19 लाख से अधिक किसानों ने पीएम-किसान योजना में स्वयं ऑनलाइन आवेदन कर लिया लाभ

24
50780

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में किसान ऑनलाइन पंजीयन

PM-Kisan | प्रधानमंत्री किसान योजना में किसान स्वयं आवेदन कैसे करें | किसान आवेदन कैसे सुधारें |

किसान सम्मान निधि योजना को शुरू करते हुये तत्कालीन वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि यह योजना देश के 2 हैक्टेयर तक भूमि रखने वाले 12.50 करोड़ किसानों के लिए हैं, जिसे बाद में बढ़ाकर देश के सभी जोत वाले किसानों के लिए कर दिया गया था | योजना के अनुसार वर्ष 2019–20 के लिए 75 हजार करोड़ रुपये जारी किये गए थे जिसे बढ़ाकर 87 हजार करोड़ रुपये कर दिया गया है | योजना के अनुसार सभी राज्यों से किसानों की सूचि मांगी गई थी लेकिन 9 माह बाद भी देश के 8 करोड़ 4 लाख 9 हजार 505 किसानों ने आवेदन किये हैं जिसमें से 7 करोड़ 54 लाख 99 हजार 299 किसानों को ही योजना का लाभ मिल पाया है |

कई राज्य सरकार द्वारा किसानों के नाम व आवेदन न दिए जाने को देखते हुए केंद्र सरकार ने किसानों से पीएम किसान योजना के तहत सीधे ऑनलाइन आवेदन लेना शुरू कर दिया है साथ ही किसान आवेदन में आधार संख्या में हुई गलती को भी स्वयं ही सुधार सकते हैं |

किसानों ने स्वयं किया किसान सम्मान निधि योजना के लिए आवेदन

केंद्र सरकार ने योजना के आवेदन के लिए सीधे केंद्र सरकार के कृषि विभाग को आवेदन करने की सुविधा दी है | इसके लिए केंद्र सरकार ने किसान सम्मान निधि (pmkisan.gov.in) योजना नाम से एक पोर्टल बनाया है | इस पोर्टल पर किसी राज्य तथा केन्द्र शासित प्रदेश के किसान आवेदन कर सकते हैं |

कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के अनुसार जब से केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू किया है तब से अब तक pmkisan.gov.in पर जाकर किसान कार्नर (kisan corner) में आवेदन करने वाले किसानों की संख्या 19 लाख 53 हजार है |

किसान सम्मान निधि योजना में आधार संख्या में सुधार

इस पोर्टल पर आधार संख्या को भी किसान स्वयं ही सुधार सकते है | इसके लिए किसान कार्नर में एक विकल्प दिया हुआ है | कृषि मंत्री के अनुसार अब तक केंद्र सरकार ने किसानों के द्वारा किये गए आवेदन में से 23 लाख 76 हजार किसानों को आधार नंबर सही किया है |

यह सभी किसान विभिन्न राज्यों से तालुकात रखते हैं तथा आवेदन के लिए राज्य सरकार के माध्यम पर निर्भर नहीं रहना पड़ता है | किसन खुद से या किसी कम्प्यूटर सेंटर से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं | इसके लिए किसी भी तरह का कोई पोर्टल फ़ीस भी नहीं लगती है |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

24 COMMENTS

  1. Sir मरा आधार 587561665879, है form भरे हैं लेकिन beneficiary Status show नहीं कर रहा,, क्या कारण हो सकता है

    आप मुझे बताएं plz

  2. Sir,
    Mera naam sarita Hembram ,mujhe pehla kist mil chuki hai.par baki Sab nahi mila hai.status check kiya to usme likha aa raha hai ki (rajya sarkar dawara dusri kist ROK di gayi hai).sir iska samadha bataye.

    • आवेदन की स्थित्ति में लिखा आ रहा है ? आप अपने जिले के कृषि विभाग से सही करवाएं |

  3. बैंक खाता कैसे सही करें ऑनलाइन इसका कोई सही तरीका निकालो फिर देखो एक भी किसान छूट जाए इस योजना से तो बताना किसान अधिकारियों लेखपालों के पास दौड़-धूप कर जाता है और निराश होकर आता है वह कहते हैं किसी विभाग पर होगा और किसी विभाग वाले कहते हैं यहां नहीं है अभी साइड चालू नहीं हुई हैयह सब परेशानी होती है क्या सब मंत्रियों को पता नहीं है किसान चक्कर काट रहा है यह भी चाहते हैं कि पूरी योजना का लाभ किसानों को ना मिले चुनाव आएगा तब किसानों को लाभ देंगे अगर सरकार चाहे तो 10 दिन के अंदर सारे किसानों को लाभ मिल जाएगा सब के खाते में पैसा आ जाएगा अगर चाहे तो

    • जी सही कहा सर | परन्तु अपने देश में अभी भी कई क्षेत्र ऐसे हैं जहाँ न तो बिजली है और ना ही इंटरनेट | और न ही किसानों को कंप्यूटर चलाना आता है |

  4. महोदय जी,

    आपका app जो playstor पर उपलब्ध है।
    वह अच्छा कार्य नहीं करता है।
    उसको बेहतर बनाएं हमको परेशानी होती है।

    शिव प्रकाश सिंह

  5. साहब इस पीएम किसान पोर्टल पर जैसा कुछ बताया और होरी मचाई जा रही है वैसा कुछ नहीं होता।मैं और हमारे आस पड़ोस के सैकड़ों किसान फॉर्मर कॉर्नर के चारों ऑप्शंस खँगाल चुके हैं।पहला ऑप्शन नया रजिस्ट्रेशन वहाँ आधार नंबर डाल कैप्चा भर जबाब मिलता है This farmer is already registered. दूसरा ऑप्शन आधार एडिट वहाँ जबाब मिलता है करैक्शन के लिए उपलब्ध नहीं अथवा करैक्शन हो चुका। तीसरा ऑप्शन स्टेटस पर जबाब मिलता है either not registered in portal or rejected due to wrong details. और चौथे ऑप्शन पर सूची मिलती है उसे देखकर अपना नाम पक्का करना बेहद मुश्किल है क्योंकि केवल नाम और जैण्डर दिया है, अगर एक नाम के दो या अधिक आदमी हैं तो कैसे निश्चय होगा कौन छूटा है कौन लिया है और फिर इस सूची में किश्त मिलने और न मिलने वाले मिल जुलमा नाम दिए हैं।अतः मेरे जैसे भुक्तभोगी भोगी तमाम किसान इस बात को बिल्कुल नहीं मानते ये बिल्कुल सफेद झूँठ खबर है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here