मल्चिंग विधि से मिर्च की खेती करने से होता है अधिक फायदा जानें कैसे 

0
3218
views

मल्चिंग विधि से मिर्च की खेती करने से होता है अधिक फायदा जानें कैसे 

एक बीघा के लिए खेती की पूरी प्रक्रिया जाने |

बीज :-

  • एक बीघा में 10 ग्राम के पांच (50 ग्राम) पैकेट लगेगा |
  • एक पैकेट में 12000 बीज रहता है |
  • एक बीघा में लगभग 5500 से 6000 पौधें लगते हैं |

बीज का चुनाव :-

  1. शिमला मिर्च के लिए
  2. शिमला नोबेल
  3. नताशा  727
  4. सितारा

पौधें की उत्पति कैसे करें

  • एक बीघा के लिए 12 ट्रे ख़रीदे | एक ट्रे में 104 गुपी रहती  है |
  • पौधें की उत्पत्ति खेत में नहीं करें बल्कि नारियल के बुरादे में करें |
  • एक बीघा के लिए 10 किलोग्राम नारियल का बुरादा (कोकापिट) खरीदें

यह सभी सामग्री बीज की दुकान पर आसानी से उपलब्ध है |

एक घंटे के लिए नारियल का बुरादा (कोकापिट) पानी में डाने | एक घंटे के बाद  पानी से कोकापिट को बहार निकल दें  | उसके बाद ट्रेय के गुपी में आधा कोकापिट भर दें | अब मिर्च के बीज को प्रतेक गुपी में एक बीज डान दें | उसके बाद मिर्च के बीज के ऊपर से गुपी में कोकापिट भर दें | अब ट्रेय को  खुली हरे रंग के नेट में रख दें | ट्रेय को कभी भी घर में नहीं रखें | अब प्रतेक दिन उस गुपी में फुहारे से पानी दें | यह क्रम 40 दिनों तक चलने दें |

मिर्च के पौधे को लगाने के लिए वेड तैयार करें |

  • एक बीघा में आधा इंची के 300 मीटर ड्रिप लगेगा |
  • बाजार में 300 मीटर ड्रिप का कीमत 12000 रु. से 30000 रु. तक है |
  • एक बार ड्रिप खरीदने पर  6 साल तक उपयोग कर सकते है |
  • मल्चिंग एक बीघा में 1600 मीटर लगेगा | यह 2000 रु. प्रति 400 मीटर | एक बीघा में 8000 रु. लगेगा |

वेड जून महीने के पहले सप्ताह में तैयार करे |

कब क्या एवं किस प्रकार करें

  • वेड हाथ से तैयार कर सकते है | इसके लिए खेत को दो – तीन  बार अच्छी तरह जुताई कर लें | इसके बाद कुदाल से दोनों तरफ से मिटटी को एक तरफ करते जाए | वेड की ऊँचाई कमसे कम 6 इंच होना चाहिए | वेड की चौडाई  3 फिट रहना चाहिए तथा वेड से वेड की दूरी 3 से 4 फिट होना चाहिए |
  • वेड बन जाने के बाद वेड के ऊपर ड्रिप को रख दें ड्रिप दो धारी में रहेगा | इसके बाद ऊपर से मिल्न्चिंग लगादें | तथा मिल्चिन के दोनों छोरों को मिटटी से दबा दें जिससे हवा में उड़ ना सके |  पौधों की बुवाई करने के लिए मल्चिंग में छेड़ करने होगा | इसके लिए एक ग्लास लें तथा उसे गरम करके  मिल्चिंग पर 6 इंच पर रखते जाएँ जिससे मिल्चिंग में होल होता जायेगा | इसी होल में पौधे को बो सकते है  |
  • मिर्च के वेड बनाने के लिए एसे तो मशीन आती है | जिसमें एक ही साथ ड्रिप, मल्चिंग तथा मिटटी का बीएड बना देता है |
  • पहला कीटनाशक दवा 15 दिन पर दें  | किटा जिन कीटनाशक  ड्रिप के द्वारा पौधे के जड़ में देते है  | इसकी मात्र 25 ml 45 से 50 लीटर पानी में घोल कर देते है  | इसके साथ 0,52,34 खाद  ड्रिप  द्वारा पौधें में दे  |इसकी मात्रा एक बीघा में  2 किलोग्राम 50 लीटर पानी में घोलकर ड्रिप के द्वारा दें  | इस खाद की कीमत 2 किलोग्राम का 400 रु. है | यह क्रम प्रतेक  8 से 10 दिन पर यूरिया खाद ड्रीप से खाद दें |
  • कीटनाशक का छिडकाव  रोगर  बुवाई के 30 दिन बाद  2 ग्राम प्रति लीटर पानी में मिलाकर दें  | एक बीघा में 60 लीटर पानी में 120 ग्राम रोगर मिलाकर छिडकाव करें |
  • दूसरा छिडकाव पहले छिडकाव से 10 दिन बाद करें | दुसरे छिडकाव में इमीडा 20 ग्राम 60 लीटर पानी में छिडकाव करें | यह छिडकाव असल के अनुसार आगे भी देते रहें |
  •  रोपने के 50 दिन बाद पहली बार फसल को तोड़ें | प्रतेक 6 से 8 दिन बाद फसल को तोड़ें | यह फसल 6 महीने तक आप को फल देती रहेगी |
  •  अनुमानत: एक बीघा  2.5 लाख का शिमला मिर्च बेचा जा सकता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here