फसल में रोग या कीट लगने पर इस नंबर पर SMS (एस.एम.एस) करें

2
7988
views
phasal mein keet rog lagane par kisan sahaayata kendr nambar

फसल में कीट रोग लगने पर सहायता केंद्र नम्बर

किसानों ने रबी फसल की बुवाई शुरू कर दी है | बुवाई के साथ फसल में अनेक तरह के कीट तथा रोग लगने की सिलसिला शुरू हो जायेगा | इसको लेकर सरकार ने तैयारी शुरू कर दिया है | सरकार ने किसानों की समस्या को कम समय में दूर करने के लिए किसान सहायता  नम्बर शुरू किया है | यदि कि सी किसान की फसल में कीड़ा या रोग लगता है तो फोन नंबर 9452247111 तथा 9452257111 पर एस.एम.एस करें, 24 घंटे में अधिकारी पहुँचकर समस्या का निदान कराएंगे | यह बात प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद ने कमिश्नर सभागार में वाराणसी में ध्यांचल मंडल की रबी उत्पादकता गोष्ठी में बोल रहे थे |

किसानों को यह सुझाव भी दिए गए 

उन्होंने रबी फसल की बुआई समय से व लाइन से करने, फसल अवशेष नहीं जलाने, खरपतवार जलाने हेतु डिक्म्पोजर का प्रयोग करने आदि बिन्दुओं की जानकारी दी | इसके साथ ही मुख्य सचिव ने खेती से संबंधित कुछ वैज्ञानिक लाभकारी सुझावों यथा–खेत का समतलीकरण से कम खर्चा व उत्पादन अधिक होना, माइक्रोन्यूट्रिएंट का समुचित उपयोग , मृदा स्वास्थ्य कार्ड के अनुरूप ही उर्वरकों के प्रयोग , कंपोष्ट, वर्मी कंपोष्ट, जैविक खाद, जैविक कीटनाशकों के उपयोग, गोवंश को कृषि का अंग बनाकर अपनाने आदि को उपयोग में लाने पर विशेष जोर दिया | मुख्य सचिव ने किसान समस्याओं को प्राथमिकता पर निस्तारण का निर्देश देते हुए कहा कि यदि किन्हीं करणवश कोई कार्य नहीं हो पा रहा है तो वास्तविक स्थिति से किसान को अवगत कराने के निर्देश दिए |

यह भी पढ़ें   किसान अब आसानी से ले सकेंगे ट्रेक्टर एवं अन्य कृषि यंत्र सब्सिडी पर

पशु को अब खुला नहीं छोड़ा जा सकता है ?

गाँव में आवारा पशु एक बहुत बड़ी समस्या बन गया है | इससे फसलों की बरबादी के चलते किसान खेती करना कम कर दिए हैं | इसको लेकर समय – समय पर किसानों के द्वारा विरोध प्रदर्शन भी किया जाता है | इस पर मुख्य उत्तर प्रदेश के कृषि विभाग के मुख्य सचिव ने कहा कि जो भी किसान अपना पशु खुला छोड़ देगा उस पर एफ.आई.आर. दर्ज कर जेल भेजा जायेगा | आवारा पशु को गोशाला में रखने के निर्देश दिए हैं | इसके साथ ही यह कहा गया है कि इन पशुओं के लिए किसी प्रकार की पैसे की कमी नहीं है |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here