रबी फसलों का उत्पादन बढ़ाने के लिए किया जाएगा किसान चौपाल का आयोजन

0
426
kisan chaupal

रबी महाभियान-सह-किसान चैपाल

देश भर में खरीफ फसल की कटाई के साथ ही साथ रबी फसल की बुवाई का काम शुरू हो गया है | अगले माह से गेहूं तथा जौ फसल की बुवाई भी शुरू हो जाएगी | इसको देखते हुए बिहार सरकार प्रत्येक वर्ष कि तरह इस वर्ष भी किसान चौपाल लगाने जा रही है | इसके लिए राज्य सरकार ने आदेश जारी कर दिए हैं | किसान चौपाल के अंतर्गत राज्य तथा केंद्र सरकार के द्वारा किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं कि जानकारी के साथ खेती सम्बन्धी कई जानकारियां दी जाएगी |

धान की कटाई के बाद किसानों को पुआल (पराली) जलाने से रोकने कई लिए राज्य सरकार किसानों के बीच विशेष अभियान चला रही है | इसके लिए किसानों के गाँव में जाकर पराली जलाने से होने वाले नुकसान की जानकारी दी जाएगी | अनाज की तरह ही दलहन तथा तिलहन का उत्पादन बढ़ाने के लिए किसानों के बीच बीज का पैकेट वितरित किया जाएगा | जिससे किसान उच्च गुणवत्ता वाले बीज की बुवाई कर सके |

किसान पंचायत का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

राज्य के कृषि मंत्री ने बताया कि रबी मौसम में संचालित होने वाली योजनाओं, कृषि एवं कृषि से सम्बद्ध नवीनतम तकनीकों यथा रबी मौसम में बुवाई की जाने वाली फसलों की वैज्ञानिक, समेकित कीट प्रबंधन, समेकित पोषक तत्व प्रबंधन, फसल अवशेष प्रबंधन, समसामयिक समस्याओं की जानकारी एवं वैज्ञानिकों द्वारा समाधान, कृषक उत्पादक संगठन के गठन, आत्मा द्वारा संचालित कार्यक्रमों, प्रशिक्षण / परिभ्रमण, किसान पुरस्कार कार्यक्रम, किसान पाठशाला, किसान गोष्ठी, किसान मेला आदि संबंधित कृषकों के बीच प्रखंड एवं पंचायत स्तर तक रबी महाभियान एवं किसान चौपाल का आयोजन कर प्रभावशाली ढंग से प्रचारित–प्रसारित किया जाएगा |

यह भी पढ़ें   कल समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए पंजीयन का अंतिम दिन, फिर होगी तुलाई

प्रत्येक किसान चौपाल में 150 किसान भाग लेंगे | इससे किसान योजनाओं, नवीनतम तकनीक की जानकारी लेकर उत्पदान एवं उत्पादकता में वृद्धि कर सकेंगे, जिनसे उनकी आय में वृद्धि होगी |

किसानों को दिए जाएंगे दलहन तथा तिलहन फसलों के बीज

राज्य में तिलहन तथा दलहन का उत्पादन बढ़ाने के लिए रबी सीजन वर्ष 2021–22 के लिए 50 करोड़ से ज्यादा लागत से दलहन एवं तेलहन की मिनी किट योजना की स्वीकृति दी गई है | इसके लिए सभी जिला कृषि पदाधिकारी एवं बिहार राज्य बीज निगम को यह निर्देश दिया कि विशेष अभियान चलाकर सही समय पर उच्च गुणवत्ता के बीज किसानों को होम डिलीवरी एवं सामान्य तरीके से आपूर्ति की जाये |

रबी तथा गरमा फसलों के लिए तय किए गए लक्ष्य

बिहार सरकार ने वर्ष 2021–22 में रबी तथा गरमा फसल की बुवाई का अनुमान जारी किया है | राज्य में रबी तथा गरमा फसलों की कुल बुवाई 45.10 लाख हेक्टेयर में खाद्यान फसलों की खेती में 153.35 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है | गेहूं फसल के लिए 23 लाख हेक्टेयर में खेती से कुल 72 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है | रबी मक्का में 5 लाख हेक्टेयर में खेती के लिए कुल 42.75 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है |

यह भी पढ़ें   नई गन्ना सट्टा नीति के तहत किसान अधिकतम बेच सकेंगे 6,750 क्विंटल गन्ना

गरमा मक्का के लिए 2.75 लाख हेक्टेयर में खेती से कुल 16.50 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है | बोरो एवं ग्राम धान फसल के लिए 2.00 लाख हेक्टेयर में आच्छादन तथा 7.20 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है | जौ फसल के लिए 0.25 लाख हेक्टेयर में खेती से कुल 0.35 लाख मैट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है | रबी/गरमा वर्ष 2021–22 में तेलहन का 2.20 लाख हेक्टेयर में खेती के लिए 3.90 लाख मैट्रिक टन तेलहन उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.