Home किसान समाचार गेहूं सहित अन्य रबी फसलों को समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए...

गेहूं सहित अन्य रबी फसलों को समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए किसान पंजीकरण करें

0
rabi crop registration for msp

समर्थन मूल्य पर उपज बेचने के लिए किसान पंजीकरण

केंद्र सरकार के द्वारा प्रति वर्ष 23 फसलों खरीफ एवं रबी के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य जारी किये जाते हैं | जिसके तहत इस वर्ष 2021-22 के लिए रबी फसलों जैसे गेहूं 1975 रुपये प्रति क्विंटल, जौ 1600 रुपये रुपये प्रति क्विंटल, चना 5100 रुपये प्रति क्विंटल रुपये, मसूर 5100 रुपये रुपये प्रति क्विंटल, रेपसीड एवं सरसों 4650 रुपये रुपये प्रति क्विंटल एवं कुसुम 5327 रुपये रुपये प्रति क्विंटल जारी किये गए हैं | राज्य सरकारों के द्वारा इन फसलों की खरीदी उपज के उत्पादन के अनुसार की जाती है जिसके लिए किसानों को पंजीकरण करवाना होता है | इस वर्ष के लिए किसानों की पंजीकरण प्रक्रिया हरियाणा राज्य में शुरू की जा चुकी है वही मध्यप्रदेश में 25 जनवरी से शुरू होनी है |

हरियाणा के किसान ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर रबी फसलों  (गेहूं, सरसों, जौ, सूरजमुखी) के पंजीकरण करवा सकते हैं | इस वर्ष पंजीकरण के लिए ‘परिवार पहचान-पत्र’ का होना अनिवार्य कर दिया है। किसानों द्वारा अपने कृषि उत्पादों को मंडियों में बेचने एवं कृषि या बागवानी विभाग से संबंधित योजनाओं का लाभ उठाने हेतु अपनी फसलों का पंजीकरण ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल https://fasal.haryana.gov.in में करवाना अनिवार्य है। यह पंजीकरण कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से भी करवा सकते हैं।

यह भी पढ़ें   बारिश से हुए फसलों के नुकसान का सर्वेक्षण का कार्य 24 सितम्बर तक किया जाएगा

पंजीकरण हेतु आवश्यक दस्तावेज

आवेदन के लिए किसानों को अपना मोबाइल नम्बर पास में रखना होगा साथ ही इसके अलावा निम्नलिखित दस्तावेज पंजीकरण के समय किसान के पास होने चाहिए-

  • आधार कार्ड
  • जमीन की जानकारी के लिए नक़ल की कॉपी/खसरा नम्बर/ फारद की कॉपी
  • फसल का नाम/किस्में/ बुआई का समय
  • बैंक पासबुक की कॉपी
  • परिवार पहचान पत्र

फसल पंजीयन के लिए हेल्पलाइन नम्बर

किसान पंजीकरण सम्बंधित किसी भी जानकारी के लिए टोल फ्री नम्बर 1800-180-2117, 1800-180-2060 पर सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे के बीच संपर्क कर सकते हैं ।

किसान रबी फसलों को समर्थन मूल्य पर मंडी में बेचने हेतु पंजीयन के लिए क्लिक करें

Previous articleजानिए किसान संगठनों एवं सरकार के बीच हुई दसवें दौर की वार्ता में क्या हुआ ?
Next articleजानिए कैसा रहेगा 23 से 26 जनवरी तक का मौसम

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here