ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का होगा सर्वे, किसानों को दिया जायेगा मुआवजा

19991
crop damage compensation

ओलावृष्टि से फसल नुकसान का मुआवजा

पिछले दो दिनों से देश के विभिन्न राज्यों में बारिश एवं ओलावृष्टि का दौर जारी है, जिसके चलते किसानों की खेत में खड़ी रबी फसलों को काफी नुकसान हुआ है | ओलावृष्टि में किसानों की गेहूं, चना, मटर ,लहसुन और मेथी की फसलों में खासा नुकसान हुआ है। फसल को हो रहे नुकसान की भरपाई किसानों को करने के लिए सरकार ने सर्वे करने के निर्देश दे दिए हैं जिससे किसानों को समय पर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत भरपाई की जा सके |

मध्यप्रदेश के किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने ओला-वृष्टि के कारण किसानों की फसलों को हुए नुकसान का सर्वे करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि किसानों की शिकायत से पहले उनके खेतों में जाकर सर्वेक्षण दल द्वारा सर्वे कराया जाये। कृषि मंत्री श्री पटेल ने किसानों को आरबीसी 6 (4) और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में लाभान्वित करने को कहा। उन्होंने कहा कि किसानों की फसलों की क्षति का आकलन ठीक ढंग से किया जाना सुनिश्चित करें। प्रत्येक किसान को संतुष्ट करें। किसानों को आश्वस्त किया गया कि क्षति का मुआवजा उन्हें उपलब्ध कराया जायेगा।

यह भी पढ़ें   बड़ी खबर: सरकार डीएपी की एक बोरी पर अब देगी 2501 रुपए की सब्सिडी

सर्वे की होगी विडियोग्राफी

ओला-वृष्टि के कारण किसानों को हुए नुकसान के सर्वे के निर्देश अधिकारियों को दे दिये गये हैं। फसलों के नुकसान की क्षतिपूर्ति आरबीसी 6 (4) और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में की जायेगी। इस संबंध में बीमा कम्पनियों को भी निर्देश दिये जायेंगे। सर्वे की वीडियोग्राफी अनिवार्य रूप से की जायेगी। पंचनामे पर किसान के हस्ताक्षर भी करवाए जाएंगे ।

पिछला लेखफसल सहायता योजना के तहत अनुदान प्राप्त करने हेतु आवेदन करें
अगला लेखकिसानों को अब आसानी से मिलेगा सोलर प्लांट लगाने के लिए बैंक से लोन

11 COMMENTS

    • सर फसल बीमा कम्पनी के टोल फ़्री नम्बर पर या स्थानीय कृषि अधिकारी, लेखपाल आदि को सूचित कर नुक़सानी का सर्वे कराएँ

    • सर जिस बीमा कम्पनी से बीमा है उसके टोल फ्री नम्बर पर कॉल करें या स्थानीय कृषि या राजस्व विभाग में सूचना देकर नुकसान फसलों का सर्वे कराएँ |

    • सर जिस बीमा कम्पनी से बीमा है उसके टोल फ्री नम्बर पर कॉल करें या स्थानीय कृषि या राजस्व विभाग में सूचना देकर नुकसान फसलों का सर्वे कराएँ |

    • सर जिस बीमा कम्पनी से बीमा है उसके टोल फ्री नम्बर पर कॉल करें या स्थानीय कृषि या राजस्व विभाग में सूचना देकर नुकसान फसलों का सर्वे कराएँ |

    • सर जिस कंपनी से फसल बीमा है उसके टोल फ्री नम्बर या बैंक में या स्थानीय कृषि अधिकारीयों को सूचित कर नुकसानी का सर्वे कराएँ |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.