2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लिए कृषि निर्यात नीति को मिली मंजूरी

1
993
views

कृषि निर्यात नीति 2018

केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठकमें कृषि निर्यात नीति 2018 को मंजूरी  दी गई। कृषि निर्यात नीति 2018 के माध्‍यम से कृषि उत्‍पादों के निर्यात को प्रोत्‍साहन मिलेगा जो 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने केसरकार के लक्ष्‍य को हासिल करने बड़ी भूमिका निभाएगी। नयी नीति के माध्‍यम से कृषिउत्‍पादों का निर्यात दोगुना करने में भी मदद मिलेगी और भारतीय किसान और उनके उत्‍पाद वैश्‍विक मूल्‍य श्रृंखला का हिस्‍सा बन सकेंगे। इसके साथ ही इस निति की निगरानी और और क्रियान्‍वयन के लिए नोडल एजेंसी के रूप में वाणिज्‍य मंत्रालय की देखरेख में एकनिगरानी फ्रेमवर्क तैयार करने का भी प्रस्‍ताव किया गया जिसमें विभिन्‍न मंत्रालयों/ विभागों तथा संबंधित राज्‍यों के प्रतिनिधि होंगे।

कृषि नीति के उद्धेश्‍य:-

  • 2022 तक कृषि निर्यात को मौजूदा 30 अरब डॉलर से बढ़ाकर 60 अरब डॉलर करना तथा एक टिकाऊ व्‍यापार नीति केमाध्‍यम से अगले कुछ वर्षों में इसे 100 अरब डॉलर तक पहुंचाना।
  • निर्यात किए जाने वाले कृषि उत्‍पादों में विभिन्नता लाना तथा उनके लिए नए बाजार तलाशना और इसके साथ ही जल्‍दी खराब होने वाले कृषि उत्‍पादों सहित अन्‍य किस्‍म के कृषि उत्‍पादों को विभिन्‍न तरीके से इस्‍तेमाल करने लायक बनाकर उनका मूल्‍य संवर्धन करना।
  • स्‍वदेशी, नवीन, जैविक,स्‍थानीय प्रजाति, पारंपरिक और गैर-पारंपरिक कृषि उत्‍पादों के निर्यात को बढ़ावा देना।
  • कृषि उत्‍पादों के लिए बाजार पहुंच कोआसान बनाने के लिए एक संस्‍थागत प्रणाली विकसित करना तथा इनके व्‍यापार के रास्‍तेमें आने वाली बाधाओं को दूर करना और इनसे जुड़े पादप-स्‍वच्‍छता के मामलों को निपटाना।
  • वैश्विक मूल्‍य श्रृंखला से जुड़कर कृषि उत्‍पादों के वैश्विक व्‍यापार में भारत की हिस्‍सेदारी को बढ़ाकर जल्‍द ही दोगुना करना। 
  • घरेलू किसानों को वैश्विक बाजारों में निर्यात के अवसर उपलब्‍ध कराना।
यह भी पढ़ें   किसानों की आय दोगुनी करने के लिए महत्वपूर्ण मुद्दे और उनके समाधान पर सम्मलेन

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here