ओला-उबर ऐप की तरह कम दरों पर किसान घर बैठे किराये पर ले सकेगें महंगे कृषि यंत्र इस ऐप से

kisan kiraye par krishi yantra lene ke liye app

इस ऐप से घर बैठे खेती के कार्यों के लिए किराये पर लें कृषि यंत्र

भारत में अधिकांश किसान गरीब हैं वह कृषि यंत्र खरीदने में असमर्थ हैं परन्तु आज के समय में आधुनिक खेती करना सभी किसानों के लिए अतिआवश्यक है अन्यथा किसानों की आर्थिक हालत और ख़राब हो जाएगी | सरकार का प्रयास है की कोई भी किसान पैसों की कमी के चलते आधुनिक एवं महंगे कृषि यंत्रों से वंचित न रहे इसके लिए सरकार कस्टम हायरिंग सेंटर योजना लेकर आई थी जो सभी राज्यों में लागू है | इसके तहत हर गाँव में 1 आधुनिक कृषि यंत्रों से युक्त केंद्र खोलना है जिससे किसान इन कृषि यंत्रों को किराये पर लेकर उपयोग कर सकें |

40,000 कस्टम हायरिंग सेण्टर एक एंड्राइड एप में

भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, ने सभी कृषि मशीनरी कस्टम सेवा प्रदाताओं और किसानों / उपयोगकर्ताओं को एक साझा मंच पर लाने के लिए एक एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म के अनुकूल, बहुभाषी मोबाइल ऐप “सीएचसी- फार्म मशीनरी” विकसित किया है जिसके माध्यम से विभिन्न राज्यों के स्थानीय किसान फार्म मशीनरी बैंक/कस्टम हायरिंग सेंटर जैसे सभी कस्टम सेवा प्रदाताओं द्वारा दी जाने वाली सुविधाओ का उपयोग बिना किसी कंप्यूटर सपोर्ट सिस्टम के कर सकते है|

यह भी पढ़ें   समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए किसान इस तरह करें स्लॉट की बुकिंग

यह मोबाइल एप्लिकेशन पहले से ही कस्टम हायरिंग सेवा केंद्रो की तस्वीर/भौगोलिक स्थिति को  उसके भू-निर्देशांक की सटीकता के तथा उसमे उपलब्ध कृषि मशीनरी तस्वीरों को  अपलोड करता है । अभी तक इस  इस मोबाइल एप पर 40,000 से अधिक कस्टम हायरिंग सर्विस सेंटर उनमे उपलब्ध , 1,20,000 से अधिक कृषि मशीनरी को किराये पर दिये जाने हेतू पंजीकृत हो चुके हैं।

किसान समाधान एंड्राइड ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

6 टिप्पणी

  1. विभाग के अधिकारियों के jfarm services ka कंपनी के अधिकारियों के मेरा अनुरोध है सप्लाई रोका पास लगाया जाए नहीं तो प्रशासन सप्लाई रोको किसानों का काम करने में दिक्कत कर रहा है उनको रोककर गाड़ी की फोटो भेजो ए जाती है उसके बाद में नाम पता नोट करके उनके ऊपर जुर्माना लगाया जा रहा है हमारा आपसे आग्रह है की सपना एवं का पा सप्लायर ओं का paas आ जाए नहीं तो कोई सप्लायर काम करने को तैयार नहीं होगा यह घटना मेरे साथ हो गई है प्रशासन कुछ सुनता नहीं है हमारा निवेदन है की अगर किसानों का कार्य सरकार के माध्यम से होना है तो कंपनी को सप्लाई रोका साथ देना होगा नहीं तो कोई सप्लायर काम करने को राजी नहीं होगा धन्यवाद

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें