रबी फसल की बुवाई से पहले जान लें उनका क्या भाव मिलेगा

0
780
views

रबी फसल की बुवाई से पहले जान लें उनका क्या भाव मिलेगा

खरीफ फसल का मौसम ख़त्म होते ही किसान भाई रबी फसलों की तैयारी में लग जाते है और अधिकांश किसान वही फसल लगाते हैं जो लगाते आ रहें हैं और अंत में उसे वह उसी भाव पर बेचते भी हैं | किसान भाई पहले रबी फसलों का इस वर्ष उन्हें क्या भाव दिया जायेगा यह जानने के बाद ही फसल का चुनाव करें जिससे वह अधिक लाभ ले सकें | किसान फसलों के समर्थन मूल्य के अनुसार अपनी फसल की बुआई करें, केंद्र सरकार ने रबी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य जारी कर दिया है |  इस न्यूनतम समर्थन मूल्य पर देश के किसान वर्ष 2018 – 19 में अपनी रबी फसल को बेच सकते हैं | किसान फसलों के दाम को जानकर ही फसल का चुनाव करें |

रबी फसल समर्थन मूल्य 2018-19

जिन्स (उचित औसत गुणवत्ता )
न्यूनतम समर्थन मूल्य 2018-19
गेहूं 1840  रूपये प्रति क्विंटल
जौ 1440  रूपये प्रति क्विंटल
चना 4620  रूपये प्रति क्विंटल
मसूर (लेंटिल) 4475  रूपये प्रति क्विंटल
रेपसीड / सरसों 4200  रूपये प्रति क्विंटल
कुसुम 4945  रूपये प्रति क्विंटल

इस वर्ष सरकार ने फसलों की खरीद को लेकर नई योजना की शुरुआत की है

देश के कृषि मंत्री ने आश्वस्त किया है की किसानों के रबी फसल को खरीदने की क्षमता है | इस वर्ष  सरकार द्वारा नई समग्र योजना प्रधानमंत्री अन्नदाता आय संरक्षण अभियान (पीएम-आशा)’ की घोषणा करने के परिणामस्वरूप अब एक ऐसी सुदृढ़ व्यवस्था उपलब्ध हो गई है, जिससे किसानों को एमएसपी अब पूर्ण रूप से प्राप्त होगा । इस समग्र योजना में तीन उप-योजनाएं यथा मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस), मूल्य अंतर भुगतान योजना (पीडीपीएस) और निजी खरीद एवं स्टॉकिस्ट योजना (पीपीएसएस) शामिल हैं |

जिन्हें प्रायोगिक (पायलट) आधार पर शुरू किया गया है। सरकार ने 16,550 करोड़ रुपये की अतिरिक्त गारंटी देने का निर्णय लिया है जिसके फलस्वरूप कुल सरकारी गारंटी अब 45,550 करोड़ रुपये हो गई है। इसके अलावा, उपज खरीद परिचालन के लिए बजट प्रावधान भी बढ़ा दिया गया है और पीएम-आशा के कार्यान्वयन के लिए 15,053 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। केन्द्र एवं राज्यों की खरीद एजेंसियां जैसे कि भारतीय खाद्य निगम, भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ लिमिटेड, छोटे किसान कृषि कारोबार कंसोर्टियम आगे भी रबी फसलों के लिए किसानों को मूल्य संबंधी समर्थन प्रदान करते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here