बुधवार, फ़रवरी 28, 2024
होमकिसान समाचारछत पर फल-फूल और सब्जी लगाने के लिए सरकार दे रही है...

छत पर फल-फूल और सब्जी लगाने के लिए सरकार दे रही है 75 फीसदी सब्सिडी, यहाँ करना होगा आवेदन

छत पर फल सब्जी की बागवानी के लिये अनुदान हेतु आवेदन

देश में तेजी से शहरीकरण बढ़ने के साथ ही खेती योग्य भूमि कम होने की वजह से शहर में रहने वाले लोगों को ताजी सब्जियों से वंचित होना पड़ रहा है। ऐसे में शहरों में रहने वाले लोग अपनी छतों पर ही गॉर्डनिंग करने लगे हैं। जिससे लोगों को खाने के लिए ताजी जैविक सब्जी और फल तो मिलते ही है साथ ही रोजाना होने वाले खर्चे से भी राहत मिलती है। इन बातों को ध्यान में रखकर बिहार सरकार राज्य में “छत पर बागवानी योजना” लाई है। योजना के तहत सरकार छत पर बागवानी करने वाले लोगों को अनुदान देगी।

इस योजना के अन्तर्गत बिहार सरकार लाभार्थी व्यक्तियों को सब्जी, फल-फूल और औषधीय पौधे अपने घरों पर ख़ाली पड़े छत पर लगाने के लिए अनुदान देगी। जिससे गॉर्डनिंग का शौक़ रखने वाले व्यक्तियों को घर पर ही ताजी जैविक सब्जी, औषधी और फलों का लाभ मिलेगा और खाली जगह का इस्तेमाल भी हो सकेगा।

छत पर बागवानी करने वालों को कितना अनुदान Subsidy मिलेगा ?

उद्यानिकी निदेशालय बिहार सरकार द्वारा छत पर बागवानी के लिए अनुदान दिया जा रहा है। इस योजना का लाभ अभी पटना, गया, मुजफ्फरपुर एवं भागलपुर के शहरी क्षेत्रों के लोगों को दिया जाएगा। योजना के तहत फार्मिंग बेड हेतु मकान की छत पर 300 वर्ग फीट की खुली जगह में बागवानी करने पर 75 फीसदी अनुदान दिया जाएगा। विभाग द्वारा 300 फीट क्षेत्र में बाग़वानी करने के लिए 50,000 रुपये की लागत निर्धारित की गई है जिस पर लाभार्थी को 37,500 रुपये का अनुदान मिलेगा, शेष राशि यानि की 12,500 रुपए लाभार्थी को स्वयं वहन करनी होगी।

यह भी पढ़ें   कृषि यंत्रों की खरीद पर किसानों को देना होता है इतना GST

वहीं जो व्यक्ति गमलों में बागवानी करना चाहते हैं सरकार योजना के तहत उन्हें भी अनुदान उपलब्ध कराएगी। सरकार गमलों में पौधे लगाने वाले व्यक्तियों को भी अनुदान देगी। शासन ने इसके लिए इकाई लागत 10,000 रुपये निर्धारित की है जिस पर लाभार्थी को 75 प्रतिशत यानि की 7,500 रुपये का अनुदान दिया जाएगा। शेष राशि यानि की 2,500 रुपये की लागत लाभार्थी को स्वयं वहन करनी होगी।

फार्मिंग बेड एवं गमलों में कौन से पौधे लगा सकते हैं?

उद्यानिकी विभाग द्वारा लाभार्थियों को अपने पसंदीदा फल एवं सब्जी की बागवानी के लिये पौधे चुनने का भी प्रवाधान किया गया है। इसमें फ़ार्मिंग बेड पर किसान सब्जी फसलें जैसे  बैंगन, टमाटर, मिर्च गोभी, गाजर, मूली, भिंडी, पत्तेदार सब्जी कद्दू आदि लगा सकते हैं तो वहीं अमरूद, कागजी नींबू, पपीता (रेड लेडी), आम (आम्रपाली), अनार, अंजीर आदि फल भी लगा सकते हैं। इसके अलावा फार्मिंग बेड पर घृत कुमारी, कड़ी पत्ता, वासका, लेमन ग्रास एवं अश्वगंधा जैसे औषधीय पौधे भी लगा सकते हैं।

यह भी पढ़ें   1 जनवरी को यहाँ आयोजित किया जाएगा कृषि मेला, मेले में किसानों के लिए यह रहेगा खास

वहीं यदि बात की जाये गमलों की तो इसके लिए लाभार्थी अलग-अलग गमलों में साइज़ के अनुसार अलग-अलग पौधे लगा सकते हैं। इसमें 10 इंच के गमले में तुलसी, अश्वगंधा, ऐलोवेरा, स्टीविया, पुदीना आदि लगा सकते हैं। 12 इंच के गमले में स्नेक प्लांट, डफ़ॉन, मनी, गुलाब, चाँदनी आदि लगा सकते हैं। वहीं 14 इंच वाले गमले में एरिका पाम, फ़िकस पांडा, एडेनियम अपराजिता, कड़ी पत्ता, भूटानी मल्लिका, स्टारलाइट, टेकोमा, अल्लामांडा, बोगनविलिया आदि लगा सकते हैं। 16 इंच वाले गमले में अमरूद, आम नींबू, चीकू, केला, एप्पल बेर, रबड़ पौधा, एक्स मास, क्रोटन, मोरपंखी पौधा, गुड़हल आदि पौधे लगा सकते हैं।

छत पर बागवानी के लिये अनुदान हेतु आवेदन कहाँ करें?

योजना का लाभ लेने के लिए इच्छुक व्यक्ति को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। यह आवेदन उद्यान निदेशालय बिहार सरकार की वेबसाइट horticulture.bihar.gov.in पर किए जा सकते हैं। इसके लिए वेबसाइट के डैशबोर्ड पर उपलब्ध छत पर बागवानी योजना के आवेदन करें लिंक पर जाकर ज़रूरी जानकारी भरना होगा। योजना से जुड़ी विशेष जानकारी के लिए लाभार्थी इससे संबंधित जिला सहायक निदेशक उद्यान से संपर्क कर सकते हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

Trending Now

डाउनलोड एप