मूंग एवं मूंगफली समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए पंजीयन का एक और मौका, जाने कब किया जाएगा भुगतान

7
7703
moong moongfali tualai panjiyan or paisa

मूंगफली समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए पंजीयन

खरीफ फसल की खरीदी सभी राज्यों में चल रही है किसान अपनी उपज बेचने के लिए खरीदी केन्द्रों पर ले जा रहें हैं परन्तु कुछ किसान ऐसे भी हैं जिनका पंजीकरण अभी तक नहीं हुआ है ऐसे सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अपने फसल को नहीं बेच पायेंगे | राजस्थान सरकार ने किसानों को मूंग तथा मूंगफली फसल समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए एक बार फिर पंजीयन का मौका दे रही है | इसके लिए किसान 3 जनवरी 2020 से राज्य के 16 जिलों में पंजीयन करवा सकते हैं | सबसे बड़ी बात यह है कि इस बार सरकार किसानों को उपज खरीदी के 4 दिन में ही भुगतान कर रही है | किसान समाधान इसकी पूरी जानकारी लेकर आया है |

किन जिलों में मूंग तथा मूंगफली के लिए पंजीयन किया जा रहा है ?

राजस्थान के 16 जिलों में मूंग तथा मूंगफली के लिए पंजीयन को दुबारा शुरू किया गया है | यह जिलें इस प्रकार है – अजमेर, भीलवाडा, बीकानेर, चुरू, दौसा, श्रीनगर, हनुमानगढ़, जयपुर, जालोर, जोधपुर, नागौर, पाली, सीकर, टोंक, झुंझुंनू एवं जैसलमेर | इन सभी जिलों में 130 खरीदी केन्द्रों पर पंजीयन सीमा को 10 प्रतिशत तक बढ़ाया गया है |

यह भी पढ़ें   इस विधि से गेहूं की बुआई करने पर सरकार दे रही है 3280 रुपये प्रति एकड़ की सब्सिडी

मूंग एवं मूंगफली पंजीयन कब से शुरू किया जायेगा ?

3 जनवरी 2020 शुक्रवार से इन जिलों में पंजीयन पुन: प्रारम्भ हो जायेगा | इन 16 जिलों में से जालोर एवं दौसा केन्द्रों पर केवल मूंगफली का पंजीयन तथा शेष 14 जिलों में किसान मुंग एवं मूंगफली दोनों का पंजीयन करावा सकते हैं |

कितने किसानों को होगा लाभ

सहकारिता विभाग के अनुसार इस निर्णय से मुंग एवं मूंगफली के 130 केन्द्रों पर 17 हजार 787 किसानों को फायदा मिलेगा | इसमें मुंग के 88 केन्द्रों पर 11 हजार 708 तथा मूंगफली के 42 केन्द्रों पर 6 हजार 79 किसनों को पंजीयन होगा |

अभी कितने किसानों का पंजीयन हो चूका है ?

राज्य सहकारिता विभाग के प्रमुख श्री नरेश पाल गंगवार ने बताया की राज्य में 2 लाख 55 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर मुंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली के लिए पंजीयन करवा लिया है | 328 खरीदी केंद्र स्थापित किये गये हैं | मुंग के लिए 1 लाख 32 हजार 260 किसानों ने पंजीकरण कराया है |

किसी भी समस्या पर यहाँ सम्पर्क करें 

किसानों की समस्या के समाधान हेतु राजफैड स्तर पर ट्रोल फ्री हेल्पलाईन नंबर 1800-180-6001 पर प्रात: 9 से 7 बजे तक किसान अपनी समस्याओं को हेल्पलाईन नंबर पर दर्ज करा सकते हैं अथवा अपनी शिकायत/समस्या को लिखित में राजफैड मुख्यालय में स्थापित काल सेंटर पर [email protected] पर मेल भेज सकते हैं |

यह भी पढ़ें   इस वित्त वर्ष में सब्सिडी पर कृषि यंत्र लेने का अंतिम मौका

इस बार खरीदी के 4 दिनों में किया जाएगा भुगतान

सहकारिता विभाग के अनुसार किसानों को शीघ्र भुगतान हो इसके लिए वेयर हॉउस ई–रिसिप्ट सेवा प्रारंभ की गई हैं | यह पहली बार हुआ है कि जब किसान द्वारा उपज बेचान करने के 4 दिवस के भीतर ही भुगतान सीधा उसके खाते में हो रहा है उन्होंने बताया कि जिसमें से मूंग के लिए 1 लाख 6 हजार 919 और मूंगफली के लिए 69 हजार 426 किसानों को दिनांक आवंटित की जा चुकी है |

अभी तक कितने किसानों का मुंग तथा मूंगफली की खरीदी किया गया है ?

राज्य में मूंग तथा मूंगफली की 228 केन्द्रों पर 31 दिसम्बर तक 1 लाख 13 हजार 897 किसानों से 2 लाख 24 हजार 577 मीट्रिक टन की  मूंग एवं मूंगफली की खरीदी हो चुकी है | जिसकी राशि 1376.08 करोड़ रूपये हैं | उन्होंने बताया कि 14 हजार 014 किसानों को 1137.52 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चूका है |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

7 COMMENTS

    • जी आपको जहाँ भाव सही मिले वहां बेचे | सरकारी भाव तो न्यूनतम होते हैं की हर किसान को कम से कम उसकी उपज के इतने भाव मिले |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here