back to top
Thursday, May 23, 2024
Homeकिसान समाचारपशुपालक किसान जीत सकते हैं 5 लाख रुपए तक का ईनाम,...

पशुपालक किसान जीत सकते हैं 5 लाख रुपए तक का ईनाम, 30 सितंबर तक करना होगा यहाँ आवेदन

गोपाल रत्न पुरस्कार हेतु आवेदन

पिछले कुछ सालों में देश में दुग्ध उत्पादन बढ़ा है, ऐसे में दुग्ध उत्पादन क्षेत्र को और बढ़ावा दिया जा सके, इसके लिए केंद्र सरकार की तरफ से हर साल डेयरी किसानों, सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन और दुग्ध उत्पादक कंपनियों को गोपाल रत्न पुरस्कार दिया जाता है। पशुपालन, मत्स्य और डेयरी विभाग ने इस वर्ष भी देश में इन क्षेत्रों में सर्वश्रेष्ठ काम करने वाले किसानों को पुरस्कार देने की घोषणा की है, इसके लिए इच्छुक व्यक्ति 30 सितम्बर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

योजना के प्रमुख उद्देश्य स्वदेशी दुधारू गायों में वैज्ञानिक तरीके से उत्पादकता बढ़ाने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करना, राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के तहत कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियनों को 100 प्रतिशत ए.आई. कवरेज लेने के लिए प्रेरित करना तथा सहकारी और दुग्ध उत्पादक कंपनियों को विकसित होने और प्रतिस्पर्धी भावना पैदा करने के लिए प्रेरित करना है।

योजना के तहत यह व्यक्ति होंगे पात्र

राजस्थान के पशुपालन मंत्री श्री लालचन्द कटारिया ने जानकारी देते हुए बताया कि गोपाल रत्न पुरस्कार योजना के तहत गाय एवं भैंसों की डेयरी करने वाले वही किसान पात्र हैं, जो गाय की प्रमाणित स्वदेशी 50 नस्लों अथवा भैंस की 17 देशी प्रमाणित नस्लों में से किसी एक का पालन करता हों। इसी प्रकार सर्वश्रेष्ठ कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन हेतु पशुधन विकास बोर्ड, दुग्ध फेडरेशन, गैर सरकारी संगठन अथवा निजी क्षेत्र का कोई भी कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन जिसने इस कार्य के लिए कम से कम 90 दिनों का प्रशिक्षण प्राप्त किया हो। दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में सहकारी कम्पनी अधिनियम के तहत ग्राम स्तर पर स्थापित सहकारी समिति, एमपीसी या एफपीओं दुग्ध उत्पादक कम्पनी जो प्रतिदिन 100 लीटर दूध का उत्पादन करती है और उनके साथ कम से कम 50 किसान सदस्य हो पात्र होंगें। 

यह भी पढ़ें   मुर्गी पालन फार्म खोलने के लिए सरकार दे रही है 40 लाख रुपये तक की सब्सिडी, यहाँ करना होगा आवेदन

विजेता को दिया जायेगा 5 लाख रुपए तक का पुरस्कार

रष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के तहत गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए तीनों श्रेणी में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान के लिए क्रमशः 5 लाख, 3 लाख एवं 2 लाख रूपये की राशि पारितोषिक स्वरूप प्रदान की जायेगी। साथ ही विजेताओं का प्रमाण पत्र एवं एक स्मृति चिन्ह दिया जायेगा। पशुपालन, मत्स्य एवं डेयरी विभाग, भारत सरकार द्वारा विजेताओं को पुरस्कार राष्ट्रीय दुग्ध दिवस के अवसर पर 26 नवम्बर, 2022 को समारोह आयोजित कर प्रदान किये जायेंगे।

किसान गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए यहाँ करें आवेदन

सभी इच्छुक किसान, कृत्रिम गर्भाधान तकनीशियन और सहकारी व दुग्ध उत्पादक कम्पनियां इस गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए आवेदन पशुपालन, मत्स्य और डेयरी विभाग, भारत सरकार की वेबसाइट https://awards.gov.in पर 30 सितम्बर, 2022 तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

गोपाल रत्न पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए क्लिक करें

यह भी पढ़ें   खेतों में फसल अवशेष जलाने से होते हैं यह नुकसान, किसान इस तरह करें फसल अवशेषों का प्रबंधन

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर