back to top
28.6 C
Bhopal
मंगलवार, जुलाई 23, 2024
होमकिसान चिंतनइस कीट के चलते देश में मिर्च उत्पादन में आई भारी...

इस कीट के चलते देश में मिर्च उत्पादन में आई भारी गिरावट

देश में मिर्च उत्पादन में कमी के कारण

भारत में मिर्च का उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाता है, मिर्च उत्पादन में देश का वैश्विक स्तर पर लगभग 36 प्रतिशत का योगदान है। भारत में हर साल लगभग 20 से 21 लाख टन मिर्च का उत्पादन होता है। जिसमें सबसे अधिक मिर्च का उत्पादन आंध्र प्रदेश राज्य में होता है, यहाँ देश के कुल मिर्च उत्पादन का लगभग 57 फीसदी मिर्च का उत्पादन होता है। लेकिन पिछले कुछ वर्षों में मिर्च के उत्पादन में भारी गिरावट आई है जिसका मुख्य कारण मिर्च की फसल में लगने वाला थ्रिप्स कीट है।

देश में आ रही मिर्च उत्पादन में कमी को लेकर लोकसभा में 19 दिसंबर को सवाल किया गया। जिसमें सांसद श्री केसिनेनी श्रीनिवास ने सवाल पूछा कि देश में बीते वर्षों में मिर्च में आ रही गिरावट का मुख्य कारण क्या है और सरकार ने इसके लिए क्या कदम उठाये हैं। जिसको लेकर केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री अर्जुन मुंडा में विस्तृत जानकारी सदन में रखी।

मिर्च के उत्पादन में आई भारी गिरावट

अपने जवाब में केंद्रीय कृषि मंत्री ने बताया कि वर्ष 2021-22 में मिर्च की फसल एक नई आक्रमक कीट (थ्रिप्स) प्रजाति से प्रभावित हुई थी और इसके संक्रमण के कारण फसल को काफी नुक्सान हुआ। जिससे राष्ट्रीय स्तर पर मिर्च का उत्पादन वर्ष 2020-21 में 20.49 लाख टन से घटकर 18.36 लाख टन हो गया। आंध्र प्रदेश राज्य में संक्रमण गंभीर था, जहां उत्पादन पिछले वर्ष दर्ज 7.97 लाख टन से घटकर वर्ष 2021-22 में 4.18 लाख टन हो गया था। आंध्र प्रदेश में मिर्च की उत्पादकता वर्ष 2021-22 में 4 से 5 टन/हेक्टेयर की औसत वार्षिक उत्पादकता घटकर 1.86 टन/हेक्टेयर रह गई।

यह भी पढ़ें   किसान गर्मी में हरे चारे के लिये लगाएं लोबिया की यह उन्नत किस्में

इस कारण से मिर्च में अधिक हुआ थ्रिप्स कीट का प्रकोप

केन्द्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने बताया कि देश में आ रही मिर्च उत्पादन में गिरावट को लेकर कृषि और किसान कल्याण विभाग के तहत पादप संरक्षण, एवं संगरोध एवं संरक्षण निदेशालय भंडारण (डीपीपीक्यूएंडएस) ने आंध्र प्रदेश में मिर्च की फसल पर थ्रिप्स संक्रमण के सर्वेक्षण और मूल्यांकन के लिए दिसम्बर 2021 में एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया। विशेष समिति के आकलन के अनुसार निम्नलिखित कारक थ्रिप्स संक्रमण के संभावित कारण थे:-

  1. समिति ने सर्वेक्षण में पाया कि यह आक्रामक कीट थ्रिप्स प्रजाति है। चूँकि थ्रिप्स परविस्पिनस एक आक्रामक कीट प्रजाति है, हो सकता है कि यह देशी मिर्च थ्रिप्स पर हावी हो गया हो / प्रतिस्थापित हो गया हो।
  2. असामान्य रूप से तीव्र पूर्वोत्तर मानसून वर्षा के कारण उभार और गुणन के लिए अनुकूल जलवायु परिस्थितियाँ उत्पन्न हो गई हों जिससे गर्म और आर्द्र परिस्थितियों ने मिर्च पर थ्रिप्स के प्रकोप को बढ़ावा दिया।
  3. अंधाधुंध तरीक़े से रासायनिक कीटनाशकों से का छिड़काव के चलते थ्रिप्स कीट के प्राकृतिक शत्रुओं में कमी भी एक कारण हो सकता है। जिसने संभवत: मिर्च के खेतों में लाभकारी जीव-जंतुओं और थ्रिप्स परविस्पिनस के प्राकृतिक शत्रुओं को मार दिया है। साथ ही लगातार बुआई के चलते भी थ्रिप्स कीट के प्रकोप में वृद्धि हुई है क्योंकि कीट के लिए लगातार भोजन और आश्रय की जगह बनी रही।
यह भी पढ़ें   मूंग एवं उड़द में इल्ली एवं कीटों के नियंत्रण के लिए किसान सिर्फ एक बार करें इस दवा का छिड़काव

पिछले वर्षों में राज्यवार मिर्च का उत्पादन

लोकसभा में पूछे गए सवाल के जवाब में कृषि मंत्रालय द्वारा बताया देश में राज्यवार होने वाले मिर्च उत्पादन की जानकारी दी गई जो इस प्रकार है:-

Statewaise Chilli Production in India

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर