20 से 22 फरवरी तक यहाँ किया जायेगा किसान मेले का आयोजन

1935
krishi mela 2021

किसान मेला 2020-21

कृषि में किये जा रहे नवाचार तथा आधुनिक खेती के लिए यह जरुरी हो जाता है की किसानों  को समय–समय इनसे अवगत करवाकर प्रशिक्षण एवं उनके विषय में जानकारी दी जा सके | इससे किसानों को आधुनिक खेती तथा नई तकनीक की जानकारी मिलती रहे | इसके लिए समय–समय पर राज्य राज्य सरकारों के द्वारा कृषि विश्वविद्यालयों, कृषि विज्ञान केंद्र आदि पर प्रदर्शनियों, प्रशिक्षणों एवं मेलों का आयोजन किया जाता है | साथ ही इन मेलों में उत्कृष्ट कार्य कर रहे किसानों को सम्मानित भी किया जाता है | 

इस तरह का ही एक किसान मेला बिहार के किसानों के लिए कृषि विश्वविद्यालय सबौर, बिहार के द्वारा आयोजित किया जा रहा है | तीन दिवसीय इस मेले का आयोजन 20 फ़रवरी से 22 फरवरी 2021 के बीच भागलपुर में किया जा रहा है | जिसके अंतर्गत किसानों को आधुनिक खेती के अलावा तकनीक और आधुनिक मशीनों की जानकारी दी जाएगी | किसान यहाँ से बीज तथा पौधों की जानकारी के साथ खरीद भी सकते हैं |

यह भी पढ़ें   किसान अब 22 जून तक MSP पर बेच सकेंगे गेहूं

क्या खास रहेगा कृषि मेले में-

  1. विश्वविध्यालय द्वारा विकसित की गई नवीनतम तकनीकों का प्रदर्शन
  2. विभिन्न प्रकार के बीजों / पौध सामग्री का प्रदर्शन एवं विपणन
  3. किसानों द्वारा तैयार किये गये गुणसंवर्धित उत्पादों की प्रदर्शनी तथा विपणन
  4. उद्धान एवं पशु प्रदर्शनी
  5. कृषि उत्पादों की प्रदर्शनी एवं विपणन
  6. तकनीकी आधारित खेती के लिए युवाओं का सशक्तिकरण पर परिचर्चा
  7. किसान गोष्ठी / कृषि ज्ञान प्रश्नोत्तरी / सांस्कृतिक कार्यक्रम
  8. प्रगतिशील किसानों का सम्मान
  9. बिहार कृषि विश्वविध्यालय के प्रयोगिक प्रक्षेत्रों पर किसानों का भ्रमण
  10. उन्नत कृषि तकनीकों का जीवंत प्रत्यक्षण

कृषि मेला कब से शुरू होगा ?

किसान मेले का आयोजन भागलपुर के साबौर कृषि विश्वविध्यालय परिसर में आयोजित किया जायेगा | किसान मेला 3 दिनों के लिए आयोजन किया जायेगा | 20 फरवरी से शुरू होकर 22 फरवरी 2021 तक किया गया |

किसान कैसे हो सकते हैं कृषि मेले में शामिल

कृषि मेले में किसी भी जिले के किसान शामिल हो सकते हैं | इसके लिए किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं रखा गया है | इसमें शामिल होने के लिए किसान को अपने खर्चे से आना होगा | इसके अलावा किसान अपने ब्लॉक के कृषि विकास अधिकारी, कृषि सलाहकार, तथा ब्लाक के किसी अन्य अधिकारी से संपर्क करके कृषि मेला में शामिल हो सकते हैं | ब्लॉक में पंजीयन करने से किसान को ब्लॉक के तरफ से सरकारी खर्चे से कृषि मेला में पहुँचाया तथा मेला से घर लाया जायेगा |

यह भी पढ़ें   66 हजार से अधिक किसानों को दिया गया टिड्डी कीट से हुई फसल नुकसानी का मुआवजा
पिछला लेखअब किसानों को 15 जुलाई तक दिया जायेगा खरीफ फसलों के लिए ऋण
अगला लेखअसमय बारिश एवं ओलावृष्टि से हुई फसल क्षति की भरपाई करेगी सरकार

2 COMMENTS

    • सर बिहार में अभी कृषि यंत्रों के लिए आवेदन नहीं हो रहे हैं, जब आवेदन होंगे तब जानकारी दी जाएगी |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.