छत्तीसगढ़ सरकार ने पेश किया बजट 2020-21,जानिये किसानों को क्या-क्या मिला

0
1861
chhattisgarh budge 2020-21

कृषि एवं सम्बंधित क्षेत्र बजट छत्तीसगढ़ 2020-21

केंद्र सरकार के द्वारा बजट 2020-21 पेश किये जाने के बाद अब सभी राज्य सरकरों के द्वारा भी राज्यों के लिए बजट पेश किये जा रहे हैं | अभी हाल ही में 3 मार्च को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के द्वारा वित्त मंत्री के रूप में छत्तीसगढ़ राज्य का बजट पेश किया गया | बजट पेश करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा की यह बजट मुख्य रूप से गढ़बो नवा छत्तीसगढ़-स्वस्थ एवं सुपोषित नई युवा पीढ़ी का निर्माण की भावना के साथ सुपोषण, स्वास्थ्य सुविधाओं की बेहतरी एवं विस्तार तथा युवाओं की ऊर्जा का सकारात्मक एवं उत्पादक रूप में उपयोग कर उनकों राज्य के सशक्त संसाधन के रूप में विकसित करने पर केन्द्रित है।

छत्तीसगढ़ बजट में किसानों के लिए कुछ नई योजना का शुभारम्भ किया गया वहीँ कुछ पुरानी योजनाओं को जारी रखा गया है | नई योजनाओं में राजीव गांधी किसान न्याय योजना प्रारंभ की गई है | योजना का लाभ वर्ष 2019-20 के लिये भी दिया जायेगा। इसके लिए 5 हजार 100 करोड़ का प्रावधान है। इस योजना में किसानों को किसानों को समर्थन मूल्य के अंतर की राशि दी जाएगी | बेमेतरा, जशपुर, धमतरी और बालोद जिले के अर्जुंदा में उद्यानिकी महाविद्यालय और लोरमी में कृषि महाविद्यालय बनाने की घोषणा की गई है |

कृषि क्षेत्र हेतु बजट 2020-21

  1. सरकार किसानों को उनके श्रम का उचित लाभ देने के लिये राजीव गांधी किसान न्याय योजना प्रारंभ करेगी। योजना का लाभ वर्ष 2019-20 के लिये भी दिया जायेगा। इसके लिए 5 हजार 100 करोड़ का प्रावधान है।
  2. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में 366 करोड़, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में 370 करोड़, एकीकृत बागवानी मिशन में 205 करोड़, जैविक खेती मिशन के लिए 20 करोड़, वाटरशेड प्रबंधन कार्यक्रम में 200 करोड़ एवं प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में 110 करोड़ का प्रावधान किया गया है।
  3. कृषक जीवन ज्योति योजना के तहत 5 एच.पी. तक के कृषि पंपों को निःशुल्क विद्युत प्रदाय के लिये 2 हजार 300 करोड़ का प्रावधान किया गया है।
  4. बेमेतरा, जशपुर, धमतरी एवं अर्जुन्दा, जिला बालोद में उद्यानिकी महाविद्यालय तथा लोरमी में कृषि महाविद्यालय की स्थापना के लिए नवीन मद में 5 करोड़ का प्रावधान है।
  5. इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर में खाद्य प्रौद्योगिकी की स्थापना की जायेगी।
यह भी पढ़ें   बारिश एवं ओले से किसानों की फसल बर्बाद, मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश, किसानों को दी जाएगी राहत

पशुपालन एवं मछली पालन के लिए बजट 2020-21

  1. गोठानों के संचालन हेतु गौठान समितियों को प्रतिमाह 10 हजार का अनुदान तथा पशुओं के चारे के लिये धान के पैरे की व्यवस्था की जायेगी। पैरा के रख-रखाव को सरल बनाने हेतु चौकोर बेलर क्रय करने के लिए नवीन मद में 6 करोड़ का प्रावधान किया गया है।
  2. बेमेतरा एवं तखतपुर में डेयरी डिप्लोमा महाविद्यालय की स्थापना के लिए 2 करोड़ का प्रावधान किया गया है ।
  3. मछली पालन के क्षेत्र में रोजगार की संभावना को देखते हुए युवाओं को डिप्लोमा पाठ्यक्रम के अध्यापन हेतु ग्राम राजपुर (धमधा) में फिशरीज पॉलिटेक्निक की स्थापना की जायेगी।
  4. 9 पशु औषधालयों को पशु चिकित्सालय में उन्नयन, 12 नवीन पशु औषधालय तथा 5 विकास खंडों में मोबाईल पशु चिकित्सा इकाई स्थापित की जायेगी।

सिंचाई क्षेत्र के लिए बजट 2020-21

  1. स्तर संभाग में बोधघाट बहुद्देशीय परियोजना से 2 लाख 66 हजार हेक्टेयर क्षेत्र सिंचित करने का लक्ष्य रखा गया है।
  2. पैरी बांध एवं पैरी-महानदी इंटर लिंकिंग नहर परियोजना के लिए 20 करोड़, डांडपानी वृहत् जलाशय परियोजना, कुनकुरी के लिए 20 करोड़ एवं शेखरपुर वृहत् जलाशय, सरगुजा के लिए 20 करोड़ का नवीन मद में प्रावधान है।
  3. नाबार्ड सहायित सिंचाई परियोजनाओं हेतु 697 करोड़, महानदी परियोजना हेतु 237 करोड़, लघु सिंचाई परियोजनाओं हेतु 610 करोड़ तथा एनीकट/स्टाप डैम निर्माण के लिए 173 करोड़ का प्रावधान है। कमाण्ड क्षेत्र में सिंचाई की पूर्ति हेतु भी 116 करोड़ का प्रावधान है।
यह भी पढ़ें   पीला जंग (पीला रतुआ) रोधक गेहूं की उन्नत किस्मों के बीज सब्सिडी पर लेने के लिए आवेदन करें

छत्तीसगढ़ राज्य का सम्पूर्ण बजट जानने के लिए क्लिक करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here