफास 20 प्रतिशत ई.सी. अथवा थायोमेथाक्सम 30 प्रतिशत एफ.एस. की 3 मिली. मात्रा प्रति किग्रा. बीज की दर से बीज को शोधित करना चाहिए |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.