back to top
Thursday, May 23, 2024
Homeकिसान समाचारघर में गोबर के साथ यह गलती कभी न करें

घर में गोबर के साथ यह गलती कभी न करें

घर में गोबर के साथ यह गलती कभी न करें

किसान भाई आप सभी के घरों में गाय , भैंस तथा बैल रहते हैं, जब आप के घर में जानवर है तो यह निशिचित है की आप के घर पर गोबर होता होगा | इस गोबर को  अक्सर किसान ईंधन के लिए उपयोग करते हैं , इसके साथ ही किसान गोबर को एक जगह एकत्रित करते हैं | जो किसान गोबर को ईंधन के रूप में प्रयोग करते हैं वह तो सही है लेकिन जो किसान गोबर को एक जगह पर जमा करते हैं तथा महीनों बाद उस गोबर को अपने खेतों में डाल देते हैं | उस किसान को यह लगता है की गोबर को वह खाद के रूप में प्रयोग करता है | लेकिन यह बात गलत है |

सूखे हुये गोबर को खेत में फैलने से वह गोबर नहीं बल्कि खेतों में बीमारी फैलाते हैं | इस तरह के गोबर से खेत में कीटों का प्रकोप बढ़ता है | किसान समाधान आपके लिए गोबर का सही उपयोग के बारे में जानकारी लेकर आया है |जब आप गोबर को खुले आसमान में रखते है तथा महीनों उस पर एक के बाद एक परत गोबर की जमा करते जाते हैं तो इसके कारण गोबर सूखता जाता है | खुले आसमान में रखने से गोबर में उजले रंग के कीड़े लग जाते हैं | यह कीड़े काफी संख्या में रहते हैं तथा ऊपर से दिखाई नहीं देते है | इसे देखने के लिए कम से कम 6 से.मी. ऊपर से सूखे हुये गोबर को हटाना होगा | यह कीड़े फसल तथा मिटटी दोनों के लिए नुकसान दायक है इसलिए जानवरों के गोबर को खुले आसमान में महीनों नहीं रखे |

यह भी पढ़ें   किसान मक्के की मेड़ विधि से करें खेती, कम लागत में मिलेगी अच्छी उपज

तो गोबर का क्या करें ?

यदि आप थोड़ी सी भी सावधानी बरते तो गोबर का सही प्रयोग कर सकते हैं | अगर आप गोबर से केंचुआ खाद बनाते है , तब तो बहुत अच्छी बात है | लेकिन जो किसान गोबर से केंचुआ खाद नहीं बना सकते हैं तो उसे नीरस होने की जरुरत नहीं है |

किसान समाधान आप सभी किसानों के लिए एक उत्तम व्यवस्था लेकर आया है | इसके लिए किसान को अपने गौशाला के पास एक गड्ढा खोदना होगा | यह गड्ढा अपने जानवरों की संख्या के आधार पर गड्ढे का आकार बड़ा या छोटा रख सकते हैं | लेकिन गड्ढे का आकार इस तरह रखे की उसमें एक महीने का गोबर रखा जा सकता है | फिर दुसरे महीने के लिए दूसरा गड्ढा खोदना होगा |

जानें पूरी प्रक्रिया 

उस गड्डे को खोदने के बाद उसको ऊपर से लकड़ी के रखकर मिटटी से बंद कर दें या ढक दें  | आप इसे इस तरह बंद करें की बहार से किसी भी तरह का कोई सम्पर्क नहीं हो सके उसके बाद उस बंद गड्ढे में एक होल करें, यह होल लगभग 3 से 4 से.मी. का होना चाहिए | अब इस इस गड्ढे से गोबर को प्रत्येक 3 से 4 दिन के बाद डाले | साथ में 3:1 के अनुपात में पानी डालें यानि 3 किलोग्राम गोबर तो एक किलोग्राम पानी डालें |

यह भी पढ़ें   बिहार में इस साल सरकार करेगी 5 लाख मिट्टी के नमूनों की जांच

जैविक कीटनाशक एवं औषधियाँ बनाने के नुस्खे

जब भी उस गड्ढे में गोबर डालें उसके बाद उस होल को बंद कर दें | होल को इस तरह बंद करें की उससे किसी भी तरह का गैस बाहर नहीं निकल सके | इस बात का ख्याल रखे की पानी ज्यादा नहीं होना चाहिए क्योंकि आपको गोबर गैस नहीं बनाना हैं | इस बात का भी ख्याल रखें की ताजा गोबर को नहीं डालना है |

अब इसी तरह से 1 से 2 महीने तक गोबर और पानी डालते रहें उसके बाद उस होल को बंद करके 1 महीने तक छोड़ दें या तबतक छोड़ दें जबतक की आप को जरूरत न हो | कुछ महीने के बाद आप पायेंगे की गोबर पूरी तरह से सड़ गया है तथा खाद के रूप में तैयार हो गया है | इस तरह से किसान भाई आप लोग कम खर्च में गोबर का सही प्रयोग कर सकते हैं | लेकिन आप सभी कभी भी अपने जानवरों का गोबर खुले में नहीं रखें |

तरल जैविक खाद का निर्माण घर पर कैसे करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर