जानें बैंगन की उन्नतशील किस्में, लगाने का समय, उपज की अवधि एवं उससे होने वाली आय

0
2531
views

जानें बैंगन की उन्नतशील किस्में, लगाने का समय, उपज की अवधि एवं उससे होने वाली आय

किस्म :- पूसा पर्पल लाग

लगाने का समय बीज डालने क समय – मध्य जून जुलाई, नवम्बर –जनवरी, अप्रील-मई,पौधा लगाने का समय- जुलाई-अगस्त, दिसम्बर- फरवरी, मई- जून, गर्मी के दिनो के लिये उपयुक्त
उपयुक्त भूमि उपरी (टांड) एंव मध्यम
उपयुक्त मिटटी बलुई दोमट से दोमट
औसत उपज 300 किव./हे.
संभव उपज 300 किव./हे.
वानस्पतिक गुण फल लम्बा,बैगनी,चमकदार,कोमल
अवधि पौधा लगाने के 60-65 दिनों के बाद पहली तुड़ाई
सिंचाई की आवश्यकता सिंचाई  5-7 दिनों के अंतराल पर, आवश्कतानुसार
विशिष्ट गुण बहुत कम दिनों में फल देने वाला
लागत रू. 30,000 /- हे.
शुद्ध आमदनी रू. 85,000 /- प्रति हे.

पूसा हाईब्रीड-6

लगाने का समय बीज डालने का समय – मध्य जून जुलाई, नवम्बर –जनवरी, अप्रील-मई, पौधा लगाने का समय- जुलाई-अगस्त, दिसम्बर- फरवरी, मई- जून, गर्मी के दिनों के लिये उपयुक्त
उपयुक्त भूमि उपरी (टांड) एंव मध्यम
उपयुक्त मिटटी बलुई दोमट से दोमट
औसत उपज 450 किव./हे.
संभव उपज 450 किव./हे.
वानस्पतिक गुण पौधा – काँटा रहित , अर्द्ध सीधा शाखाएँ, पुष्ट, नवजात पट्टों तथा वृद्धि वाले शाखाओं  के अग्र भाग पर आंशिक रेंज उत्पन होता हैं । फल – गोल,चमकदार, बैंगनी, आकर्षक । फल का वजन (200-250ग्राम)
अवधि पौधा लगाने के 60-65 दिनों के बाद पहली तुड़ाई
सिंचाई की आवश्यकता सिंचाई  8-10 दिनों के अंतराल पर
विशिष्ट गुण
लागत रू. 30,000 /- प्रति हे.
शुद्ध आमदनी रू. 1,20,000 /-प्रति हे.

पूसा पर्पल राउंड

लगाने का समय बीज डालने का समय – मध्य जून-जुलाई, नवम्बर –जनवरी, अप्रील-मई,

पौधा लगाने का समय- जुलाई-अगस्त, दिसम्बर- फरवरी, मई- जून, गर्मी के दिनो के लिये उपयुक्त

उपयुक्त भूमि उपरी (टांड) एंव मध्यम
उपयुक्त मिटटी बलुई दोमट से दोमट
औसत उपज 300 क्वीं./हे.
संभव उपज 400 क्वीं./हे.
वानस्पतिक गुण पौधा- लम्बा , फल – बैगनी, चमकदार, गोल, फल का वजन (250-300 ग्राम)
अवधि पौधा लगाने के 50-55 दिनों के बाद पहली तुड़ाई
सिंचाई की आवश्यकता सिंचाई  8-10 दिनों के अंतराल पर दें ।
विशिष्ट गुण —–
लागत रू. 30,000 /-प्रति  हे.
शुद्ध आमदनी रू. 9,000 /- प्रति हे.

पूसा पर्पल क्लस्टर

लगाने का समय बीज डालने क समय – मध्य जून- जुलाई, नवम्बर –जनवरी, अप्रील-मई,

पौधा लगाने का समय- जुलाई-अगस्त, दिसम्बर- फरवरी, मई- जून, गर्मी के दिनो के लिये उपयुक्त

उपयुक्त भूमि उपरी भूमि
उपयुक्त मिटटी बलुई दोमट से दोमट
औसत उपज 250 क्वीं./हे.
संभव उपज 300 क्वीं./हे.
वानस्पतिक गुण तना- बैगनी, चमकदार, पत्ता – बैगनी, हरा, काँटा रहित, फल -10-12 से.मी. लम्बा, 4-9 फल प्रति गुच्छा में ।
अवधि पहला फल तुड़ाई  पौधा लगाने के 60-65 दिनों के बाद
सिंचाई की आवश्यकता सिंचाई  8-10 दिनों के अंतराल पर दें । आवश्कतानुसार
विशिष्ट गुण पहाड़ी इलाकों के लिये उपयुक्त
लागत रू. 25,000 /-प्रति हे.
शुद्ध आमदनी रू. 80,000/-.प्रति /- हे.

स्वर्ण प्रतिभा

लगाने का समय बीज डालने का समय – मध्य जून-जुलाई, नवम्बर –जनवरी, अप्रील-मई,

पौधा लगाने का समय- जुलाई-अगस्त, दिसम्बर- फरवरी, मई- जून, गर्मी के दिनो के लिये उपयुक्त ।

उपयुक्त भूमि उपरी भूमि
उपयुक्त मिटटी 600-650 क्वीं./हे.
औसत उपज 800 क्वीं./हे.
संभव उपज पौधा लगाने के 60-65 दिनों के बाद पहला फल की तुड़ाई
वानस्पतिक गुण पौधा- लम्बा (015-20 सेंमी), फल – बैगनी, चमकीला, औसत फल का वजन (150-200 ग्राम)
अवधि आवश्कतानुसार सामान्य स्थिति में सिंचाई  8-10 दिनों के अंतराल पर दें ।
सिंचाई की आवश्यकता आवश्कतानुसार सामान्यता सिंचाई  8-10 दिनों के अंतराल पर दें ।
विशिष्ट गुण —–
लागत रू. 30,000 /- प्रति हे.
शुद्ध आमदनी रू. 1,50,000/- प्रति हे.

 

स्वर्ण श्यामली

लगाने का समय बीज डालने का समय – मध्य जून जुलाई, नवम्बर –जनवरी, अप्रील-मई,

पौधा लगाने का समय- जुलाई-अगस्त, दिसम्बर- फरवरी, मई- जून, गर्मी के दिनो के लिये उपयुक्त

उपयुक्त भूमि उपरी (टांड) एंव मध्यम
उपयुक्त मिटटी बलुई दोमट से दोमट
औसत उपज 600 किव./हे.
संभव उपज 800 किव./हे.
वानस्पतिक गुण फल – गोल, फल का वजन (250-300 ग्राम) बैगनी रेंज लिये हुये हरा धारी
अवधि पौधा लगाने के 60-65 दिनों के बाद पहली तुड़ाई
सिंचाई की आवश्यकता आवश्कतानुसार सामान्यता सिंचाई  8-10 दिनों के अंतराल पर दें ।
विशिष्ट गुण अत्यधिक उपज देने वाला
लागत रू. 10,000 /- प्रति हे.
शुद्ध आमदनी रू. 1,20,000

स्वर्ण मणि

लगाने का समय बीज डालने का समय – मध्य जून जुलाई, नवम्बर –जनवरी, अप्रील-मई,

पौधा लगाने का समय- जुलाई-अगस्त, दिसम्बर- फरवरी, मई- जून, गर्मी के दिनो के लिये उपयुक्त

उपयुक्त भूमि उपरी (टांड) एंव मध्यम
उपयुक्त मिटटी बलुई दोमट से दोमट
औसत उपज 600 किव./हे.
संभव उपज 800 किव./हे.
वानस्पतिक गुण फल- आकर्षक, चमकीला, बैगनी, और गोल
अवधि पौधा लगाने के 60-65 दिनों के बाद पहली तुड़ाई
सिंचाई की आवश्यकता सिंचाई 5-7 दिनों के अंतराल पर
विशिष्ट गुण बहुत कम दिनों में फल देने वाला
लागत रू. 30,000 /- प्रति हे.
शुद्ध आमदनी रू. 10,000 /- प्रति हे.

उर्वरक प्रबंधन

  1. फास्फेटिक एवं पोटाश उर्वरक की सम्पूर्ण मात्रा रोपनी के पहले खेत में डालें I
  2. नत्रजनी आधा खेत की अन्तिम जुताई के समय एवं आधा रोपनी के 30 दोनों के बाद I
पोषक तत्व मात्रा
नत्रजन 150
स्फूर 150
पोटाश 60
यह भी पढ़ें   टमाटर की प्रमुख किस्में एवं उनकी खेती कैसे करें ? उससे होने वाली आय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here