किसान इस एप की मदद से घर बैठे ऑनलाइन बेच सकेंगे अपनी उपज

0
20024
fasal bechne hetu download kare agrivyapar app
kisan app download

एग्रीव्यापर Agrivyapr एप

किसानो की आर्थिक हालत ख़राब होने का मुख्य कारण यह है की किसानों को उनकी उपज का सही दाम नहीं मिल पाता है | किसान अपनी उपज आसानी से सही दामों पर बेच पायें इसके लिए केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार इसके लिए प्रयास कर रही है | जहाँ केंद्र सरकार द्वारा इसके इसके लिए ई-नाम ऑनलाइन प्लेटफार्म तैयार किया गया हैं वही सभी राज्यों की मंडी को इससे जोड़ा जा रहा हैं | वहीँ कही राज्य सरकारें भ अपने राज्य के किसानों के लिए ऑनलाइन प्लेटफार्म, एंड्राइड ऐप आदि तैयार की जा रही है | इसमें कई राज्यों ने ऑनलाइन प्लेटफार्म तैयार कर लिया है | हरियाणा के बाद अब मध्यप्रदेश राज्य सरकार द्वारा किसानों के लिए उपज ऑनलाइन बेचने के लिए एग्रीव्यापर ऐप तैयार की गई है |

”एग्री व्यापार” एप

सहकारिता मंत्री डॉ. गोविन्द सिंह ने कहा है कि प्रदेश में किसानों को उनकी उपज का अधिकतम मूल्य दिलवाने के लिए ‘एग्री व्यापार’ एप तैयार किया गया है। इसके माध्यम से किसान अपनी उपज व्यापारी को सीधे ऑनलाइन बेच सकेंगे। उन्होंने बताया कि सहकारिता विभाग द्वारा बनाए गए इस एप पर अभी तक15 हजार 27 किसान, 221 विपणन समितियां, 4 कमोडिटी एक्सचेंज तथा 40 डायरेक्ट बायर्स ”एग्री व्यापार एप” पर अपना पंजीयन करवा चुके हैं।

यह भी पढ़ें   किसानों को कम्बाईन हार्वेस्टर उपलब्ध करवाने के लिए सरकार ने जारी किये निर्देश

विभाग किसानों को सस्ती दरों पर उच्च गुणवत्ता की खाद-बीज उपलब्ध करवाने के साथ उन्हें फसल का अधिकतम मूल्य दिलवाने के लिये तैयार की गई है। इसके लिए ‘एग्री व्यापार’ एप के माध्यम से एक डिजिटल प्लेटफार्म उपलब्ध कराया गया है। इस डिजीटल प्लेटफार्म पर किसानों के साथ ही देश-विदेश के व्यापारी एवं उपभोक्ता भी जुड़ रहे हैं। इस एप पर किसानों की उपज के व्यापक प्रदर्शन के साथ ही ग्राहक की पसंद एवं कस्टमर फीड बैक की व्यवस्था भी सुनिश्चित की गई है |

एग्री व्यापारएप का प्रयोग किसान इस तरह करें

गूगल प्ले स्टोर से इस एप को मोबाइल पर आसानी से डाउनलोड किया जा सकता है। इसके बाद एप पर पंजीयन कराना होगा। पंजीयन के बाद किसान को अपनी फसल की मात्रा एवं विवरण का इसमें उल्लेख करना होगा। इसी प्रकार व्यापारी/क्रेता को अपनी आवश्यकता इस एप पर दर्ज करनी होगी। इसके बाद किसान क्रेता के साथ अपनी फसल के मूल्य का सीधे सौदा कर सकेंगे। किसान अपनी फसल की ऑनलाइन बोली भी लगा सकेंगे। इसमें बिचौलियों के लिये कोई स्थान नहीं है। किसान सीधे क्रेता से व्यापार करेंगे। सहकारी विपणन समितियां इस कार्य में किसानों की मदद करेंगी। 

यह भी पढ़ें   पराली (पुआल) जलाने पर किसानों को नहीं मिलेगा 3 वर्ष तक सरकारी योजनाओं का लाभ

एग्रीव्यापार एंड्राइड ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

kisan samadhan android app

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here