किसानों को जल्द दिया जायेगा बारिश से हुए फसल नुकसान का मुआवजा

574
fasal bima rashi rajasthan

फसल नुकसान का मुआवजा खरीफ-2022

इस वर्ष मानसून सीजन में वर्षा का वितरण असामान्य रहा है, जहां कई राज्यों के ज़िलों में बहुत अधिक वर्षा हुई है तो वहीं कई राज्यों में बहुत ही कम वर्षा हुई है। ऐसे में अलग-अलग राज्य सरकारों के द्वारा किसानों को हुए इस नुकसान की भरपाई के लिए सर्वे कार्य किया जा रहा है। राजस्थान के कई ज़िलों में हुई भारी वर्षा के कारण किसानों की फसलों को काफी नुकसान हुआ है, ऐसे में फसल बीमा योजना के अंतर्गत पंजीकृत किसानों को जल्द ही भरपाई किए जाने के लिए निर्देश दिए गए हैं। 

राजस्थान की मुख्य सचिव श्रीमती उषा शर्मा की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की समीक्षा बैठक की गई। बैठक में मुख्य सचिव ने राज्य के किसानों को लम्बित बीमा क्लेम के शीघ्र निस्तारण के लिए बीमा कम्पनियों से सम्पर्क कर किसानों को मुआवजा दिलवा कर उन्हें राहत प्रदान करने के निर्देश दिए। 

यह भी पढ़ें   सब्सिडी पर श्रेडर/मल्चर कृषि यंत्र लेने हेतु आवेदन करें

फसल कटाई का रखा जायेगा ऑनलाइन रिकॉर्ड

समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि खरीफ-2022 में फसल कटाई का ऑनलाइन रिकार्ड शत प्रतिशत होना चाहिए। इसके लिए कृषि अधिकारी अपने जिला कलक्टरों से समन्वय स्थापित करें। समीक्षा बैठक में कृषि विभाग के आयुक्त श्री कानाराम ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत विगत तीन वर्षों में अब तक 16 हजार करोड़ के बीमा क्लेम वितरित किये जा चुके हैं। 

किसानों को दिया जायेगा फसल नुकसान का मुआवजा

बैठक में कृषि विभाग के आयुक्त श्री कानाराम ने कहा कि इस वर्ष खरीफ -2022 में लगभग 2.20 करोड़ की फसल बीमा पॉलिसियां की गई हैं। इसके अन्तर्गत 66 लाख हैक्टेयर क्षेत्र का बीमा किया जा चुका है। इस वर्ष मानसून के दौरान अधिक बारिश से जल भराव के कारण जिन किसानों को फसल खराबे का नुकसान हुआ हैं। उनका सर्वे का कार्य भी जारी हैं। सर्वे उपरान्त किसानों को फसल खराबे का उचित मुआवजा शीघ्र ही दिलवाया जायेगा। 

यह भी पढ़ें   आखिर इन किसानों से क्या गलती हुई जो इन्हें नहीं दी जा रही पीएम किसान योजना की किस्त
पिछला लेखअनुदान पर प्याज की खेती करने के लिए आवेदन करें
अगला लेखअनुदान पर चाय एवं पान की खेती करने के लिए आवेदन करें

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.