वायु प्रदूषण का 95 प्रतिशत स्थानीय कारकों से, पराली जलने से केवल 4 प्रतिशत प्रदूषण: प्रकाश जावडेकर

0
143
parali se hone wale vayu pradushan

पराली जलने से होने वाला वायु प्रदुषण

पिछले कुछ वर्षों में सर्दी के दिनों में दिल्ली-एनसीआर में जब वायु प्रदुषण बहुत अधिक हो जाता है तब इसका पूरा जिम्मा किसानों के द्वारा जलाई जाने वाली पराली पर डाल दिया जाता है | इसको लेकर किसानों को पराली जलाने को लेकर सख्त कानून भी बनाये गए हैं | जिसके तहत पराली जलाने वाले किसानों को आर्थिक दंड के साथ कारवास तक की सजा का प्रावधान किया गया है | इसके साथ ही पराली जलाते हुए पकडे जाने पर किसानो को सरकारी योजनाओं से वंचित भी किया जा रहा है | वहीँ हाल में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि दिल्ली में 95 प्रतिशत वायु प्रदुषण स्थानीय कारणों से है |

पराली जलने से केवल 4 प्रतिशत वायु प्रदूषण

श्री जावडेकर ने कहा कि वर्त्तमान में शहर में लगभग 95 प्रतिशत प्रदूषण धूल, निर्माण तथा जैव ईंधन जलने जैसे स्थानीय कारकों की वजह से है और पराली जलने का हिस्सा लगभग 4 प्रतिशत है।  बेहतर वायु गुणवत्ता सुनिश्चित करने के प्रयासों के तहत, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की 50 टीमें, दिल्ली-एनसीआर के शहरों में व्यापक स्तर पर क्षेत्र का दौरा करने के लिए तैनात की गयी हैं।

‘समीर’ ऐप का उपयोग करते हुए ये टीमें कचरा फैलाने वाले स्रोतों की रिपोर्ट करेंगी, जैसे उचित नियंत्रण उपायों के बिना प्रमुख निर्माण गतिविधियां, सड़कों के साथ और खुले भूखंडों में कचरा और निर्माण कचरे को फेंक देना, कच्ची सड़कें, कूड़े / औद्योगिक कचरे के खुले में जलाना आदि। टीमें दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के शहरों का दौरा करेंगी – उत्तर प्रदेश में नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ; हरियाणा में गुरुग्राम, फरीदाबाद, बल्लभगढ़, झज्जर, पानीपत, सोनीपत और राजस्थान में भिवाड़ी, अलवर, भरतपुर। ये टीमें विशेष रूप से हॉटस्पॉट क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करेंगे जहां समस्या गंभीर हो जाती है।

यह भी पढ़ें   1760 प्रति कुंटल के भाव से 15 अक्टूबर से किसान यहाँ बेच सकेगें मक्का

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here