back to top
28.6 C
Bhopal
सोमवार, जुलाई 15, 2024
होमकिसान समाचारउत्तर प्रदेशसरकार ने तैयार की नई योजना, दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए...

सरकार ने तैयार की नई योजना, दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए किसानों को दी जाएगी देसी नस्ल की 25 गाय

नंदिनी कृषक समृद्ध योजना के तहत देसी गायों का वितरण

देश में दुग्ध उत्पादन बढ़ाने एवं श्वेत क्रांति लाने के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं। इस कड़ी में उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में श्वेत क्रांति लाने और दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिए नंदिनी कृषक समृद्ध योजना शुरू करने का प्रस्ताव रखा है। योजना के तहत पशुपालकों एवं किसानों को 25 स्वदेशी उन्नत नस्ल की गाये दी जाएगी।

उत्तर प्रदेश के पशुधन एवं दुग्ध विकास मंत्री श्री धर्मपाल सिंह ने कहा है कि नंद बाबा दुग्ध मिशन के तहत उत्तर प्रदेश में श्वेत क्रांति लायी जाएगी। इसके लिए “नंदिनी कृषक समृद्ध योजना” प्रारंभ करने का प्रस्ताव किया जा रहा है। यह बात उन्होंने विधान भवन स्थित कार्यालय में कृत्रिम गर्भाधान और दुग्ध उत्पादन कार्यक्रम पर समीक्षा करते हुए कही।

किसानों को दी जायेगी स्वदेशी नस्ल की 25 गाय

पशुधन एवं दुग्ध विकास मंत्री मंत्री ने नंदिनी कृषक समृद्ध योजना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि योजना के तहत पशुपालकों एवं कृषकों को 25 स्वदेशी उन्नतशील नस्ल की गाय उपलब्ध करायी जायेंगी। जिससे दुग्ध उत्पादन में बढ़ोतरी होगी और श्वेत क्रांति की परिकल्पना साकार होगी। नंदिनी कृषि समृद्ध योजना से गौवंशीय देशी नस्ल को बढ़ावा मिलेगा और कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश में कृषकों और पशुपालकों को आर्थिक रूप से समृद्ध बनाने और दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र मिल का पत्थर साबित होगी।

यह भी पढ़ें   समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए किसान इस तरह करें स्लॉट की बुकिंग

दुग्ध विकास मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि नंद बाबा मिशन के कार्यों को सुचारू रूप से किया जाए और “क्वालिटी मिल्क फॉर ऑल” पर विशेष ध्यान दिया जाये और पराग के उत्पादनों की ब्रांडिंग और मार्केटिंग पर विशेष ध्यान दिया जाए।

लम्पी रोग की रोकथाम के लिए दिये निर्देश

समीक्षा बैठक में मंत्री श्री धर्मपाल सिंह ने राज्य में लम्पी रोग से संक्रमित पशुओं को तत्काल वैक्सीनेशन एवं अन्य आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने की तथा किसी भी दशा में संक्रमण फैलने न पाए और रोग के बचाव एवं रोकथाम के सभी उपाय करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ल्म्पी रोग की संभावना को देखते हुए प्रदेश स्तर पर लम्पी रोग के मानिटरिंग हेतु नोडल अधिकारी नामित किये जाए और उसके द्वारा नियमित रूप से अनुश्रवण किया जाए। इसके अलावा लम्पी रोग की रोकथाम के लिए कंट्रोल रूम की स्थापना के भी निर्देश दिए हैं।

गला घोंटू रोग की रोकथाम के लिए दिये निर्देश

पशुपालन मंत्री ने पशुधन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि गलाघोंटू टीकाकरण अभियान में तेजी लायी जाये। यह ध्यान दिया जाए कि किसी भी संक्रामक रोग के कारण पशुधन की हानि न हो। इसके अतिरिक्त वर्षा ऋतु के दृष्टिगत गोआश्रय स्थलों में चारे, भूसे, प्रकाश, टीनशेड, चिकित्सीय सुविधा एवं पेयजल आदि की पर्याप्त व्यवस्था की जाए।

यह भी पढ़ें   मौसम चेतावनी: 13 से 14 मई के दौरान इन जिलों में हो सकती है बारिश एवं ओलावृष्टि

बैठक में पशुधन एवं दुग्ध विकास के अपर मुख्य सचिव डॉ रजनीश दुबे ने मंत्रीजी को अवगत कराया कि लम्पी स्किन डीजीज के लिये विशेष रूप से नई वैक्सीन तैयार की गई है, जिसका ट्रायल पायलट प्रोजेक्ट के रूप में जनपद बलरामपुर, गोरखपुर और मथुरा में किया जा रहा है। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि पशुचिकित्सा अधिकारी ब्लॉक स्तर पर जाकर कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रमों के संचालन में सहयोग करें और विभिन्न योजनाओं के लक्ष्यों को शीघ्र ही पूरा करें।

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर