बिना मिट्टी के खेती या हाइड्रोपोनिक्स खेती

0
1117
views

बिना मिट्टी के खेती या हाइड्रोपोनिक्स खेती

बिना मिट्टी के खेती या हाइड्रोपोनिक्स खेती पद्धति एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें पोधे अपने वृद्धि व अपने विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्वों के लिए मिट्टी पर नहीं बल्कि पोषक तत्त्व घोल पर निर्भर रहते हैं | पौधों को सहारा देने के लिए विभिन्न पदार्थों जैसे:- बालू कंकड़ नारियल का बुरादा (कोको-पिट), परलाइट, आदि को किसी गमले, बैग, ट्रफ, नलिका टंकी, आदि, जिसमें पोषणके लिए घोल का बहाव आसानी से बना रहे सके, मैं भरकर उनमें पौधें लगाये जाते हैं | इस पद्धति मैं पौधे मिट्टी सम्बंधित व्याधाओं के प्रकोप से बचे रहते हैं और उत्पाद भी उच्च कोटि का होता है | उपयुक्त फसलें:- मूल रूप से सभी उच्च मूल्य फसलों टमाटर, खीरे, मिर्च और लेट्यूस।

उपयुक्त स्थान

ऐसे स्थान जहाँ की मिटटी की गुणवत्ता किसी कारन से फसल उत्पादन हेतु उपयुक्त न हो जैसे- मरदा की क्षारीयता अधिक हो या अम्लीयता, सुत्रक्रामी व फफूंद जनित रोगों के प्रकोप की अधिकता हो वहां पर इस प्रकार की खेती की जा सकती है | इसके अलावा इस पद्धति का उपयोग कम जल उपलब्धता वाले क्षेत्रों मैं भी की जा सकती हैं क्योंकि इसमें जल का नुकसान कम होता है या हम कह सकते हैं यह पद्धति की जल दक्षता सर्वाधिक है |

यह पद्धति कुछ मूलभूत सावधानियों जैसे पौधों की किस्म व अवस्था के अनुसार पोषक तत्वों की उचित मात्रा का प्रवाह, घोल का पी.एच. मान (5.8 से 6.5 के मध्य व ई.सी. 2 के आस-पास ) होना चाहिए | पोषण घोल में उचित वायु संचार आदि का ध्यान मैं रखकर इसे आसानी से प्रयोग किया जा सकता है | हाइड्रोपोनिक्स पद्धति से तैयार सब्जियां अपेक्षाकृत अधिक स्वच्छ, आकर्षक व गुणवत्ता वाली होती है  जिसके कारण इनका बाज़ार मूल्य भी अपेक्षाकृत अधिक मिलता है | इसका उपयोग पश्चिमी देशों मैं सब्जी एवं फूल उत्पादन मैं काफी होता है |

एक हाइड्रोपोनिक उत्पादन इकाई के लिए आवश्यकता

  • स्वच्छ पानी का स्रोत
  • सही स्थान
  • विशेष रूप से तैयार उर्वरक
  • प्रणाली के लिए दैनिक ध्यान देने का समय
  • पौधों या बागवानी का थोड़ा ज्ञान
  • एक वाणिज्यिक या घरेलू इकाई
यह भी पढ़ें   नींबू की खेती

जरुरी बातें :

यह जरुरी है की आपको पोधों के बारें में अधिक से अधिक जानकारी हो जिससे आप पोधों की आवश्यकताओं को समझ सकें और वर्ष के बाद सालाना सफलतापूर्वक सब्जियों का उत्पादन करने में सक्षम हो, हीड्रोपोनिक्स से परिचित होना जरूरी है जैसे पौधे, विकास माध्यम, पानी और पोषक तत्व., कोई एक समस्या के कारण की पहचान करने में सक्षम नहीं होगा और आप उन्हें सही नहीं कर सकते। पौधों में केवल तीन प्रकार के अंग होते हैंरू पत्तियां, जड़ें और तना. पता करें कि अंग कैसे दिखते हैं और कैसे वे काम करते हैं ताकि आप अपनी आवश्यकताओं से निपट सकें।

मिट्टी का विकल्प

  • जड़ों को ओक्सीजन प्रदान करने के लिए
  • जड़ों के संपर्क में पानी और मिश्रित पोषक तत्वों को पहुँचाना
  • पौधों को खुराक/सहारा दें ताकि वे गिर न जाएं
  • कई अलग-अलग सामग्रियों का उपयोग तब तक किया जा सकता है जब तक वे जड़ों को ओक्सीजन, पानी और पोषक तत्वों के साथ प्रदान करते हैं।

पानी और पोषक तत्व :

  • सभी पौष्टिक पौधों को पानी में मिला दिया जाता है और वे हर दिन पौधों को आपूर्ति करते हैं।
  • सूक्ष्म तत्वों (एन, पी, के, एस, सीए) को पर्याप्त मात्रा में देना आवश्यक है, जबकि पौधों को बहुत कम मात्रा में सूक्ष्म तत्वों की आवश्यकता होती है (लोहा, जिंक, मेगनीज, मैग्नीशियम, कॉपर, कोबाल्ट).
  • विशेष रूप से तैयार किए गये उर्वरक का उपयोग करना आवश्यक है प्रणाली में वर्षा और अडचनों/रुकावटों को रोकने के लिए अन्य उर्वरकों की तुलना में हीड्रोपोनिक्स के लिए उपयोग किए गए उर्वरक अधिक शुद्ध (और महंगे) हैं।

हाइड्रोपोनिक प्रणालियां :

दो अलग-अलग हाइड्रोपोनिक प्रणालियों का उपयोग सब्जियों का उत्पादन करने के लिए किया जाता है- कंबल प्रवाह, या पुनरू परिचालित प्रणाली, और खुले बैग, या अपशिष्ट तंत्र को निकालना।

ओपन बैग प्रणाली :

ओपन बैग प्रणाली में पौधों को कंटेनरों में उगाया जाता है और पौधों को प्रतिदिन 12 बार एक ड्रिपर के माध्यम से पोषक तत्वों का घोल का छिडकाव किया जाता है। प्रति दिन सिंचाई चक्र की संख्या पौधों के तापमान और विकास दर पर निर्भर करती है। ड्रेन टू वेस्ट सिस्टम में फसल ऊंचाई लिए होती है और उन्हें प्रशिक्षित और छाँटने की जरूरत होती है ताकि वे एक स्टेम के रूप में ऊपर की ओर बढ़ सकें।

यह भी पढ़ें   जनवरी (पौष-माघ) माह में किये जाने वाले खेती-बड़ी के काम  

बजरी प्रवाह प्रणाली :

बजरी प्रवाह प्रणाली में, पोषक समाधान का पुनः संचलन होता है और पौधों की जड़ें पोषक तत्व समाधान की एक पतली फिल्म में हर समय खड़ी होती हैं. बजरी या रेत को अक्सर विकास माध्यम के रूप में प्रयोग किया जाता है।

पौधों की देखभाल :

  • विभिन्न फसलों को अलग-अलग रिक्तियों पर लगाया जाता है। छोटे पौधे एक दूसरे के करीब लगाए जा सकते हैं।
  • बड़े पौधों को आगे बढ़ने के लिए अधिक स्थान की आवश्यकता होती है और इसे आगे अलग होना चाहिए।
  • जल प्रवाह हर दिन की जांच होनी चाहिए और जब आवश्यक हो तो समायोजित किया जाए।
  • यदि पौधे पीले हो जाते हैं, तो यह आमतौर पर पोषक तत्व की कमी, बहुत कम प्रकाश या बीमारी का लक्षण है।
  • रोग के लक्षणों और कीड़ों के लिए हर दिन पत्तियों का निरीक्षण करें अगर कोई समस्या होती है तो तुरंत कार्य करें।
  • महंगे ग्रीनहाउस स्थान का इष्टतम उपयोग करने के लिए छोटे पौधों को प्रशिक्षित और कटौती की आवश्यकता है।

अनुकूलित वातावरण अथवा ग्रीन हाउस :

ग्रीनहाउस का उद्देश्य पर्यावरण के बाहर की तुलना में पौधे की वृद्धि के लिए पर्यावरण को अधिक अनुकूल बनाना है | पौधों के आसपास नमी बढ़ाने के लिए व पौधों की रक्षा के लिए ग्रीनहाउस में उगाया जाता है, और कुछ हद तक तापमान को एक ही दिन में न्यूनतम और अधिकतम किया जा सकता है | अधिकांश ग्रीनहाउस को पॉलिथिलीन शीटिंग या छाया जाल के साथ कवर किया जाता है | ग्रीनहाउस कई रूपों में आते हैं और सरल और अपेक्षाकृत सस्ते से अत्यंत परिष्कृत और महंगे हैं |

प्लास्टिक मल्चिंग विधि से खेती कर कमायें अधिक लाभ

लो प्लास्टिक टनल तकनीक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here