back to top
शुक्रवार, जून 14, 2024
होमकिसान समाचारतोरिया का न्यूनतम समर्थन मूल्य  घोषित, गिरती कीमतों के चलते चना...

तोरिया का न्यूनतम समर्थन मूल्य  घोषित, गिरती कीमतों के चलते चना और मसूर पर 30 प्रतिशत आयात शुल्क

तोरिया का न्यूनतम समर्थन मूल्य  घोषित, गिरती कीमतों के चलते चना और मसूर पर 30 प्रतिशत आयात शुल्क

2017-18 के सीजन के लिए उचित औसत गुणवत्ता (एफएक्यू) के तोरिया का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) 3900 रुपये प्रति क्विंटल तय किया गया है, जिसका विपणन वर्ष 2018-19 में किया जाएगा। 2017-18 के सीजन की रबी फसलों की मूल्य नीति के बारे में आर्थिक मामलों पर कैबिनेट समिति (सीसीईए) द्वारा लिए गए निर्णय के अनुसार तोरिया और रेपसीड/सरसों के सामान्य बाजार मूल्यों में अंतर के आधार पर तोरिया का एमएसपी निर्धारित किया गया है। इसका विपणन वर्ष 2018-19 में किया जाएगा।

सरकार ने तत्काल प्रभाव से चना और मसूर पर 30 प्रतिशत आयात शुल्क लगाने का निर्णय लिया है। आगामी रबी सीजन के दौरान चना और मसूर का अपेक्षाकृत अधिक उत्पादन होने की आशा है और यदि बेरोकटोक सस्ते आयात की अनुमति दी गई तो इससे किसानों के हितों पर आंच आएगी। इन बातों को ध्यान में रखने के साथ-साथ किसानों के हितों की रक्षा के लिए सरकार ने इस आयात शुल्क में बढ़ोतरी करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें   किसान इस समय पर करें कपास की बिजाई, कृषि विभाग ने दी किसानों को सलाह

मौजूदा समय में तूर अथवा अरहर पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगता है। सरकार ने हाल ही में पीली मटर पर 50 प्रतिशत आयात शुल्क लगाया है। हालांकि, अन्य दालों पर फिलहाल कुछ भी आयात शुल्क नहीं लगता है। चालू वर्ष में दालों का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है। हालांकि, देश में पर्याप्त उपलब्धता के बावजूद वर्तमान में अंतर्राष्ट्रीय मूल्य कम रहने के कारण दालों का निरंतर आयात किया जा रहा है। इस तरह के आयात से दालों की घरेलू कीमतें नीचे आ गई हैं और इस वजह से किसानों के हित बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें:जानें क्या है रबी 2017-18 के लिए समर्थन मूल्य

यह भी पढ़ें: किसानों की आर्थिक हालत को बेहतर करने और अन्न की आपूर्ति को भरोसेमंद बनाने के लिए जानें क्या थी स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें

यह भी पढ़ें: किसान भाई जाने क्या है न्यूनतम समर्थन मूल्य और इसका निर्धारण कैसे  होता है ?

यह भी पढ़ें: कच्चे जूट (पटसन) का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2017-18 के लिये

यह भी पढ़ें   किसान अभी खेत में लगा सकते हैं यह फसलें, वैज्ञानिकों ने जारी की सलाह

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर