जैविक खेती करने वाले किसान यहाँ बेच सकते हैं अपनी उपज

0
1747
jaivik kheti portal

जैविक उत्पाद हेतु ऑनलाइन बाजार

देश भर में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए तथा रासायनिक उर्वरक तथा कीटनाशक जैसे रसायनों के उपयोग को कम करने के उद्देश्य से केंद्र तथा राज्य सरकार विभिन्न प्रकार की योजनायें चला रही है | जैविक खेती को बढ़ावा देने का मुख्य उद्देश्य यह है कि कृषि लागत को कम से कम कर गुणवत्तापूर्ण उपज प्राप्त कर रसायन मुक्त भारत बनाया जाये| जिससे किसानों की आय में भी वृद्धि की जा सके | 

सरकार के द्वारा इसके लिए किसानों को जैविक खाद तथा जैविक कीटनाशक बनाने का प्रशिक्षण तथा सब्सिडी पर उपकरण उपलब्ध करा रही है | सरकार के प्रयासों से किसानों के बीच में जैविक खेती के प्रति उत्साह काफी बढ़ा है | पर जैविक खेती करने वाले किसानों के सामने सबसे बड़ी समस्या बाजार की है | किसानों को उनके जैविक उत्पादों का सही दाम नहीं मिल पाता है, ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा जैविक खेती करने वाले किसानों के लिए वेब पोर्टल एवं एप शुरू की गई है जिस पर किसान पंजीकरण कर अपने जैविक उत्पाद को बेच सकते हैं | 

यह भी पढ़ें   पशुपालन एवं डेयरी शुरू करने के लिए सरकार दे रही है 50 से 90 प्रतिशत तक सब्सिडी

किसानों को दिया जायेगा जैविक खेती का पंजीयन

देशभर में जैविक खेती के प्रति किसानों का रुझान लगतार बढ़ रहा है | जैविक खेती की पहचान देने तथा जैविक उत्पाद को बाजार में आसानी से बेचने के लिए केंद्र सरकार किसानों को भूमि का प्रमाण पत्र दे रही है | जैविक खेती की प्रमाणिकता देने के लिए केंद्र सरकार ने पंजीयन करना शुरू कर दिया है | तीन वर्षों में जैविक खेती का तथा 2 वर्षों में जैविक उद्धानिकी का प्रमाण पत्र दिया जाता है |

केंद्र सरकार ने किसानों के द्वारा उत्पादित फसल को उपभोगता तक पहुँचाने के लिए ऑनलाइन सेवा jaivikkheti.in शुरू की है | जहाँ पर खरीदार तथा आपूर्तिकर्ता या उत्पादक एक साथ व्यापर कर सकते हैं | इसके अलावा अपनी सुविधा के अनुसार भाव भी तय कर सकते हैं |

4 लाख से अधिक किसानों ने कराया है जैविक उत्पाद बेचने के लिए पंजीकरण

देश भर में अभी तक 4 लाख 93 हजार 563 किसानों ने पंजीयन कराया है | इसके अलावा 15,717 कृषि समूहों ने जैविक उत्पाद बेचने के लिए आवेदन किया है | देश भर में जैविक खेती के उत्पाद बेचने के लिए उत्तराखंड के किसानों ने सबसे ज्यादा आवेदन किया है | राज्य के 1 लाख 62 हजार 876 किसानों ने आवेदन किया है | जबकि दुसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश के 60 हजार 023 किसानों ने आवेदन किया है | जैविक उत्पाद बेचने के लिए 25 राज्यों के किसानों ने रूचि दिखाई है |

यह भी पढ़ें   ऐसा करेंगे तो नहीं देना होगा किसान पेंशन योजना के लिए प्रीमियम

अभी तक इस वेबसाईट पर 1 लाख 42 हजार 205 उत्पादों का पंजीयन कराया गया है | इसके लिए 7,763 खरीदारों ने इस वेबसाईट से जैविक उत्पाद खरीदने में रूचि दिखाई है | जैविक उत्पाद का 75 आपूर्तिकर्ता ने भी पंजीयन कराया है |

आप भी अपने जैविक उत्पाद बेचने के लिए करा सकते हैं पंजीयन

देश के किसी भी राज्य के किसान इस योजना का लाभ उठा सकते हैं | इसके लिए किसान के पास जैविक उत्पाद का प्रमाणपत्र होना चाहिए | किसान जैविक खेती की वेबसाइट पर जाकर विक्रेता पर क्लिक करें | इसके बाद तीन आप्शन आएंगे | जिसमें व्यक्तिगत किसान, स्थानीय समूह, तथा एग्रीगेटर / प्रोसेसर का आँपसन आएगा | इसमें अपने सुविधा के अनुसार चुन करके पंजीयन करायें |

जैविक उत्पाद बेचने हेतु पंजीकरण के लिए क्लिक करें 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here