back to top
Wednesday, May 22, 2024
Homeकिसान समाचारइन तहसीलों को किया गया सूखाग्रस्त श्रेणी से बहार

इन तहसीलों को किया गया सूखाग्रस्त श्रेणी से बहार

सूखे से फसल नुकसानी का मुआवजा

मानसून का साथ नहीं देने के कारण देश के अलग–अलग राज्यों के जिलों में अधिक बारिश एवं कम बारिश से सूखे के कारण किसानों की फसलों को काफी नुकसान हुआ है | राजस्थान के कुछ जिलों में सूखे से फसलों को काफी नुकसान हुआ है, जिसे देखते हुए राज्य सरकार ने विशेष गिरदावरी रिपोर्ट तैयार की है | जिसके आधार पर राज्य के जिलों की अलग-अलग तहसीलों को सूखा ग्रस्त घोषित किया गया है |

राजस्थान सरकार द्वारा 29 अक्टूबर 2021 को जारी अधिसूचना में राज्य के 12 जिलों की 69 तहसीलों के 744 गावों को सूखाग्रस्त घोषित किया गया था | परन्तु जिलों से प्राप्त गिरदावरी रिपोर्ट के आधार पर अब कुछ तहसीलों को इससे बहार कर दिया गया है जिससे अब इन तहसीलों के किसानों को फसल क्षति का मुआवजा नहीं मिलेगा |

इन तहसीलों को किया गया सूखे से बहार

राज्य सरकार द्वारा संशोधित अधिसूचना जारी कर पूर्व में अकालग्रस्त घोषित की गई अजमेर जिले की 4 तहसीलों, विजयनगर, केकड़ी, अराई एवं किशनगढ़ को तथा हनुमान गढ़ जिले की नोहर तहसील को बहार कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें   स्वीट कॉर्न की खेती से यहाँ के किसान कर रहे हैं लाखों रुपये की कमाई, सरकार खेती के लिए दे रही है प्रोत्साहन

राज्य सरकार की 29 अक्टूबर 2021 को जारी अधिसूचना के तहत अजमेर, चूरू, बाड़मेर, बीकानेर, हनुमानगढ़, जालौर, जैसलमेर, पाली, सिरोही, जोधपुर, नागौर तथा डूंगरपुर जिलों की 69 तहसीलों को अकालग्रस्त घोषित किया था। जिला कलक्टर अजमेर एवं हनुमानगढ़ से प्राप्त गिरदावरी रिपोर्ट के आधार पर इन जिलों में सूखे से खराबा नहीं होने के कारण पूर्व में अकालग्रस्त घोषित अजमेर जिले की 4 तथा हनुमानगढ़ जिले की एक तहसील को डीनोटिफाई किया गया है।

इन तहसीलों को रखा गया है सूखाग्रस्त श्रेणी में

राज्य सरकार द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार जिन तहसीलों को गंभीर सूखाग्रस्त घोषित किया गया है, उनमें चूरू जिले की तारानगर तहसील, जोधपुर जिले की 10 तहसीलें जोधपुर, शेरगढ़, सेखाला, लूणी, बालेसर, बाप, फलोदी, भोपालगढ़, देचूं और आऊ शामिल हैं। बाड़मेर जिले की सबसे अधिक 16 तहसीलें गंभीर सूखाग्रस्त घोषित की गई हैं। इनमें बाड़मेर, रामसर, बायतु, गिडा, शिव, गडरारोड, गुडामालानी, धोरीमन्ना, सिणधरी, चौहटन, सेडवा, सिवाना, समदडी, पचपदरा, धनाऊ और कल्याणपुर सम्मिलित हैं।

यह भी पढ़ें   किसानों को कृषि यंत्रों एवं कस्टम हायरिंग केंद्र पर मिलेगी 80 प्रतिशत तक की सब्सिडी, इस दिन शुरू होंगे आवेदन

इसी तरह जालोर जिले की 9 तहसीलें जालोर, सायला, आहोर, भीनमाल, बागोड़ा, जसवंतपुरा, रानीवाड़ा, सांचौर और चितलवाना और जैसलमेर जिले की 9 तहसीलें जैसलमेर, पोकरण, फतेहगढ़, भणियाणा, उपनिवेशन जैसलमेर, उपनिवेशन रामगढ़-I, उपनिवेशन रामगढ़-II, उपनिवेशन मोहनगढ़- I, उपनिवेशन मोहनगढ़- II शामिल हैं। बीकानेर की 6 तहसीलें लूणकरणसर, नोखा, कोलायत, खाजूवाला, छत्तरगढ़ और श्रीडूंगरगढ़ को भी गम्भीर सूखा्ग्रस्त तहसीलों में शामिल किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर