back to top
शनिवार, जून 15, 2024
होमकिसान समाचार3100 रुपए प्रति क्विंटल के भाव पर धान खरीदेगी सरकार, किसानों...

3100 रुपए प्रति क्विंटल के भाव पर धान खरीदेगी सरकार, किसानों को प्रति एकड़ मिलेगा 23,000 रुपए का फायदा

किसानों से धान की खरीद में की गई वृद्धि

धान की खेती करने वाले किसानों के लिए राहत भरी खबर आई है। छत्तीसगढ़ में बनी नई सरकार ने किसानों से धान खरीदी के लिए नए आदेश जारी कर दिए हैं। छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों से समर्थन मूल्य पर 21 क्विंटल धान प्रति एकड़ के मान से क्रय करने का आदेश जारी कर दिया है। मुख्यमंत्री विष्णु देव साय ने कहा है कि छत्तीसगढ़ सरकार जनता से किए सभी वादे को पूरा करेगी। हम राज्य के किसानों से 3100 रुपये प्रति क्विंटल के मान से धान की खरीदी करेंगे।

बता दें कि छत्तीसगढ़ में अभी धान की खरीदी का काम चल रहा है। राज्य में इस साल 130 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी किया जाना है। सरकार ने योजना का लाभ उन किसानों को भी देने का फैसला लिया है जो किसान अपनी धान समर्थन मूल्य पर बेच चुके हैं।

किसानों को प्रति एकड़ मिलेगा 23,355 रुपए का लाभ

सरकार के अनुसार राज्य में अब तक किसानों से समर्थन मूल्य पर मात्र 15 क्विंटल धान की खरीदी की जा रही थी, जिसे सरकार ने बढ़ाकर 21 क्विंटल कर दिया है। धान की खरीदी 3100 रुपये प्रति क्विंटल के मान से होने पर किसानों को प्रति एकड़ धान बेचने पर लगभग 23,355 रुपए का अधिक लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़ें   किसानों के लिए वरदान है सुपर सीडर कृषि यंत्र, सरकार खरीदने के लिए दे रही है सब्सिडी

इस विषय में जानकारी देते हुए सरकार ने बताया कि पिछली सरकार द्वारा किसानों से प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान की खरीदी और चार किश्तों में इनपुट सब्सिडी के कुल भुगतान को मिलाकर अधिकतम 41,745 रुपए का भुगतान किया जा रहा था। वहीं अब किसानों से 3100 रुपए प्रति क्विंटल के मान से 21 क्विंटल धान की खरीदी की जाएगी। इससे किसानों को प्रति एकड़ का धान बेचने पर कुल 65,100 रुपए का भुगतान होगा, जो उन्हें धान खरीदी के एवज में अब तक हो रहे भुगतान से 23,355 रुपए अधिक है।

25 दिसंबर के दिन किसानों को दिया जाएगा बोनस

मुख्यमंत्री ने कहा है कि किसानों को धान बेचने में किसी भी तरह की दिक्कत ना हो, इसके लिए सभी खरीदी केन्द्रों में बेहतर और पर्याप्त इंतजाम किए जाने के भी निर्देश दिए गये हैं। उन्होंने कहा कि 25 दिसम्बर को पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न स्व.अटल बिहारी वाजपेयी जी की जन्म-जयंती को राष्ट्रीय सुशासन दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। 25 दिसम्बर को राज्य के किसान भाईयों को 2 साल के धान की बकाया बोनस राशि के रूप में 3716 करोड़ 38 लाख 96 हजार रुपए का भुगतान किया जाएगा ।

यह भी पढ़ें   किसान भाई इस तरह करें नकली और मिलावटी उर्वरकों की पहचान

जिन किसानों ने धान बेच दी है उन्हें भी मिलेगा लाभ

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग द्वारा प्रति एकड़ धान खरीदी की अधिकतम सीमा 21 क्विंटल लिंकिग के साथ होगी। ऐसे किसान जो अपना धान पूर्व में समर्थन मूल्य पर बेच चुके हैं, उन्हें भी उक्त मात्रा के अंतर्गत धान बेचने की सुविधा दी जाएगी।

यहां यह उल्लेखनीय है कि राज्य में बीते 01 नवम्बर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की जा रही है। समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए 26 लाख 86 हजार किसानों ने अपना पंजीयन कराया है। पंजीकृत धान का रकबा 33 लाख 15 हजार हेक्टेयर है। समर्थन मूल्य पर अब तक लगभग सवा 9 लाख किसान 42.20 लाख मीट्रिक टन धान समर्थन मूल्य पर बेच चुके है। यह आदेश जारी होने के बाद धान बेच चुके किसान भी 21 क्विंटल प्रति एकड़ निर्धारित मात्रा का लाभ मिलेगा।

15 टिप्पणी

  1. BJP सरकार की जुमला को किसान अभी से झेल रहे हैं आने वाले पांच साल में और कितना झेलाई कराएगा ये तो अनुमान लगा सकते हैं, 21 कुंटल अभी किए अच्छी बात है पर हमने तो 20 कुंटल के हिसाब से बेच दिया है, और अगर बाकी बचे हुए को बेचने जाते है तब तक तो खरीदी ही बंद हो जाएगी, क्योंकि 31 जनवरी तक ही धान खरीदा जाएगा और बचे हुए के लिए हम अभी टोकन काटने जाते है तो हमको जगह नहीं मिल पाएगा, टोकन में भीड़ बहुत है बीच में पानी गिरने के कारण यदि 31 जनवरी से समय बढ़ाया जाएगा तब ही संभव होगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर