किसानों को गोबर गैस प्लांट के लिए दी जा रही है 25,000 रुपये की सब्सिडी

0
2838
views

किसानों को गोबर गैस प्लांट के लिए दी जा रही है 25,000 रुपये की सब्सिडी

गोबर गैस प्लांट की उपयोगिता किसानों के जीवन में बहुत ज्यादा महत्त्व है | इसका उपयोग इंधन , गोबर गैस, तथा उर्वरक के रूप में किया जाता है | अभी तक किसान गोबर को खुले में रख देते हैं, जो सुख जाने पर खेतों में बिखेर दिया जाता है | इससे किसानों के खेतों में अनेक तरह की बीमारियाँ फैल जाती है क्योंकि सूखे गोबर में अनेक तरह के कीड़े लग जाते हैं | जो फसल तथा खेत के लिए नुकसान दायक होते है |

यदि किसान गोबर से इंधन गैस के रूप में इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें दो लाभ होगें | पहला यह की उन्हें घरों में इंधन के लिए गैस उपलब्ध हो जाएगी एवं बचा हुआ गोबर को सुखाने पर जैविक खाद के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है | पहले गोबर गैस का उपयोग गैस टंकी से सीधे चूल्हे को जोड़ कर किया जाता था | इसके कारण गोबर गैस संयंत्र घर के पास लगाना पड़ता था |

यह भी पढ़ें   मध्यप्रदेश में फसल पंजीयन की अवधि बढ़ी

अब इसे गैस सिलेंडर में भी भरा जा सकता है | जिसे एक स्थान से दुसरे स्थान तक ले जा कर खाना बनाने तथा रौशनी के लिए कर सकते है | इसके लिए प्लांट को घर से दूर स्थापित कर सकते हैं | पहले इस सयंत्र को स्थापित करने के लिए अधिक खर्च पड़ता था लेकिन अब छोटे स्तर पर भी किया जा रहा है |

गोबर गैस प्लांट सब्सिडी

इसके लिए बिहार सरकार 2 घनमीटर गोबर गैस संयंत्र की स्थापना करने पर अनुदान दे रही है | दो घन मीटर के गोबर गैस संयंत्र से माह में करीब 1.5 से 2 एल.पी.जी. सिलेंडर के बराबर गैस प्राप्त होती है | इस योजना के अंतर्गत ईच्छुक किसान प्री – फेब्रिकेटेड , दीनबन्धु / के.वि.आई.सी. माडल के 2  एवं 3 घनमीटर संयंत्र की स्थापना पर लागत मूल्य का 50 प्रतिशत क्रमश : अधिकतम 21,000 रु. एवं 25,000 रु. अनुदान देय होगा | गोबर गैस संयंत्र स्थापना में किसानों को सहयोग देने हेतु गैर सरकारी संस्था / प्रतिष्ठानों को कृषि विभाग द्वारा सूचीबद्ध किया गया है , जिसकी सूचि सभी जिलों को उपलब्ध कर करा दी गई है |

यह भी पढ़ें   पॉली हाऊस में सफलतापूर्वक की जा रही है मृदा रहित खेती

राष्ट्रीय बायोगैस एवं खाद प्रबंधन कार्यक्रम के विषय में जानने के लिए क्लिक करें 

 सतत कृषि मिशन किसानों को दिया जाने वाला अनुदान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here