20 अक्टूबर से शुरू होंगे समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली बेचने के लिए किसान पंजीयन

0
5061
mung urad mungfali soybean msp kharid

मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली बेचने के लिए किसान पंजीयन

खरीफ फसल की कटाई देश भर में जोरों पर चल रही है, कुछ राज्यों में खरीफ फसल की कटाई अंतिम चरण में तो कुछ राज्यों में अभी शुरुआत ही हुई है | किसान को उपज का बाजिव मूल्य मिल सके इसके लिए सरकार द्वारा फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाती है | केंद्र सरकार के द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर राज्य सरकारों के द्वारा राज्य में उत्पादन के अनुसार फसलों की खरीदी की जाती है |

राजस्थान सरकार ने राज्य के किसानों से खरीफ फसल खरीदी की समय सारणी जारी कर दी है | यहाँ पर यह जानना जरुरी है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी पंजीकृत किसानों से ही की जाएगी | राजस्थान में राज्य के किसान समर्थन मूल्य पर अपनी उपज बेचने के लिए 20 अक्टूबर से पंजीकरण करा सकेंगे |

कब से शुरू होगी मूंग उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली की MSP पर खरीद एवं पंजीयन

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, सोयाबीन तथा मूंगफली को बेचने के लिए पंजीयन कराना अनिवार्य है | प्रदेश में समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली की खरीद के लिये ऑनलाइन पंजीकरण बुधवार 20 अक्टूबर से शुरू किए जा रहे हैं । किसान ई-मित्र से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं | पंजीयन ई–मित्र से सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक किया जा सकेंगे | 868 से अधिक खरीद केन्द्रों पर मूंग, उड़द एवं सोयाबीन की 1 नवम्बर से तथा 18 नवम्बर से मूंगफली की खरीद की जाएगी।

यह भी पढ़ें   444 लाख हेक्टेयर खेतों की सिंचाई के लिए अर्जुन नहर को किसानों के लिए जल्द खोला जाएगा

कितने खरीदी केंद्र बनाए गये हैं ?

राजस्थान सरकार ने राज्य के किसानों की सहायता के लिए अलग–अलग फसलों के लिए खरीदी केंद्र जिलों में फसल उत्पादन के अनुसार बनाएं हैं | मूंग के लिए 357, उड़द के लिए 168, मूंगफली के 257 एवं सोयबीन के लिए 86 खरीद केन्द्र बनाए गए हैं। किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए खरीद केन्द्रों पर आवश्यकतानुसार तौल-कांटें लगाये जायेंगे एवं पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाएगा।

कुल कितनी उपज खरीदी जाएगी ?

सरकार को मूंग की 3.61 लाख मीट्रिक टन, उडद की 61807 मीट्रिक टन, सोयाबीन 2.93 लाख तथा मूंगफली 4.27 लाख मीट्रिक टन की खरीद के लक्ष्य की स्वीकृति भारत सरकार ने दी है।

किसान पंजीयन के लिए आवश्यक दस्तावेज

किसानों को उपज बेचने के लिए ई-मित्र से पंजीयन करना जरुरी है | ई-मित्र से पंजीयन कराने के लिए विभिन्न प्रकार का दस्तावेज जैसे जनाधार कार्ड नम्बर, खसरा, गिरदावरी की प्रति एवं बैंक पासबुक की प्रति पंजीयन फार्म के साथ अपलोड करनी होगी | जिस किसान द्वारा बिना गिरदावरी के अपना पंजीयन करवाया जायेगा, उसका पंजीयन समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए मान्य नहीं होगा | एक जनाधार कार्ड से एक ही पंजीयन किया जा सकता है | इसके साथ ही जिस तहसील में कृषि भूमि है उसी तहसील में पंजीयन करना जरुरी होगा |

यह भी पढ़ें   फसल अवशेष जलाने के कारण इन किसानों को 3 वर्षों के लिए सभी सरकारी योजनाओं से किया गया वंचित

मूंग, उड़द, सोयाबीन तथा मूंगफली का न्यूनतम समर्थन मूल्य कितना है ?

प्रत्येक वर्ष केंद्र सरकार 23 रबी एवं खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करती है | यह मूल्य देश भर में एक समान रूप से लागू होते हैं | वर्ष 2021–22 के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य इस प्रकार है:-

  • मूंग – 7275 रूपये प्रति क्विंटल
  • उड़द – 6300 रूपये प्रति क्विंटल
  • मूंगफली – 5550 रूपये प्रति क्विंटल
  • सोयाबीन – 3950 रूपये प्रति क्विंटल

किसी भी समस्या के लिए इस नंबर पर संपर्क करें

किसानों की समस्या के समाधान हेतु राजफैड स्तर पर ट्रोल फ्री हेल्पलाईन नंबर 1800-180-6001 पर प्रात: 9 से 7 बजे तक किसान अपनी समस्याओं को हेल्पलाईन नंबर पर दर्ज करा सकते हैं | यह टोल फ्री नम्बर 20 अक्टूबर से कार्य करना प्रारंभ कर देगा | अथवा अपनी शिकायत/समस्या को लिखित में राजफैड मुख्यालय में स्थापित काल सेंटर पर [email protected] पर मेल भेज सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here