back to top
रविवार, मई 19, 2024
होमकिसान समाचारकृषि यंत्र मेले में पहले दिन पहुँचे 17 हजार किसान, किसानों ने...

कृषि यंत्र मेले में पहले दिन पहुँचे 17 हजार किसान, किसानों ने खरीदे 1.74 करोड़ रुपये के कृषि यंत्र

कृषि यंत्रीकरण मेले का पहला दिन

खेती-किसानी के कामों में कृषि यंत्रों का उपयोग बढ़ाने के लिए सरकार कृषि यंत्रीकरण को बढ़ावा दे रही है। ऐसे में अधिक से अधिक किसानों को नए-नए कृषि यंत्रों की तकनीकों से अवगत कराने एवं किसानों को इन यंत्रों की खरीद के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार द्वारा कृषि मेलों का आयोजन किया जाता है। इन मेलों में किसानों को सब्सिडी पर कृषि यंत्र ख़रीदने की सुविधा भी दी जाती है। इस कड़ी में बिहार सरकार द्वारा पटना में 8 फरवरी से कृषि यंत्रीकरण मेले का आयोजन किया जा रहा है।

बिहार कृषि विभाग और सीआईआई के सहयोग से इस मेले का आयोजन 8 से 11 फरवरी 2024 तक पटना के गांधी मैदान में किया जा रहा है। इस राज्यस्तरीय कृषि मेले में पहले दिन 17 हज़ार से अधिक किसानों एवं आम लोगों ने भ्रमण किया। मेले में कृषि यंत्रों की बिक्री पर 91.56 लाख रुपये का अनुदान किसानों को दिया गया।

मेले में किसानों को कृषि यंत्रों पर दिया गया 91.56 लाख रुपये का अनुदान

कृषि यंत्रीकरण मेले में पहले दिन 17,000 से अधिक किसानों एवं आमजनों ने भ्रमण किया। पहले दिन आत्मा योजना के माध्यम से पटना एवं मगध प्रमंडल के सभी जिलों से 5230 किसानों सहित राज्य के विभिन्न जिलों से 17,837 किसानों ने अति आधुनिक एवं उपयोगी कृषि यंत्रों की प्रदर्शनी का अवलोकन तथा जानकारी प्राप्त की। राज्यस्तरीय इस कृषि यंत्रीकरण मेले में देश के विभिन्न यंत्र निर्माताओं, प्रतिष्ठानों तथा आईआईटी पटना सहित सरकारी एवं अर्धसरकारी संस्थान के कुल 140 से अधिक स्टॉल लगाये गये हैं।

यह भी पढ़ें   फसलों पर नैनो यूरिया के छिड़काव से किसानों को मिलते हैं यह फायदे

मेले के पहले दिन किसानों ने 212 कृषि यंत्र खरीदे, इसके साथ ही 06 कृषि यंत्र बैंक की स्थापना के लिए भी कृषि यंत्र लिए गए। इन कृषि यंत्रों पर किसानों को 91.56 लाख रुपये का अनुदान दिया गया। बताया जा रहा है किन कृषि यंत्रों का बाजार मूल्य लगभग 1.74 करोड़ रुपये है।

किसान पाठशाला का किया गया आयोजन

कृषि मेले में किसानों को आधुनिक कृषि तकनीकों से अवगत कराने के लिए किसान पाठशाला का भी आयोजन किया जा रहा है। इस क्रम में पहले दिन मेले में आये किसानों को कृषि वैज्ञानिकों एवं विभागीय पदाधिकारियों द्वारा कृषि यंत्रीकरण योजना की जानकारी के साथ-साथ उपयोगी कृषि यंत्रों (बुआई से लेकर कटाई तक), परिचालन एवं रखरखाव की जानकारी दी गई। इसके अलावा किसानों फसल अवशेषों के प्रबंधन के लिए उपयोगी कृषि यंत्रों के बारे में भी बताया गया।

प्रचार वाहनों को किया गया रवाना

विभागीय सचिव ने मेला परिसर से छत पर बागवानी योजना के प्रचार-प्रसार के लिए 04 प्रचार वाहनों को हरी झंडी दिखाकर पटना, गया मुजफ्फरपुर एवं भागलपुर शहरों के लिए रवाना किया। उन्होंने कहा कि इन 04 शहरी क्षेत्र में आमजन मकान के छत पर 300/600 वर्ग फीट खुले क्षेत्र में फार्मिंग बेड के लिए प्रति इकाई 37,500 रुपये एवं गमले की योजना के लिए प्रति इकाई 7,500 रुपये का अनुदान दिया जा रहा है। इस अवसर पर कृषि निदेशक डॉ. आलोक रंजन घोष, निदेशक, उद्यान अभिषेक कुमार, अपर सचिव शैलेंद्र कुमार सहित अन्य पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें   किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार चला रही है यह योजनाएँ

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबरें

डाउनलोड एप