फसल लगाने के लिए 13,500 रुपये लेने हेतु आवेदन का आखरी दिन, इन किसानों को नहीं मिलेगा लाभ

38155
krishi input subsidy 13500 rupaye registration online last date

कृषि इनपुट अनुदान योजना के तहत 13,500 रुपये लेने हेतु आवेदन  

इस वर्ष मौसम भी गजब रहा है, पहले जिन जिलों में सुखा था वहां बाद के महीनों में बाढ़ आ गई | जिसके चलते किसानों को दोहरी मार झेलनी पढ़ी | पहले किसानों ने सूखे के कारण खरीफ फसल की बुआई नहीं कर पाए तो बाद में जो थोड़ी बहुत बुआई की गई थी वह अधिक बारिश के कारण बाढ़ में डूब गई | इससे राज्य को भी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है | खरीफ मौसम में कम बारिश के कारण बुआई पर असर पड़ने के कारण राज्य में उत्पादन घटा है तो दूसरी तरफ सूखे तथा बाढ़ से राज्य को दोहरा मुआबजा देना पड़ा है |

मौसम की मार से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य बिहार रहा है | इस राज्य में पहले बाढ़ और सुखा दोनों ने प्रभावित किया है तो बाद में सूखे वाले जिलों में बाढ़ ने प्रभावित किया है | बिहार सरकार ने पहले सुखा प्रभावित किसानों को पैसा का ऐलान किया बाद में बाढ़ प्रभावित किसानों को मुआवजे की व्यवस्था करनी पड़ी | राज्य सरकार ने एक अलग तरह की शर्ते जोड़ दी है | इसके तहत जिस किसान को सूखे का लाभ मिला है उस किसान को बाढ़ का मुवाब्जा नहीं दिया जायेगा | इसकी पूरी जानकारी किसान समाधान लेकर आया है |

सुखा प्रभावित तथा बाढ़ प्रभावित किसानों को मुआवजा ?

बिहार राज्य में मुख्यमंत्री ने सितम्बर माह में राज्य के 18 जिलों को सुखा जिला घोषित किया था | इन 18 जिलों के अंतर्गत 102 प्रखंड 896 पंचायतों रुपये की सहायता राशि दी जानी थी | इसके लिए राज्य सरकार ने 900 करोड़ रुपये जारी किये थे |

यह भी पढ़ें   जानिए जिलेवार इन जगहों पर किसान समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे अपनी उपज

आपदा विभाग द्वारा कृषि इनपुट अनुदान के लिए 772.47 करोड़ रूपये की योजना स्वीकृत की गई है | सभी जिला पदाधिकारी के सर्वेक्षण से प्राप्त प्रतिवेदन के अनुसार जुलाई माह में बाढ़ की स्थिति तथा सितम्बर माह में अत्यधिक वर्षापात / बाढ़ की स्थिति के कारण 3.96 लाख हेक्टेयर क्षेत्र क्षति तथा अगस्त माह में कम वर्षा होने से 3.89 लाख हेक्टेयर फसल क्षेत्र अनाछ्दित रह गए | इस प्रकार 7.85 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों को क्षति हुई है | किसानों को राहत पहुँचाने के लिए सिंचित क्षेत्र में 13,500 प्रति हेक्टेयर, असिंचित 6,800 प्रति हेक्टेयर, शाश्वत फसलों के लिए 18,000 प्रति हेक्टेयर तथा वैसे स्थान जहां बाढ़ के उपरान्त गाद जमा हो गई है , के लिए 12,200 रु. प्रति हेक्टेयर की दर से किसानों को आगामी रबी फसलों के लिए सहायता उपलब्ध करायी जायेगी |

कृषि इनपुट आदान योजना के तहत 13,500 रुपये लेने के लिए शर्तें ?

राज्य सरकार ने यह तय किया है की 1 नवम्बर से जो सुखा और बाढ़ प्रभावित किसानों के द्वारा आवेदन किया जा रहा है उसमें किसानों को किसी एक योजना का लाभ दिया जायेगा | इसके लिए किसानों को 20 नवम्बर के बाद अवगत कराया जायेगा | अब तक 4 लाख 47 हजार 848 किसानों ने पंजीयन कराया है | राज्य सरकार का दावा है की किसानों के तरफ से आये आवेदन को 25 दिनों में जाँच कर पैसे का भुगतान कर दिया जायेगा | इसके साथ ही यह बताया गया है की 20 नवम्बर के बाद यह तय किया जायेगा की किसानों को आवेदन के लिए डेट बढ़ाया जाएगी या नहीं |

यह भी पढ़ें   24 अप्रैल से 1 मई के दौरान अभियान के तहत किसानों को जारी किए जाएँगे किसान क्रेडिट कार्ड

कृषि इनपुट अनुदान योजना हेतु आवेदन कैसे करें ?

फसल लगाने हेतु 13,500 रुपये का अनुदान लेने के लिए किसानों से ऑनलाइन आवेदन कृषि विभाग की वेबसाईट के डीबीटी पोर्टल के माध्यम से ली जाएगी | डीबीटी पोर्टल पर आवेदन लेने की प्रक्रिया नवम्बर के 4 नवम्बर से शुरू की जा चुकी है जो अभी 30 नवम्बर 2019 तक बढ़ा दी गई है जो पहले 20 नवम्बर थी | डीबीटी पोर्टल पर पंजीकृत किसानों से प्राप्त आवेदन के आधार पर 20 दिनों के अन्दर उनके आवेदनों की जाँच कराकर आधार से लिंक बैंक खाते में राशि हस्तांतरित कर दी जायेगी |

कृषि इनपुट अनुदान योजना के तहत 13,500 रुपये लेने हेतु आवेदन

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

पिछला लेखजानिए कब से शुरू होगी 2500 रुपये प्रति क्विंटल पर धान की खरीदी
अगला लेखपशुपालकों को दिए जा रहे हैं ईनाम

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.