असमय बारिश एवं ओलावृष्टि से हुई फसल क्षति की भरपाई करेगी सरकार

0
2042
fasal kshati hail storm

फसल क्षति का मुआवजा

पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के चलते राज्यों के कई हिस्सों में असमय बारिश एवं ओला वृष्टि से किसानों की खेतों में खड़ी रबी फसलों को काफी नुकसान हुआ है | किसानों को हुई इस नुकसान की भरपाई के लिए राज्य सरकारों के द्वारा जल्द सर्वे करवाकर मुआवजा दिया जायेगा | मध्यप्रदेश के किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने राज्य में हाल ही में हो रही ओला-वृष्टि की सूचना मिलने पर संबंधित जिलों के कलेक्टर और कृषि उप संचालकों को मुआयना कर सर्वे कराने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने किसानों को आश्वस्त किया है कि ओला-वृष्टि से रबी फसलों को हुई क्षति की भरपाई सरकार करेगी।

सर्वे के साथ होगी फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी

बारिश एवं ओलावृष्टि से हो रही फसल क्षति का विस्तृत सर्वे का कार्य किया जायेगा | ओला-वृष्टि से प्रभावित फसलों के सर्वे के साथ फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कराई जायेगी। गाँवों में क्षतिग्रस्त फसलों का आंकलन पंचायत प्रतिनिधियों की उपस्थिति में कराया जायेगा। कृषि मंत्री श्री पटेल ने बताया है कि प्रभावित किसानों को आरबीसी-6 (4) के अंतर्गत राहत प्रदान की जायेगी। हर प्रभावित किसान को नियमानुसार नुकसान का मुआवजा दिलाया जायेगा।

यह भी पढ़ें   सब्जियों की खेती का सोच रहें हैं तो आयें 17 से 19 दिसम्बर को सब्जी प्रदर्शनी सह प्रतयोगिता में

फसल नुकसान की सुचना के लिए टोल फ्री नम्बर

जिन भी किसानों की फसलों को प्राक्रतिक आपदा जैसे बारिश एवं ओलावृष्टि जलभराव आदि कारणों से नुकसान होता है तो वह इसकी सुचना फसल बीमा कंपनी के टोल फ्री नम्बर पर दे सकते हैं | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रावधानों के अनुसार घटना की सुचना 72 घंटे के अंदर ही बीमा कंपनी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें| जो किसान टोल फ्री नंबर पर फोन नहीं कर सकते हैं वे अपने संबंधित बैंक से फार्म लेकर भरें तथा बैंक में ही जमा कर दें या अपने यहाँ के कृषि अधिकारीयों को सूचित करें | मध्यप्रदेश में भारतीय कृषि बीमा कंपनी का टोल फ्री नम्बर 18002337115, 1800116515 है इस पर भी किसान अपने फसल नुकसान की सुचना दे सकते हैं | इसके अतिरिक्त तहसील स्तर पर भी नम्बर जारी किए जाते हैं उन पर भी किसान फसल नुकसान की सुचना दे सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here