जुलाई से किसानों को खरीफ फसल के लिए दिया जाएगा कृषि लोन

0
2095
views
agriculture Loan

किसान ले सकते हैं बैंक से नया कृषि ऋण

जरुरत होगी , जिससे खाद, बीज, कीटनाशक तथा जुताई के लिए खर्च कर सके | किसान इसके लिए बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड के द्वारा कृषि लोन लेते हैं | किसान क्रेडिट कार्ड में एक बहुत बड़ी समस्या यह है की जिस किसान पर पहले से लोन है उस किसान को दुबारा कृषि लोन नहीं दिया जायेगा | इसके तहत देश भर के लगभग 70 प्रतिशत किसान आते हैं जिस पर पहले से ही लोन है | इसका मतलब यह हुआ की इतने  किसान लों नहीं ले सकते  |

कब से ले सकेंगे कृषि लोन

राजस्थान सरकार ने प्रदेश के किसानों को राहत देते हुये किसानों को जुलाई के दुसरे सप्ताह से नया कृषि लोन देने का फैसला लिया है | इसके लिए राज्य सरकार ने सहकारी बैंकों से लोन प्राप्त करने वाले किसानों को जुलाई से लोन देगी | जिस किसानों पर पहले से कृषि लोन है उनका लोन माफ़ कर दिया गया है | इसकी जानकारी विधान सभा में सहकारिता मंत्री उदय आंजना ने दिया है |

यह भी पढ़ें   सब्सिडी पर औषधीय पौधों की खेती करने के लिए आवेदन करें

सहकारिता मंत्री जानकारी देते हुये बताया है की वर्ष 2018 के कृषि लोन माफ़ी के तहत राजस्थान सरकार में 19.42 लाख किसानों को 7.810 करोड़ रूपये का कृषि ऋण माफ़ कर प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया है | यह लोन माफ़ी 30 नवम्बर 2018 की स्थिति से किया गया है | इस लोन माफ़ी के तहत किसानों का 2 लाख रूपये तक का लोन माफ़ किया गया है | यह सभी डाटा केवल सहकारी बैंक का ही है | यानि 19.42 लाख किसान का जो लोन माफ़ हुआ है वे सभी राजस्थान के सहकारी बैंक के खाता धारक है |

3 जून से किसान लोन के लिए आनलाईन पंजीयन शुरू है |

सहकारिता मंत्री ने बताया है की इस वर्ष खरीफ फसल के लिए प्रदेश के किसानों को 10,000 करोड़ रूपये तक का लोन दिया जायेगा | इसके लिए 3 जून से किसान ऑनलाइन लोन पंजीयन की व्यवस्था प्रारंभ की है और अब तक 2.30 लाख किसानों ने पंजीयन करा लिया है |

यह भी पढ़ें   लिखित अनुबंध पर ही खेती कर सकेंगे बटाईदार

किसानों को जमीन लौटाई जाएगी

जिस किसान के द्वारा लोन नहीं चुकाने के कारण बैंकों के द्वारा भूमि अधिग्रहण कर लिया गया था उन सभी किसानों की भूमि लौटाया जायेगा | इसके लिए राज्य सरकार ने किसानों की बकाया को बैंक में जमा कर दिया है तथा बैंक से जमीन को छुड़ा दिया है | सहकारिता मंत्री ने इसकी जानकारी देते हुये बताया है की सहकारिता बैंकों के सीमान्त एवं लघु किसानों को 30 नवम्बर 2018 की स्थिति में अवधि पार खतों के 2 लाख रूपये तक के मध्यकालीन एवं दीर्घकालीन कृषि ऋण माफ़ किये गये हैं | इससे 69 हजार किसानों की लगभग 4 लाख बीघा जमीन रहन मुक्त होगी और यह प्रक्रिया जारी है | अब तक 16 हजार 913 किसानों का 184 करोड़ रूपये माफ़ कर 80 हजार बीघा जमीन किसानों के नाम उनके राजस्व खातों में इंद्राज की गई है |

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here