सम्मान निधि योजना के तहत 4.91 करोड़ किसान परिवारों को दिए गए 9826 करोड़ रुपये

29
15356
pm kisan samman nidhi yojna kisht

पीएम सम्मान निधि योजना में 4.91 करोड़ किसानों को किश्त जारी

सम्पूर्ण भारत देश में अभी कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने लिए सरकार के द्वारा लॉकडाउन किया गया है | लॉक डाउन के चलते गरीब लोगों के पास पैसे की कमी को देखते हुए केंद्र सरकार ने “प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना” के तहत 1.70 लाख करोड़ रूपये के राहत पैकेज की घोषणा की है | इसके साथ ही किसानों के लिए पहले से चल रही प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसान परिवारों सहायता देने के लिए सरकार ने अप्रैल माह के पहले सप्ताह में ही 2000 रुपये की किश्त देने की घोषणा की थी | जिससे किसानों के पास भी पैसों की कमी न हो | केंद्र सरकार इसके तहत 8.7 करोड़ किसान परिवार को अप्रैल माह के पहले सप्ताह तक किश्त देगी जिसमें से सरकार ने 24 मार्च से 03 अप्रैल तक लगभग 4.91 करोड़ किसानों को इस वित्त वर्ष की किश्त जारी कर दी है |

4.91 करोड़ किसान परिवारों को दिए गए 9826 करोड़ रुपये

देश के केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने यह जानकारी दी है उन्होंने कहा की कोरोना वायरस से निपटने की दिशा में मोदी सरकार द्वारा किसानों को एक और राहत दी गई है | प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (पीएम-किसान) योजना के अंतर्गत लॉकडाउन अवधि 24 मार्च 2020 से 03 अप्रैल 2020 के दौरान, लगभग 4.91 करोड़ किसान परिवारों के बैंक खातों में सीधे डी.बी.टी. के माध्यम से 9826 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं। साथ ही उन्होंने यह जानकारी भी दी है की जल्द ही अन्य किसानों के बैंक खतों में भी किश्त जमा कर दी जाएगी | योजना के तहत अभी कुल पंजीकृत लाभार्थियों की संख्या लगभग 8.7 करोड़ है |

जैसा कि योजना के अनुसार वर्ष 2019 से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत प्रत्येक किसान परिवार को तीन किस्तों में 6,000 रुपये दिए जाते है | योजना का पहला वर्ष पूरा हो जाने के बाद दूसरा वर्ष शुरू हो गया है | अभी तक देश में लगभग 9 करोड़ किसान परिवार इस योजना के तहत पंजीकृत हैं जिन्हें 2 हजार रुपये की किश्त दी जा रही है | अब जो किसानों को किश्त दी जा रही है वह वित्तीय वर्ष 2020-21 के अंतर्गत है | जिन किसानों को अभी किश्त नहीं मिली है वह अभी इन्तजार करें सभी लाभार्थी किसानों को जल्द ही किश्त हस्तांतरित कर दी जाएगी |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

29 COMMENTS

    • जी सर | आपको अपने ब्लाक या जिले से ही करना होगा | वहीँ से डाटा अप्रूव होकर केंद्र सर्कार को भेजा जाता है |

  1. Sir mai 1 year se paresan hu maine jansunvai pr bhi complend ki thi to unhone btaya ki aapka data पात्र से अपात्र हो गया है इसलिए आपका डाटा शो नहीं कर रहा है आपका डाटा फिर से पात्र किया जाएगा तब शो होगा pm portal pr

    • जी सर आपको जिले या ब्लाक से ही सुधार हेतू आवेदन देना होगा| जब तक वहां से अप्रूव नहीं होता तब तक पैसा नहीं आएगा |
      PM-Kisan Helpline No. 155261 / 1800115526 (Toll Free), 0120-6025109

  2. sir mera registration no 812383073847683 ye hai mera agriculture site pr ragestration show kr rha hai but pm portal pr nhi us pr to ether details to not registered likh kr aa rha hai

    • PM-Kisan Helpline No. 155261 / 1800115526 (Toll Free), 0120-6025109 पर कॉल करें | आ जाएंगे पैसे भी |

  3. अभी तक एक भी किस्त नही आई हमने दो बार फॉर्म अपने तहसील में जमा करा दिए और फिर कहा कि जिस के नहीं आए है बो लोग ऑनलाइन करा दो हमने ऑनलाइन करा दिया अब स्टेट पेंडिंग कहता है आगे कुछ नहीं हो रहा हम किसी से भी कहते है कोई कुछ जवाब नहीं देता साहिब हमारी भी अगर सुनवाई हो जाए तो जरा देख लेना हम भी गरीब किसान हैं

    • सर जिले में समपर्क करें | पहले जिले से अप्रूव होगा उसके बाद राज्य से |

    • यदि आधार कार्ड सत्यापित हो गया है तो आ गई है |

    • आवेदन की स्थिति देखें | यदि कोई गलती हो तो सुधार करवाएं |https://www.pmkisan.gov.in/

    • ऑनलाइन आवेदन की स्थिति देखें यदि कोई गलती नहीं हुई है तो आवेदन में सुधार करवाएं |

    • ऑनलाइन आवेदन की स्थिति देखे कोई गलती तो नहीं है |PM-Kisan Helpline No. 155261 / 1800115526 (Toll Free), 0120-6025109

  4. 2018,-19से अब तक मेरव गांव में 20 से ज्यादा लोगो को सम्मान निधि नही मिली है जिसमे में भी शामिल हु

    • दी गई लिंक पर देखें https://www.pmkisan.gov.in/ |सभी मिलकर ब्लाक या जिले में सम्पर्क करें
      PM-Kisan Helpline No. 155261 / 1800115526 (Toll Free), 0120-6025109

    • आप जिले से सही करवाएं | अपना आधार कार्ड बैंक एकाउंट से लिंक करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here