केंद्र सरकार ने 13 राज्यों को समर्थन मूल्य पर चना एवं मसूर खरीदने की मंजूरी दी

1
16298
chana masur samarthan mulya kharid

समर्थन मूल्य पर चना एवं मसूर खरीद

देश में अभी कोरोना वायरस से संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन चल रहा है जिससे अभी बहुत से कार्य स्थगित कर दिए गए हैं | वहीँ बहुत से कार्यों को छूट दी गई है इनमें कृषि भी शामिल हैं | किसानों को खेती किसानो के कार्यों के लिए तो छूट दे दी गई है जिससे किसान रबी फसलों की कटाई समय पर कर सकें परन्तु अभी तक किसी भी राज्य सरकार द्वारा समर्थन मूल्य फसल खरीद शुरू नहीं की गई है | जिन राज्यों में गेहूं चने की खरीद शुरू होना था वहां अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी गई है | खरीदी कब शुरू होगी इसकी अभी कोई तिथि निर्धारित नहीं है |

लॉकडाउन के दौरान केंद्र सरकार ने एमएसपी के तहत चने और मसूर की खरीद हेतु सरकार ने लिया एक अहम फैसला लिया है जिसके तहत देश के 13 राज्य मूल्य समर्थन योजना के तहत चना एवं मसूर की खरीदी कर सकते हैं |

यह भी पढ़ें   महाराष्ट्र में किसानों ने किसान क्रांति के नाम से आंदोलन शुरू किया

इन 13 राज्यों में होगी चने एवं मसूर की समर्थन मूल्य पर खरीद

अभी केंद्र सरकार ने देश के 13 राज्यों को समर्थन मूल्य योजना के तहत चना एवं मसूर की खरीदी करने की अनुमति प्रदान की है | यह राज्य हैं असम, बिहार, छत्तीसगढ़, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखण्ड, केरल, उड़ीसा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल हैं | इन राज्यों में हरियाणा और राजस्थान को पहले ही समर्थन मूल्य पर चना खरीदने की अनुमति दी जा चुकी थी |

केंद्र सरकार के द्वारा यह राज्य अभी सिर्फ राज्यों में उत्पादन का 25 प्रतिशत तक ही खरीद सकते हैं | केंद्र सरकर ने चने के लिए 1.71 लाख मीट्रिक टन और मसूर के लिए 0.87 मीट्रिक तन की कुल खरीद का लक्ष्य रखा है और सरकार ने इसके लिए लगभग 1250 करोड़ रुपये जारी भी कर दिए हैं |

क्या है इस वर्ष चना एवं मसूर का समर्थन मूल्य

रबी की सभी फसलों के लिए समर्थन मूल्य पहले ही घोषित किये जा चुके हैं | सरकार के द्वारा इन मूल्यों पर ही खरीदी की जाएगी | इस वर्ष चने का समर्थन मूल्य 4875 रुपये है जो पिछले वर्ष से 255 रुपये अधिक है | वहीँ इस वर्ष मसूर का समर्थन मूल्य 4800 रुपये प्रति क्विंटल है जो पिछले वर्ष से 325 रुपये अधिक है |

यह भी पढ़ें   केंद्र सरकार ने पैसा देने से किया इंकार ! किसानों का भावान्तर योजना का पैसा अधर में लटका

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.