किसानों को बिजली बिल पर 1000 रुपये प्रतिमाह अनुदान वाली योजना की हुई शुरुआत

1769
kisan urja mitra yojana

किसान उर्जा मित्र योजना की शुरुआत

कृषि के क्षेत्र में लागत कम करने के लिए तथा किसानों को 24 घंटे बिजली सस्ती दरों पर उपलब्ध कराने के लिए राजस्थान सरकार ने “मुख्यमंत्री किसान मित्र उर्जा योजना” कि शुरुआत कर दी है | राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने शनिवार को अपने निवास से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से योजना का शुभारम्भ किया | इस योजना के शुरू होने पर प्रदेश में लघु एवं मध्यम वर्ग के किसानों के लिए कृषि बिजली लगभग निःशुल्क हो जाएगी।

इस योजना के तहत राज्य के किसानों को कृषि कार्य के लिए सस्ती दरों पर बिजली उपलब्ध करवाई जाएगी | अभी राज्य में कृषि विद्युत की दर 5 रूपये 55 पैसे प्रति यूनिट होने के बावजूद किसानों को 90 पैसे प्रति यूनिट बिजली दी जा रही है | शेष 4 रूपये 65 पैसे प्रति यूनिट का अनुदान राज्य सरकार वहन कर रही है | कृषि विद्युत् पर अनुदान के कारण राज्य सरकार पर 16 हजार करोड़ रूपये प्रति वर्ष का आर्थिक भार आ रहा है |

यह भी पढ़ें   खेती के लिए अनाज की 155 उच्‍च पैदावार की किस्‍में/ नस्‍लें जारी

किसानों को दिया जायेगा 1,000 रुपये प्रति माह का अनुदान

“किसान मित्र ऊर्जा योजना” के तहत प्रति माह 1,000 रूपये तक की सब्सिडी दी जाएगी | अगर किसी किसान को एक माह में कृषि बिजली बिल 1,000 रूपये आता है तो उसे किसी प्रकार की राशि नहीं चुकानी पड़ेगी | 1,000 रूपये से कम बिजली बिल आने पर किसान को उस माह की सब्सिडी अगले माह में जोड़ दी जाएगी | इस योजना के तहत किसान को प्रति वर्ष 12,000 रूपये तक की सब्सिडी दिए जाने का प्रावधान है | इससे राज्य सरकार पर अतिरिक्त 1,450 करोड़ रूपये का भार आ रहा है |

राज्य के मुख्यमंत्री ने कहा है कि राजस्थान में सौर ऊर्जा निति 2019 एवं पवन उर्जा निति 2019 के माध्यम से अक्षय ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा दिया जा रहा है | वर्ष 2025 तक 30 हजार मेगावाट सौर ऊर्जा उत्पादन के लक्ष्य की दिशा में हम लगातार प्रयासरत है |

योजना का लाभ किन किसानों को दिया जायेगा ?

मुख्यमंत्री किसान मित्र उर्जा योजना राज्य के किसानों के लिए शुरू की गई है | इस योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा मीटर्ड कृषि उपभोक्ताओं को बिजली के बिल पर प्रतिमाह एक हजार रूपए और अधिकतम 12 हजार रूपए प्रतिवर्ष अनुदान दिया जाएगा | इस योजना के तहत केंद्रीय, तथा राज्य कर्मचारी, टैक्स पेयर को बाहर रखा गया है | योजना के तहत 1,000  की सब्सिडी प्राप्त करने के लिए किसान को योजना के तहत अपना आधार नंबर एवं बैंक खाता जोड़ना होगा | इससे सब्सिडी का पैसा सीधे किसानों के बैंक खातों में दिया जायेगा |

यह भी पढ़ें   अगर आप अपनी फ़सल को न्यूनतम बिक्री मूल्य पर बेचना चाहते हैं तो इस फॉर्म को जरुर भरें
पिछला लेखजैविक उत्पादों की खरीद बिक्री के लिए सरकार ने विकसित किया मोबाइल एप विकसित किया
अगला लेखडेयरी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने की डेयरी इन्वेस्टमेंट ऐक्सेलरेटर की स्थापना

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.