back to top
रविवार, अप्रैल 14, 2024
होमकिसान समाचारपशुओं का दूध उत्पादन बढ़ाने हेतु हाथी घास के नाम से मशहूर...

पशुओं का दूध उत्पादन बढ़ाने हेतु हाथी घास के नाम से मशहूर नेपियर घास लगाने के लिए दिया जाएगा 10 हजार रुपए का अनुदान

नेपियर घास या हाथी घास की खेती पर अनुदान

हाथी घास के नाम से मशहूर नेपियर घास न केवल पशुओं में दुग्ध उत्पादन को बढ़ाती है बल्कि इससे पशुओं का स्वास्थ्य भी उत्तम रहता है। नेपियर घास का पौष्टिकता में ऊंचा स्थान है। इससे पशुधन को साल भर हरा चारा मिलता है। पशुओं की दुग्ध उत्पादक क्षमता में 50 फीसदी की वृद्वि हो जाती है। इसकी उपयोगिता को देखते हुए राजस्थान सरकार ने सभी ग्राम पंचायतों में इसकी खेती के लिए अनुदान देने का फैसला लिया है। 

राजस्थान सरकार ने नेपियर घास को बढ़ावा देने के लिए वित्तीय वर्ष 2023-24 में बजट की व्यवस्था की है। जिसके तहत सभी ज़िलों की प्रत्येक ग्राम पंचायत में नेपियर घास के 2-2 प्रदर्शन प्रगतिशील पशुपालकों के यहां 0.1 हेक्टेयर भूमि पर लगाया जाएगा। 

नेपियर घास या हाथी घास लागने के लिए कितना अनुदान दिया जाएगा?

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की बजट घोषणा 2023-24 के तहत कृषि विभाग द्वारा राजस्थान बीज उत्पादन एवं वितरण मिशन के तहत प्रत्येक ग्राम पंचायत में नेपियर घास के दो प्रदर्शन प्रगतिशील पशु पालकों के यहां एक हेक्टेयर भूमि पर लगाया जाएगा। इससे पशुओं के लिए हरे चारे की उपलब्धता बढ़ेगी और दुग्ध उत्पादन भी बढ़ेगा। विभाग द्वारा कृषक को एक हेक्टेयर पर अधिकतम 10 हजार रुपए प्रति प्रदर्शन अनुदान भौतिक सत्यापन उपरान्त देय होगा।

यह भी पढ़ें   किसानों को ड्रिप, स्प्रिंकलर एवं रेनगन सेट पर दी जा रही है 90 प्रतिशत तक की सब्सिडी

हाथी घास या नेपियर घास कैसे लगाई जाती है?

नेपियर घास बोने के लिए इसके डंठल को काम में लिया जाता है जिसे नेपियर स्टिक कहा जाता है। स्टिक को खेत में डेढ़ से दो फिट की दूरी पर रोपा जाता है। एक बीघा में करीब 4 हजार डंठल की आवश्यकता होती है। इसे जुलाई-अक्टूबर एवं फरवरी मार्च में बोया जा सकता है। इसके बीज नहीं होते है। पशुपालक नेपियर घास लगाकर उससे प्राप्त होने वाली स्टिकस (रोपण सामग्री) को अगले पशुपालकों को बेचकर अतिरिक्त मुनाफा कमा सकते है

नेपियर पास की पौष्टिकता अन्य सभी घासों की तुलना में सर्वाधिक होती है। इससे पशुधन को दुध उत्पादक क्षमता में वृद्धि होती है तथा यह बहुवर्षीय होने के कारण पूरे वर्षभर हरे चारे की कमी की समस्या से पशुपालकों को राहत मिलेगी।

अनुदान पर नेपियर घास लगाने के लिए कहाँ आवेदन करें

राज्य के ऐसे किसान जो अपने खेतों में नेपियर घास या हाथी घास का लगाना चाहते हैं वे किसान आधार कार्ड के माध्यम से राज किसान साथी पोर्टल पर आवेदन कर सकते हैं। प्रदर्शन आयोजन के लिए प्रगतिशील पशुपालक कृषको का चयन राज किसान साथी पोर्टल के माध्यम से संबंधित कृषि पर्यवेक्षक अथवा सहायक कृषि अधिकारी द्वारा जन आधार कार्ड का उपयोग करते हुए किया जाएगा। इसके पश्चात चयनित कृषक अधिकृत कृषक अथवा संस्था से रोपण सामग्री प्राप्त कर उपयोग में लेगा। भौतिक सत्यापन के उपरान्त अनुदान राशि का भुगतान कृषक के खाते में कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें   यदि आपके यहाँ भी है पुराना पेड़ तो सरकार देगी आपको पेंशन, बस यहाँ करना होगा आवेदन

इसके अतिरिक्त जिन गोशालाओं में चारा उत्पादन करने की सुविधा है एवं सिंचाई के पर्याप्त साधन है उन गोशालाओं के पदाधिकारी भी अपने जनआधार से नेपियर घास के प्रदर्शन लगाने के लिए आवेदन कर सकते हैं। योजना से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए नजदीकी कृषि कार्यालय में सम्पर्क किया जा सकता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबरें

डाउनलोड एप