मंगलवार, मार्च 5, 2024
होमकिसान समाचारफसलों पर ड्रोन से किया जा रहा है यूरिया एवं डीएपी खाद...

फसलों पर ड्रोन से किया जा रहा है यूरिया एवं डीएपी खाद का स्प्रे, बढ़ेगी फसलों की पैदावार

ड्रोन से नैनो यूरिया एवं डीएपी खाद का छिड़काव

देश में कृषि की लागत को कम करने एवं किसानों की आमदनी को बढ़ाने के उद्देश्य से सरकार द्वारा कृषि की नई तकनीकों को बढ़ावा दिया जा रहा है। इस क्रम में सरकार कृषि ड्रोन के माध्यम से कीटनाशक दवाओं एवं उर्वरक के छिड़काव के लिए किसानों को प्रोत्साहित कर रही है। यहाँ तक कि ड्रोन खरीद एवं ड्रोन के उपयोग पर भी सरकार किसानों को भारी अनुदान दिया जा रहा है।

इस क्रम में सरकार द्वारा शुरू की गई पहल विकसित भारत संकल्प यात्रा के माध्यम से किसानों के खेतों में ड्रोन से नैनो डीएपी एवं नैनो तरल यूरिया का छिड़काव किया जा रहा है। बता दें कि विकसित भारत संकल्प यात्रा को शुरू हुए 10 दिन हो चुके हैं। इसकी शुरुआत माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 नवम्बर को जनजातीय गौरव दिवस के दिन झारखंड के खूंटी से शुरू की थी। यह यात्रा 26 जनवरी 2024 तक चलेगी, जिसमें देश के हर गाँव को कवर किया जाएगा।

यह भी पढ़ें   किसान न्याय योजना: 24 लाख से अधिक किसानों को जारी की गई 1895 करोड़ रुपए की तीसरी किश्त

नैनो तरल यूरिया एवं डीएपी का किया जा रहा है छिड़काव

विकसित भारत संकल्प यात्रा के तहत देश के सभी गाँव को कवर किया जाएगा। यात्रा के दौरान देश के अलग-अलग राज्यों में ड्रोन द्वारा उर्वरकों और कीटनाशकों का छिड़काव किया जा रहा है। इस यात्रा के तहत झारखंड के जनजातीय बहुल 09 जिलों के विभिन्न ग्राम पंचायतों के किसानों के खेत में खड़ी फसल आलू, मटर, गेहूं, मक्का, सरसों, अरहर आदि में इफ़को नैनों उर्वरक यूरिया एवं DAP का स्प्रे ड्रोन के द्वारा कराया जा रहा है, साथ ही किसानों से इस विषय पर बातचीत कर उनका अनुभव भी सुना जा रहा है।

ड्रोन से स्प्रे करने पर बढ़ती है फसलों की पैदावार

भारत सरकार के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय तथा कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के अधीनस्थ कार्य करते हुए इफ़को द्वारा ड्रोन तकनीक की जानकारी किसानों को दी जा रही है। ड्रोन तकनीक से छिड़काव के कई फायदे हैं। ड्रोन से खाद के छिड़काव से एक ओर जहां कम खाद की आवश्यकता होती है जिससे फसल उत्पादन की लागत कम होती है तो वहीं पैदावार अधिक होती है। ड्रोन से उर्वरक का छिड़काव करने से पौधे के पत्तों के ऊपरी और निचले हिस्से दोनों में स्प्रे होता है। इससे पौधों को ज्यादा मात्रा में पोषक तत्व मिलते हैं और पौधों की ग्रोथ परम्परागत खेती की तुलना में बेहतर होती है।

यह भी पढ़ें   किसानों को अब इस रेट पर मिलेंगे आलू के प्रमाणित बीज, सरकार ने की 1000 रुपए की कमी

विकसित भारत संकल्प यात्रा क्या है?

प्रधानमंत्री मोदी ने 15 नवम्बर के दिन जनजातीय गौरव दिवस से विकसित भारत संकल्प यात्रा की शुरुआत की, जो 26 जनवरी 2024 तक देश के सभी गाँव में पहुँचेगी। इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य देश भर में केंद्र सरकार द्वारा देश के नागरिकों के हित में चलाई गई कल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलाना है। यात्रा का लक्ष्य लोगों तक पहुंचने, जागरूकता पैदा करने और स्वच्छता सुविधाएं, आवश्यक वित्तीय सेवाएं, बिजली कनेक्शन, एलपीजी सिलेंडर तक पहुंच, गरीबों के लिए आवास, खाद्य सुरक्षा, उचित पोषण, विश्वसनीय स्वास्थ्य देखभाल, स्वच्छ पेयजल इत्यादि जैसी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रदान करना है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

Trending Now

डाउनलोड एप