गेहूँ के अधिक उत्पादन के लिये लगाये नई विकसित किस्म एचडी 3226

10
25853
views
genhu ki nai viksit kism HD 3226 ki kheti kaise kare

गेहूँ की नई विकसित किस्म एचडी 3226 की खेती

रबी की फसल में सबसे महत्वपूर्ण फसल है गेहूँ की खेती की यह भारत में लगभग देश के सभी राज्यों में होती है अभी हाल ही में आनुवंशिकी संभाग, भाकृअनुप-भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली द्वारा किसानों के लिए गेहूं नई किस्म विकसित की गई है जिसका नाम है HD 3226 | इस किस्म को इस तरह से विकसित किया गया है की इसमें कम से कम रोग लगें ताकि किसानों को गेहूं की फसलों में लगन्रे वाले रोग से नुकसान कम उठाना पढ़े | किसान समाधान आपके लिए किस्म एचडी 3226 की खेती की जानकारी लेकर आया है |

गेहूँ की किस्म एचडी 3226 की खेती

सिंचित, समय पर बोई गई शर्तों के तहत उत्तर पश्चिमी मैदान क्षेत्र में पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान (कोटा और उदयपुर संभाग को छोड़कर), पश्चिमी उत्तर प्रदेश (झांसी डिवीजन को छोड़कर), जम्मू और कश्मीर का जम्मू और कठुआ जिला, ऊना जिला, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड का पनोटा घाटी (तराई क्षेत्र) में वाणिज्यिक खेती के लिए जारी किया गया है।

यह भी पढ़ें   किसानों के लिए चल रही इन योजनाओं के लिए धनराशि जारी

गेहूँ की किस्म एचडी 3226 की मुख्य विशेषताएं

  • पीले, भूरे और काले जंग के लिए अत्यधिक प्रतिरोधी
  • कर्नाल बंट, पाउडर की तरह फफूंदी, श्‍लथ कंड और पद गलन रोग के लिए अत्यधिक प्रतिरोधी

गेहूं की किस्म HD 3226 से प्राप्त उपज

एचडी 3226 की औसत उपज 57.5 क्विंटल प्रति हैक्टेयर है जबकि आनुवंशिक उपज क्षमता 79.60 क्विंटल प्रति हैक्टेयर है।

गुणवत्ता मापदंड

  • उच्च प्रोटीन सामग्री (12.8% औसत)
  • उच्च शुष्क और गीला लासा
  • बेहतर आकार का अनाज, उच्च अवसादन मूल्य, उच्च निष्कर्षण दर
  • औसत जस्ता सामग्री 36.8 पीपीएम
  • HD 3226 में उच्चतम रोटी गुणवत्ता अंक (6.7) और पाव रोटी के साथ परफेक्ट ग्लू -1 अंक (10) है जो विभिन्न उपयोगी उत्पादों के लिए उपयुक्तता दर्शाता है।

एचडी 3226 बुवाई एवं सिंचाई कैसे करें ?

  • बीज दर (किलो/हेक्टेयर): 100
  • बुवाई का समय: 05-25 नवंबर

खाद (उर्वरक) कब एवं कितना लगेगा (किलो/हेक्टेयर):

नाइट्रोजन: 150 (यूरिया @ 255 किलोग्राम/हेक्टेयर); फास्फोरस: 80 (डीएपी @ 175 किलोग्राम/हेक्टेयर) पोटाश: 60 (एमओपी @ 100 किलोग्राम/हेक्टेयर)

  • उर्वरक अनुप्रयोग का समय: बुवाई के समय फास्फोरस और पोटाश की पूरी खुराक के साथ 1/3 नाइट्रोजन; शेष नाइट्रोजन पहली और दूसरी सिंचाई के बाद समान रूप से लागू होती है
  • सिंचाई: बुवाई के 21 दिन बाद पहली सिंचाई और बाद में आवश्यकतानुसार सिंचाई करें
  • खरपतवार नियंत्रण: बुवाई के 27-35 दिन बाद कुल @ 40 ग्राम/हेक्टेयर; बुवाई के 27-35 दिनों के भीतर @ 400 ग्राम/हेक्टेयर
  • अधिकतम उपज: अधिकतम उपज के लिए किस्म को अक्टूबर के दूसरे पखवाड़े में बोना चाहिए। उपयुक्त नाइट्रोजन प्रबंधन और दो स्प्रे का उपयोग टैंक मिक्स-क्लोर्मेक्वाट क्लोराइड (लियोसीन) @ 0.2% + टेबुकोनाजोल (फॉलिकुर 430 एससी) @ 0.1% व्यावसायिक उत्पाद खुराक के रूप में।
यह भी पढ़ें   अच्छे फल के लिए गर्मी में आम के पौधों की इस तरह करें देखभाल

किसान बीज सम्बन्धी अधिक जानकारी के लिए पूसा सहायता केंद्र – 011-25841670 / 25841039 , पूसा AgriCom: (1800-11-8989 टोल फ्री) पर कॉल कर सकते हैं |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

10 COMMENTS

    • पूसा सहायता केंद्र – 011-25841670 / 25841039 , पूसा AgriCom: (1800-11-8989 टोल फ्री) नम्बर पर कॉल करें |

  1. पीएम किसान सम्मान निधि का फार्म अपलोड होने के बाद भी किसान सम्मान निधि के पैसे नहीं आ रहे हैं क्या किया जाए

    • जी यदि जानकारी सही दी है तो आ जाएंगे अभी बहुत से किसानों को राशि नहीं दी गई है |

    • जी बीज वहीँ से मिलेगा ICAR द्वारा ही विकसित किया गया है | बहुत से किसान ले भी चुके हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here