जैविक खेती के लिए किसानों को दिए जायेंगे 2.4 लाख रूपये

0
1597
views

जैविक खेती के लिए अनुदान एवं प्रशिक्षण

एक तरफ देश में कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए नये – नये तरह के प्रयोग किया जा रहा है | नये – नये तरह के बीज, कीटनाशक, उर्वरक, की खोज की जा रही है | अब तो यहाँ तक हो गया है की जलवायु के अनुसार बीज खोजे जा रहें है | खेती के लिये तापमान नियंत्रित करके खेरी किया जा रहा है | दूसरी तरफ परम्परागत खेती पर लौटने की कोशिश भी कि जा रही है | अधिक उर्वरक के उपयोग से कैंसर जैसी बीमारी को बढ़ावा मिल रहा है | पंजाब के भठिंडा एक एसी जगह है जहां पर सबसे ज्यादा कैंसर के मरीज है | इसलिए केंद्र सरकार ने भी यूरिया की पैकेट में 5 किलोग्राम कम कर दिया है | इसी सभी को ध्यान में रखते हुये बिहार राज्य सरकार ने जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहन दे रही है |

बिहार राज्य सरकार ने वर्ष 2018 – 19 में परम्परागत कृषि विकास योजना (पी.के.भी.आई.) को 102 नये कलस्टर में संचालित किया जायेगा तथा पत्येक क्लस्टर 20 हेक्टयर का होगा | इन कलस्टर के सभी कृषकों को भारत सरकार द्वारा प्रव्ध्नित सहायता अनुदान के अनुरूप विभिन्न घटकों के लिए अनुदान एवं प्रक्षिक्षण दिया जायेगा | इस योजना के तहत जैविक विधि से खेती एवं उनका पी.जी.एस. आधारित जैविक प्रमानिकरण हेतु सहायता अनुदान का प्रवधान किया गया है | जैविक खेती एवं उनका प्रमानिकरण का कार्य चयनित क्लस्टर में लगातार तीन  वर्षों तक संचालित किया जायेगा | जैविक उत्पादन को बढ़ाबा  देने हेतु कृषकों को अधिकतम 1 हेक्टयर तक के लिए सहायता अनुदान दिया जायेगा |

यह भी पढ़ें   मध्यप्रदेश में समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए इन फसलों के पंजीयन की अवधि बढाई गई

अनुदान किस प्रकार किस प्रकार दिया जायेगा

राज्य में केंद्र प्रायोजित राष्ट्रीय संधारनीय कृषि मिशन के तहत परम्परागत कृषि विकास योजना हेतु वित्तीय वर्ष 2018 – 19 में कुल 343.33 लाख रूपये की स्वीकृति प्रदान की गई है | इस योजना का कार्यान्वयन वर्ष 2018 – 19 से किया जायेगा | एक ही क्लस्टर में प्रथम, दिवतीय एवं तृतीय वर्ष में योजना का कार्यान्वयन किया जायेगा | वर्तमान वर्ष 2018 – 19 में इस योजना के प्रथम वर्ष का कार्यान्वयन किया जाना है |

20 हेक्टयर के लिए एक क्लस्टर में प्रथम वर्ष में किसानों के लिए 2,40,000 रूपये तथा मोबलाईजेशन एवं पी.जी.एस. सर्टिफिकेशन, वैलू एडिसन, इत्यादि के लिए 90,000 रूपये देय होगा | दिवतीय वर्ष में किसानों के लिए 2,00,000 रूपये तथा मोबलाईजेशन एवं पी.जी.एस. सर्टिफिकेशन, वैलू एडिसन, इत्यादि के लिए 1,40,000 रूपये देय होगा | तृतीय वर्ष में किसानों के लिए 1,80,000 रूपये तथा मोबलाईजेशन एवं पी.जे.एस. सर्टिफिकेशन वैल्यू एडिशन इत्यादि के लिए 1,50,000 रूपये देय होगा |

यह भी पढ़ें   कपास एवं अन्य खरीफ फसलें समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए ई-पंजीयन कब करवाएं

किसान समाधान के Youtube चेनल को सब्सक्राइब करने के लिए नीचे दिए गए बटन को दबाएँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here