धान की फसल में लगने वाले कीट एवं रोग का नियंत्रण इस तरह करें

10
13131
dhaan ki fasal me keet rog

धान की फसल में लगने वाले कीट एवं रोग नियंत्रण

चावल दुनिया की आधी आबादी का मुख्य भोजन है और इसकी खेती वैश्विक स्तर पर की जाती है | विश्व में धान लगभग 148 मिलियन हेक्टेयर भूमि में उगाया जाता है, जिसका लगभग 90 प्रतिशत एशियाई देशों में होता है | वहीँ देश में किसानों के लिए धान की फसल आय का प्रमुख स्त्रोत है, इसलिए यह जरूरी है की किसान धान की फसल का कम लागत में अधिक उत्पादन कर अधिक आय प्राप्त कर सकें |

अधिक उत्पादन के लिए एकीकृत कीट प्रबंधन एक व्यापक पारिस्थितिक दृष्टिकोण है, जिसमें सभी उपलब्ध तकनीकों जैसे कि कल्चरल, आनुवांशिक, यांत्रिक, जैविक एवं रासयनिक कीटनाशकों को एक सामंजस्यपूर्ण और संगतपूर्ण रूप में उपयोग किया जाता है, जिससे फसल में लगने वाले कीटों की संख्या को आर्थिक चोट स्तर से नीचे रखा जा सके | एकीकृत कीट प्रबंधन का उद्देश्य पर्यावरण की सुरक्षा के अलावा मानव और पशु स्वस्थ पर ध्यान देने के साथ फसल के नुकसान को कम किया जा सके |

धान की फसल में एकीकृत कीट प्रबंधन की प्रमुख तकनीकें :-

कल्चरल/संस्कृति तकनीक :-

यह आई.पी.एम की एक प्रमुख तकनीक है इसमें ग्रीष्मकालीन जुताई, स्वस्थ बीजों का चयन, समय पर रोपण, स्वस्थ नर्सरी की स्थापना, खेत से खरपतवार निकालना, उर्वरकों एवं रसायनों का संतुलित उपयोग इत्यादि तकनीकें आती है, जिनका उपयोग धान में कीट प्रबंधन के लिए किया जाता है |

यांत्रिक तकनीक :-

इसमें संक्रमित पौधों के हिस्सों को हटाना और नष्ट करना, धान की अंकुर युक्तियों की कतरन, अंडों एवं कीट के लार्वा को एकत्र कर नष्ट करना, जैविक ट्रेप, पीला ट्रेप इत्यादि का उपयोग कर कीटों को नियंत्रित किया जाता है |

जैविक नियंत्रण तकनीक :-

इसमें बायोकंट्रोल एजेंटों जैसे की – कोकिनेलीड्स, मक्खियों, मकड़ियों, ड्रेगनफलीज इत्यादि का प्रयोग एवं संरक्षण किया जाता है | अंडा परजीवों तथा ट्राइको–कार्ड इत्यादि का उपयोग भी इसी के अंतर्गत आता है |

व्यवहार पर नियंत्रण :-

इस तकनिक में धान की रोपाई के 10 दिन बाद पीला तना छेदक को फांसने के लिए फेरामोन ट्रैप, 20 ट्रैप / हेक्टेयर की दर से लगाए जाते हैं |

धान की फसल में रासायनिक नियंत्रण के उपाय :-

रासायनिक कीटनाशकों का उपयोग आईपीएम में अंतिम उपाय के रूप में किया जाता है | रासायनिक कीटनाशकों को उपयोग में लेने से पहले ईटीएल का निरिक्षण और प्राकृतिक वयोकंट्रोल एजेन्टों के संरक्षण को सुनिश्चित करना आवश्यक होता है |

धान की फसल में लगने वाले प्रमुख रोग

झोंका/ब्लास्ट रोग :-

इस रोग का प्रकोप सामन्यत: असिंचित धान में अधिक देखा जाता है | इस रोग के प्रमुख लक्षण पौधों की पत्तियों, तना, गांठों, पेनिफ्ल व बालियों पर दिखाई देती है | इस रोग में पत्तियों पर आँख की आकृति अथवा सपिलाकार धब्बे दिखाई देते हैं, जो बीच में राख के रंग के तथा किनारों पर गहरे भूरे रंग के होते हैं | तने की गांठो तथा पेनिफल का भाग आंशिक अथवा पूर्णत: काला पड़ जाता है तना सुकड कर गिर जाता है | इस रोग का प्रकोप जुलाई से  सितम्बर माह में अधिक होता है |

रोग नियंत्रण कैसे करें ?
  • इस रोग के नियंत्रण के लिए ट्राईसाइक्लेजोल 2 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज दर से उपचारित कर के लगायें तथा आवश्यकता पड़ने पर1% कार्बेन्डाजिम का छिडकाव पुष्पन की अवस्था में करें |
  • रोग प्रतिरोध प्रजातियों का उपयोग करें जैसे वी.एल. धान 206 , मझरा – 7, वी.एल.धान – 61 इत्यादि |
  • इस रोग के लक्षण दिखाई देने पर बाली निकलने के दौरान आवश्यकतानुसार 10–12 दिन के अन्तराल पर कार्बेन्डाजिम 50% घुलनशील धूल की 15–20 ग्राम मात्र को 15 ली. पानी में घोलकर छिडकाव करें |
यह भी पढ़ें   फसलों में लगने वाले 200 प्रकार के कीट को खत्म कर सकता यह जैविक फफूंद का घोल

भूरी चित्ती रोग :-

इस रोग में छोटे–छोटे भूरे रंग के धब्बे पत्तियों पर दिखाई देते हैं तो अत्यधिक संक्रमण की अवस्था में आपस में मिलकर पत्तियों को सुखा देते हैं और बालियों पूर्ण रूप से बाहर नहीं निकल पाती | यह रोग कम उर्वरता वाले क्षेत्रों में अधिक होता है |

 रोग नियंत्रण के लिए क्या करें  

  • नत्रजन, फास्फोरस व पाटास उर्वरकों का प्रयोग संतुलित मात्रा में करें |
  • थीरम5 ग्राम / किलोग्राम बीज दर से उपचारित कर के बुवाई करें |
  • रोग लक्षण दिखाई देने पर25% मैंकोजेब का छिडकाव करें |

र्णच्छद अंगमारी शीथ ब्लाइट रोग :-

इस रोग के प्रमुख लक्षण पर्णच्छ्दों व पत्तियों पर दिखाई देते हैं | इसमें पर्णच्छद पर पत्ती की सतह के ऊपर 2-3 से.मी. लम्बे हरे–भूरे या पुआल के रंग के क्षत स्थल बन जाते हैं |

रोग प्रबंधन :-

  • फसल कटने के बाद अवशेषों को जला दें |
  • खेतों में जल निकासी की व्यवस्था अच्छी होनी चाहिए तथा जल भराव नहीं होना चाहिए |
  • रोग के लक्षण दिखाई देने पर प्रोपेकोनाजोल 20 मि.ली. मात्रा को 15 – 20 ली. पानी में घोलकर प्रति नाली की दर से छिडकाव करें |

भासी कंड :-

इस रोग के लक्षण बाली निकलने के बाद ही स्पष्ट होते हैं | इसमें रोगग्रस्त दानें पीले अथवा संतरे के रंग के होते हैं जो बाद की अवस्था में जैतुनी काले रंग के गोले में बदल जाते हैं | इस रोग का प्रकोप अगस्त – सतम्बर माह में अधिक दिखाई देता है |

रोग प्रबंधन :-

  • संक्रमित पौधों को सावधानीपूर्वक निकाल कर व जला कर नष्ट कर दें |
  • रोग ग्रसित क्षेत्रों में पुष्पन के दौरान3% कापर आक्सीक्लोराइड 50% एस.पी. का छिडकाव करें |

खैरा रोग :-

यह रोग मिट्टी में जिंक की कमी के कारण होता है | इस रोग में पत्तियों पर हल्के पीले रंग धब्बे बनते हैं जो बाद में कत्थई रंग के हो जाता है |

रोग प्रबंधन :-

  • जिंक सल्फेट+बुझा हुआ चूना (100 ग्राम + 50 ग्राम) प्रति नाली की दर से 15 – 20 ली. पानी में घोलकर छिडकाव करें |

धान की फसल में लगने वाले प्रमुख कीट

तना छेदक एवं गुलाबी तना बेधक

इस कीट की सूडी अवस्था आक्रमक तथा क्षतिकारी होती है | इसमें सूड़ियाँ मध्य कलिकाओं की पत्तियों को छेदकर अन्दर घुस जाती है तथा अन्दर ही अन्दर तने को खाती हुई गाँठ तक चली जाती है | अगर इस कीट का प्रकोप पौधे की बढ़कर अवस्था में अधिक होता है तो पौधों में बालियाँ नहीं निकलती है | यदि बाली अवस्था में प्रकोप हो तो बालियाँ सूखकर सफेद पड़ जाती है तथा दाने नहीं बनते | इस कीट का प्रकोप पर्वतीय क्षत्रों में असिंचित धान में तना छेदक की अपेक्षा अधिक पाया जाता है |

कीट प्रबंधन :-

  • फसल की कटाई जमीन की सतह से करें तथा अवशेष ठुठों को एकत्रित कर के जला दें
  • जिंक सल्फेट + बुझा हुआ चूना (100 ग्राम + 50 ग्राम) प्रति नाली की दर से 15 – 20 ली. पानी में घोलकर छिडकाव करें | यदि बुझा हुआ चूना ना हो तो 2% यूरिया का घोल उपयोग कर सकते हैं |
  • रोपाई करते समय पौधे के उपरी भाग को थोडा सा काटकर हटा दें जिससे इसमें उपस्थित तना छदक के अंडे नष्ट हो सके |
  • अंडा परजीवी ट्राइकार्ड (ट्राइकोग्राम जपोनिकम) 2000 अंडे / नाली, कीट का प्रकोप प्रारम्भ होने पर लगभग 6 बार प्रयोग करना चाहिए अथवा फोरामोन टप का प्रयोग 500 वर्ग मी. क्षेत्रफल में (2.5 नाली) एक ट्रेप की दर से प्रयोग करें | 15 – 20 दिन के अंतराल पर ट्रेप का ल्यार का बदलते रहना चाहिए |
  • 5 प्रतिशत सुखी बालियाँ दिखने पर केल्डान 4 जी अथवा पडान 4 जी दवा को 400 ग्राम / नाली की दर से प्रयोग करें |
यह भी पढ़ें   कृषि क्षेत्र में बिज़नेस या दुकान खोलने के लिए 50 प्रतिशत सब्सिडी पर लें प्रशिक्षण

धान का पत्ती लपेटक कीट :-

इस कीट की मादा पत्तियों की शिराओं के पास समूह में अंडे देती है जिनसे 6 से 8 दिन में सुंडियाँ निकलकर पहले मुलायम पत्तियों को खाती है तथा बाद में अपने लार द्वारा रेशमी धागा बनाकर पत्तियों के किनारों को मोड़ देती है | यह सुंडियों पत्तियों को अंदर ही अंदर खुरचकर खाती है , जिससे धान की पत्तियाँ सफेद व झुलसी हुई दिखाई देती है | इस कीट का प्रकोप अगस्त – सतम्बर माह में अधिक होता है |

रोकथाम कैसे करें :-

  • खेत व आस – पास की मेड़ों पर उगी हुई घास एवं खरपतवारों को निकालकर व जला कर नष्ट कर दें क्योंकि यह कीट पहले इन्हीं पर पनपता है |
  • इस कीट से बचाव के लिए मालाथियान 5 प्रतिशत विष धूल की 500 – 600 ग्राम मात्रा प्रति नाली की दर से छिडकाव करें |

धान का गूंधी बग :-

इस कीट का व्यस्क लम्बा, पतला व हरे रंग का उड़ने वाला होता है | इस कीट से आने वाले दुर्गन्ध से भी इस कीट की पहचान की जा सकती है | यह कीट दुधिया दानों को चूसकर क्षति पहुंचाता है , जिससे दानों पर भूरे रंग के धब्बे बन जाते हैं तथा दाने अंदर से खोखले हो जाते हैं |

गूंधी बग का कीट का नियंत्रण कैसे करें ?

  • खेत से एवं आसपास के मेड़ों से घास एवं अन्य खरपतवार को निकालकर और जलाकर नष्ट कर दें |
  • यदि एक या एक से ज्यादा कीट प्रति पौधा दिखाई दें तो मालाथियान 5% विष धूल की 500 – 600 ग्राम मात्रा प्रति नाली की दर से बुरकाव करें |
  • प्रकाश प्रपंच का प्रयोग भी कर सकते हैं |
  • अंडा परजीवी ट्राईकोग्रामा जापोनिकम का प्रयोग करें |
  • 10% पत्तियाँ क्षतिग्रस्त होने पर केल्डान 50% घुलनशील धूल का 2 ग्राम / ली. पानी का घोल बनाकर छिडकाव करने से भी इस कीट से होने वाली क्षति को नियंत्रित किया जा सकता है |

कुरमुला कीट :-

असिंचित धान में इस कीट का प्रकोप जुलाई – अगस्त माह में अधिक देखने को मिलता हैं | सिंचित धान में यह कीट क्षति नहीं पहुंचा पाता | यह कीट धान के पौधों की जड़ों को खाकर नष्ट करती है, जिससे पौधा पीला पड़ जाता है और बाद में सुखकर गिर जाता है | एसे संक्रमित पौधों को पकड़कर खींचने पर आसानी से उखड़ जाते हैं |

कुरमुला कीट का नियंत्रण कैसे करें

  • फसल कटने के बाद खेतों की गहरी जुताई कर के छोड़ दें |
  • खेतों में सड़ी हुई गोबर खाद का प्रयोग करें |
  • मई – जून माह से ही प्रकाश प्रपंच का प्रयोग करें |
  • खड़ी फसल में क्लोरपाइरिफांस 20 EC की 80 मि.ली. को 1 किलोग्राम सूखी बालू / राख में मिलाकर मृदा के उपर बुरकाव करें |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

10 COMMENTS

  1. सर जी हमारे धान की फसल में बालियो में लाल रंग का धब्बा हो रहा है और उसमें दूध नई भर रहा है,
    उसके रोकथाम केलिए क्या करे

  2. सर धान की पत्ती पीली हो रही है।और सुख जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here