बांस मिशन योजना के तहत राज्य के 4,000 हेक्टेयर क्षेत्र में लगाये जाएंगे बांस

2
5173
bans utpadan 2020 yojna

4,000 हेक्टेयर क्षेत्र में बांस रोपण की योजना

कम उपजाऊ तथा बंजर पड़ी भूमि पर अन्नाज कि खेती उत्पादन कि दृष्टि से फायदेमंद नहीं रहती है | इस प्रकार कि भूमि पर उत्पादन कम होने के साथ–साथ लागत भी बढ़ जाती है | जिसके कारण किसान को लाभ नहीं मिल पता है | बंजर भूमि तथा कम उपजाऊ भूमि पर किसान बागवानी या वानिकी को ज्यादा महत्व दे रहे हैं | बागवानी तथा लकड़ी के लिए पेड़ लगाने से लागत एक बार आने के कारण खर्च कम लगता है |

बांस उत्पादकों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से मध्य प्रदेश सरकार राज्य में बांस की खेती को बढ़ावा दे रही हैं | वर्ष 2013 से राज्य में बांस मिशन (सोसायटी) गठित की गई थी | राज्य में अब तक लगभग 6 लाख 50 हजार हेक्टयर बांस का रकबा बन चूका है | बांस शिल्पियों के मामलों में सलाह देने के लिए मिशन के अंतर्गत मध्यप्रदेश बांस एवं बांस शिल्प विकास बोर्ड का गठन किया गया |

इस वर्ष 4,000 हेक्टेयर भूमि में बांस लगाया जाएगा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान क अध्यक्षता में बांस मिशन की समीक्षा बैठक यह फैसला लिया गया है कि वन विभाग वर्ष 2020 में 4000 हेक्टेयर क्षेत्र में बांस रोपण किया जायेगा | इसमें 2400 हेक्टेयर वन क्षेत्र और 1600 हेक्टेयर कृषकों की निजी भूमि शामिल है | प्रदेश में इस वित्त वर्ष में 17 लाख 56 हजार बांस के पौधे लगाए जाएंगे, जिस पर करीब 25 करोड़ रूपये की राशी खर्च होगी | मुख्यमंत्री के तरफ से यह बताया गया है कि प्रदेश में बांस वृक्षारोपण से हितग्राही को वर्तमान में वार्षिक मजदूरी 12 से 19 हजार के बीच प्राप्त होती है | जिसे बढ़ाने के आदेश दिया गया है |

यह भी पढ़ें   जैविक खेती करने वाले किसानों को मिला जैविक बाजार

मनरेगा के तहत किया जायेगा बांस रोपण

वन विभाग इस वर्ष मध्य प्रदेश में 3 करोड़ 50 लाख पौधे लगाएगा | वन विभाग और पंचायत एवं ग्रामीण विकास ने मनरेगा में बांस रोपण परियोजना के क्रियान्वयन और प्रबन्धन के लिए संयुक्त रूप से कार्य करने की योजना बनाई है | इस संबंध में विस्तृत दिशा–निर्देश जिलों में भेजे जा रहे हैं | योजना में बांस रोपण के लिए संयुक्त वन प्रबंधन समिति और स्व–सहायता समूहों के बीच सहमती का अनुबंध भी किया गया है | मनरेगा योजना के अंतर्गत 500 हेक्टेयर वन क्षेत्र में बांस रोपण किया जाएगा | उत्पादन का 80 प्रतिशत स्व- सहायता समूहों और 20 प्रतिशत संयुक्त वन प्रबंधन समिति को मिलेगा |

इन विभागों के द्वारा बांस लगाये जाएंगे

मध्य प्रदेश में बांस रोपण में राज्य बांस मिशन 22 जिलों, कैम्प शाखा 3, जिलों, वन विकास निगम 8 जिलों, संयुक्त वन प्रबन्धन 5 जिलों, विकास शाखा 2 जिलों, ग्रीन इंडिया मिशन 5 जिलों में रोपण का कार्य करेंगे | बांस रोपण में मनरेगा और कैम्प के तहत लगभग 200 स्व–सहायता समूहों के सदस्यों को जोड़ा जाएगा | पिछले वित्त वर्ष की 13 करोड़ 27 लाख की राशि इस वित्त वर्ष में में उपयोग में लाने की अनुमति केंद्र शासन ने दी है |

यह भी पढ़ें   छत्तीसगढ़ में तेंदूपत्ता संग्राहकों के लिए योजनाएं

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

2 COMMENTS

    • सरकारी नरसी या अपने यहाँ के वन विभाग में सम्पर्क करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here