back to top
शनिवार, अप्रैल 13, 2024
होमकिसान समाचारकिसान सुपर सीडर मशीन से करें ग्रीष्मकालीन मूंग की बुआई, मिलेंगे यह...

किसान सुपर सीडर मशीन से करें ग्रीष्मकालीन मूंग की बुआई, मिलेंगे यह फायदे

गेहूं की कटाई के बाद किसान अपने खेतों में अतिरिक्त आमदनी के लिए गर्मी के मौसम में ग्रीष्मकालीन मूंग एवं उड़द की खेती करते हैं। ऐसे में किसान इसकी लागत कम करने के लिए सुपर सीडर मशीन से इसकी बुआई कर सकते हैं। इसके लिए कृषि विभाग द्वारा नरवाई जलाये बिना सुपर सीडर मशीन से सीधे मूंग की बोनी के लिए प्रदर्शन का आयोजन किया जा रहा है।

इस क्रम में जबलपुर के पाटन अनुभाग के अन्तर्गत ग्राम मुर्रई में किसान सौरभ पटेल के खेत में सुपर सीडर मशीन द्वारा नरवाई जलाए बिना गेहूं की कटाई के बाद मूंग की बोनी की गई। इस दौरान परियोजना संचालक आत्मा डॉ. एस के निगम, अनुविभागीय अधिकारी पाटन डॉ. इन्द्रिरा त्रिपाठी, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्रीकांत यादव, कृषि विस्तार अधिकारी जे.पी. त्रिपाठी एवं स्थानीय किसान उपस्थित रहे।

बीज की मात्रा में आती है कमी

किसान सौरभ पटैल ने इस अवसर पर बताया कि सुपर सीडर मशीन नरवाई को टुकडों में काटकर मिट्टी के नीचे दबा देती है और बीजों की बोनी भी कर देती है। मिट्टी में दबी पराली गलकर खाद बन जाती है। जिससे मिट्टी की उर्वरक शक्ति बढ़ती है और पैदावार भी ज्यादा होती है। उन्होंने बताया कि पराली से बनी यह खाद जमीन में पानी सोखने की ताकत को बढ़ाती है। सुपर सीडर मशीन से बोनी करने पर बीज की मात्रा कम लगती है और अंकुरण 90 से 100 प्रतिशत रहता है।

यह भी पढ़ें   किसानों को खेती की नई तकनीकों का प्रशिक्षण देने के लिए ICAR और धानुका ने मिलाया हाथ

एक साथ बहुत से काम करती है सुपर सीडर मशीन

परियोजना संचालक आत्मा डॉ. एस के निगम ने बताया सुपर सीडर मशीन एक मल्टी टास्किंग मशीन है। ये मशीन बोनी, जुताई, मल्चिंग और खाद फैलाने का काम एक साथ करती है। मशीन के इस्तेमाल से खेती बेहद आसान हो जाती है और किसानों के समय और रुपये दोनों की बचत होती है।

अनुविभागीय अधिकारी डॉ. इंदिरा त्रिपाठी ने बताया कि पाटन अनुभाग में किसानों के पास लगभग 6 सुपर सीडर एवं लगभग 30 हैप्पी सीडर मशीन उपलब्ध हैं। क्षेत्र के अन्य किसान इन मशीनों को किराये से लेकर उपयोग कर रहे हैं। पाटन में जायद सीजन में सुपर सीडर एवं हैप्पी सीडर मशीन के उपयोग से अब तक लगभग 2 हजार एकड़ में मूंग की बोनी बिना नरवाई जलाये की जा चुकी है। वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्रीकांत यादव के मुताबिक हैप्पी सीडर मशीन की कीमत 1 लाख 50 हजार से 2 लाख रुपए एवं सुपर सीडर मशीन की कीमत 2 लाख 50 हजार रुपए से 3 लाख रुपए है। कृषि अभियांत्रिकी विभाग द्वारा मशीनों को क्रय करने पर 40 से 50 प्रतिशत तक का अनुदान दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें   गर्मी में इन फसलों की खेती के लिए सरकार 80 प्रतिशत के अनुदान पर दे रही है बीज, किसान अभी करें आवेदन

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबरें

डाउनलोड एप