इस एंड्राइड एप से आसानी से लें कस्टम हायरिंग केंद्र से किराये पर कृषि यंत्र

custom hiring kendra se kiraye par krishi yantra lene hetu android app

कस्टम हायरिंग केंद्र से किराये पर कृषि यंत्र लेने हेतु एप

देश में पराली जलाने की घटनाओं में कमी लाने हेतु सरकार लगातार कोशिश कर रही है इसी क्रम में 11 सितम्बर को केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने किसानों को एक कार्यक्रम में धन्यबाद देते हुए पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली के किसानों के लिए पराली प्रबंधन पर राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन सभा का संबोधन किया |

इससे पहले, वायु प्रदूषण को दूर करने के लिए पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश तथा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली की सरकारों के प्रयासों का समर्थन करने और कृषि यंत्रीकरण के माध्यम से फसल अवशेषों के मौके पर ही प्रबंधन को आवश्यक मशीनरी को सब्सिडी देने की खातिर मंत्रालय द्वारा 2018-19 से 2019-20 की अवधि के लिए एक केंद्रीय क्षेत्र योजना लागू की गई है। इसके लिए कुल 1151.80 करोड़ रुपये की केंद्रीय राशि की व्यवस्था की गई है |

अनुदान पर निजी कस्टम हायरिंग केन्द्रों की स्थापना

वर्ष 2018-19 के दौरान पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश सरकार और आईसीएआर के लिए कुल 584.33 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई थी। इन तीनों राज्य सरकारों ने व्यक्तिगत स्वामित्व के आधार पर किसानों को 32,570 मशीनों का वितरण किया और 7,960 कस्टम हायरिंग केंद्रों की स्थापना की गई है |

यह भी पढ़ें   सरकार ने नैनो यूरिया के बाद अब नैनो यूरिया प्लस को भी दी मंजूरी, किसानों को मिलेगा यह फायदा

किराये पर कृषि यंत्र लेने हेतु कस्टम हायरिंग एप

इस दौरान कृषि राज्य मंत्री ने किसानों द्वारा 50 किलोमीटर के दायरे में स्थित सीएचसी की कस्टम हायरिंग सेवाओं का लाभ उठाने के लिए एक बहुभाषी मोबाइल एप ‘सीएचसी फार्म मशीनरी’ की भी शुरुआत की। यह एप किसानों का उनके इलाके की कस्टम हायरिंग सेवाओं से संपर्क कराएगा। इस एप को गूगल प्ले स्टोर से किसी भी एंड्रायड फोन पर डाउनलोड किया जा सकता है।

किसान एंड्राइड एप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

पिछला लेखप्रधान मंत्री मोदी ने कहा 26 मिलियन हैक्टेयर बंजर भूमि को खेती योग्य बनाया जाएगा
अगला लेखप्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण और राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम की शुरूआत की

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें