back to top
28.6 C
Bhopal
शुक्रवार, जून 21, 2024
होमकिसान समाचारफसल बीमा के लिए सरकार ने शुरू की किसान रक्षक हेल्पलाइन,...

फसल बीमा के लिए सरकार ने शुरू की किसान रक्षक हेल्पलाइन, किसानों को मिलेगा समस्याओं का समाधान

पीएम फसल बीमा योजना के लिए किसान रक्षक हेल्पलाइन

देश में किसानों की फसलों को प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना” चलाई जा रही है। योजना का लाभ अधिक से अधिक किसानों तक पहुँचाने एवं किसानों को योजना के तहत आ रही समस्याओं को दूर करने के लिए सरकार द्वारा कई प्रयास किए जा रहे हैं। इस क्रम में 8 फरवरी के दिन सरकार ने किसानों की सुविधा के लिए 3 नई सुविधाओं को शुरू किया है।

8 फरवरी के दिन केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण और जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) के अंतर्गत केंद्रीयकृत “किसान रक्षक हेल्पलाइन 14447 और पोर्टल”, कृषि-बीमा सैंडबॉक्स फ्रेमवर्क प्लेटफार्म सारथी (SARTHI) एवं कृषि-समुदाय के लिए लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम (एलएमएस) प्लेटफॉर्म का शुभारंभ किया।

किसानों के लिए शुरू किया गया हेल्पलाइन किसान रक्षक

सरकार ने देश में किसानों को फसल बीमा योजना के तहत आ रही समस्याओं को दूर करने के लिए “किसान रक्षक हेल्पलाइन और पोर्टल” विकसित किया है। किसान इस हेल्पलाइन नंबर 14447 पर कॉल करके अपनी समस्याओं का समाधान पा सकेंगे। इसके लिए किसानों को टिकट जारी किया जाएगा। टिकट जारी होने का बाद 15 दिनों के अंदर किसानों को फसल बीमा संबंधित आ रही समस्याओं का समाधान किया जायेगा।

यह भी पढ़ें   सब्सिडी पर ड्रोन खरीदने के लिये आवेदन करें

इस अवसर पर केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार किसानों से डिजिटली जुड़ते हुए आगे बढ़ने का काम कर रही है। इसके लिए ही सरकार ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत कृषि रक्षक पोर्टल व हेल्पलाइन, सैंडबॉक्स फ्रेमवर्क एवं एलएमएस प्लेटफॉर्म का शुभारंभ किया है।

फसल बीमा SARTHI प्लेटफ़ॉर्म

इस प्लेटफ़ार्म पर किसानों को न केवल फसलों के बीमा की सुविधा मिलेगी बल्कि इस पोर्टल पर किसान अन्य प्रकार की बीमा योजनाओं का लाभ भी ले सकेंगे। भारत सरकार ने SARTHI – एक व्यापक बीमा प्लेटफार्म विकसित किया है जो SARTHI किसान समुदाय की विविध जरूरतों को पूरा करने के लिए कई बीमा उत्पाद प्रदान करता है। SARTHI प्लेटफार्म पर किसानों को स्वास्थ्य बीमा और जीवन बीमा से लेकर कृषि उपकरणों, पशुओं और अन्य के लिए कवरेज मिलेगा। यह पहल सतत विकास लक्ष्यों (SDGs) के अनुरूप है।

मात्र 1 रुपये में हो रहा है किसानों का बीमा

कृषि मंत्री ने कार्यक्रम में कहा कि जलवायु परिवर्तन के इस दौर में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना छोटे व सीमांत किसानों के लिए वरदान साबित हुई है। महाराष्ट्र, ओडिशा, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों में सरकारें किसान प्रीमियम के रूप में केवल 1 रुपये के साथ सार्वभौमिक कवरेज प्रदान करके किसानों का समर्थन करने के लिए आगे आई हैं। पिछले कुछ समय में योजना के क्रियान्वयन में सुधार के प्रयास भी लगातार जारी हैं। सरकार प्रतिबद्ध है कि कृषि क्षेत्र में ऐसी योजनाओं को आगे बढ़ाएं, जिससे किसानों के लिए जोखिम कम हो व आय बेहतर हो सकें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कोशिश होनी चाहिए कि किसानों की समस्या का समाधान डाटा के साथ करने में समर्थ हों।

यह भी पढ़ें   किसान इस तरह ले सकते हैं पेड़ी गन्ने की अधिक पैदावार

सरकार ने सालभर में येस टेक, डिजिक्लेम, विंड्स, क्रोपिक, ऐड ऐप जैसी नई तकनीकें पेश करके देश के किसानों के लिए व्यापक जोखिम सुरक्षा और समर्थन सुनिश्चित करने के लिए मजबूत कृषि बीमा पारिस्थितिकी स्थापित करने का लक्ष्य रखा है। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय का मानना है कि ये पहलें देश के कृषि क्षेत्र में एक नया अध्याय लिखेगी और किसानों के जीवन व आजीविका में सकारात्मक बदलाव लाएंगी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर