एग्री ड्रोन से किसान 400 रुपये में 20 मिनट में 1 एकड़ क्षेत्र में कर सकते हैं खाद, कीटनाशक एवं अन्य दवाओं का छिड़काव

7439
Agriculture drone technology

खेतों में एग्री ड्रोन तकनीक से खाद, कीटनाशक एवं अन्य दवाओं का छिड़काव

आपने कई बार अपने क्षेत्र में ड्रोन को उड़ते हुए देखा होगा | ड्रोन का उपयोग फोटो खींचने, जमीन मापने या किसी क्षेत्र की ऊपर से निगरानी के लिए किया जाता है | अब इसी तरह के ड्रोन का प्रयोग कृषि कार्य करने के लिए भी किया जाने लगा है | भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के वैज्ञानिक किसानों की आय बढ़ाने के लिए नई-नई तकनीक विकसित कर रहे हैं जिससे किसान कम लागत में प्रति हेक्टेयर अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सके | ऐसी ही एक नई तकनीक “एग्री-ड्रोन” का प्रयोग छत्तीसगढ़ के कृषि विज्ञान केंद्र सुरगी राजनांदगांव में एग्री ड्रोन के माध्यम से नैनो यूरिया के छिड़काव तकनीक का प्रदर्शन किया गया।

किसानों की आजीविका को बेहतर बनाने के लिये इस योजना के तहत किसानों को उन्नत तकनीकों की जानकारी समय-समय पर दी जाती है। डीबीटी बायोटेक किसान हब के तहत इन किसानों को हाई टेक खेती के तर्ज पर ड्रोन तकनीक का प्रदर्शन अम्बागढ़ चौकी विकासखंड के पांच ग्राम सोनसायटोला, मांगाटोला, कौडूटोला, भड्सेना एवं सेम्हरबन्धा के किसानों के लिये किया गया।

यह भी पढ़ें   सब्सिडी पर पाईप लाईन, विद्युत पंप, स्प्रिंकलर सेट एवं रेनगन लेने हेतु आवेदन करें

क्या है खाद, कीटनाशक एवं अन्य दवाओं के छिडकाव की एग्री ड्रोन तकनीक

एग्री ड्रोन तकनीकी के माध्यम से 1 एकड़ क्षेत्र में 20 लीटर पानी का उपयोग कर 20 मिनट में 1 एकड़ क्षेत्र में छिड़काव किया गया | जबकि हस्त चलित स्प्रे पंप से छिड़काव करने पर 1 एकड़ हेतु 400 से 500 लीटर पानी का उपयोग किया जाता है | जिसमें 2 श्रमिक 1 एकड़ क्षेत्र को 1 दिन में छिड़काव करते हैं। एग्री ड्रोन तकनीक द्वारा कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रक्षेत्र में लगे धान फसल में नैनो यूरिया के छिड़काव का प्रदर्शन किया गया। यह एग्री ड्रोन बैट्री चलित है इसकी बैटरी बिजली से चार्ज होती है। बैटरी को चार्ज करने में 20 मिनट का समय लगता है। इस ड्रोन की कीमत 6 लाख 50 हजार रूपए है। इस एग्री ड्रोन के द्वारा सभी प्रकार के उर्वरक, कीटनाशक, फफूंद नाशक एवं रसायनों का छिड़काव किया जा सकता है।

400 रुपये प्रति एकड़ की दर से किराये पर ले सकते हैं एग्री ड्रोन

तमिलनाडु की कंपनी गरूड़ा ऐरो स्पेस द्वारा विकसित एग्री ड्रोन तकनीक विकसित की है | एग्री ड्रोन का कंपनी द्वारा प्रति एकड़ 400 रूपए किराया निर्धारित किया है। इस एग्री ड्रोन तकनीकी की जिले के कृषकों द्वारा प्रशंसा की गई तथा भविष्य में इस तकनीक को अपनाने की इच्छा भी जाहिर की |

यह भी पढ़ें   दुनिया में पहली बार पशु पालन करने वालों के लिए बनाए गए नगर में पशुपालकों को दिए गए घर
पिछला लेख17 लाख से अधिक गौ-भैंस वंशीय पशुओं का किया जायेगा निशुल्क कृत्रिम गर्भाधान
अगला लेखजानिए इस वर्ष आपके जिलें में कौन सी कंपनी ने किया है फसल बीमा और क्या हैं उनके टोल फ्री नम्बर

2 COMMENTS

    • कौन सी फसल सर ? किस राज्य से हैं ? 9098298238 पर कॉल करें |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.