back to top
गुरूवार, अप्रैल 18, 2024
होमकिसान समाचारजानें राजस्थान में किसानों को समर्थन मूल्य पर विक्रय की गई उपज...

जानें राजस्थान में किसानों को समर्थन मूल्य पर विक्रय की गई उपज के भुगतान कब एवम किस प्रकार होगा

जानें राजस्थान में किसानों को समर्थन मूल्य पर विक्रय की गई उपज के भुगतान कब एवम किस प्रकार होगा

प्रमुख शासन सचिव एवं रजिस्ट्रार, सहकारिता श्री अभय कुमार ने शुक्रवार को बताया कि राज्य में समर्थन मूल्य पर की जा रही दलहन एवं तिलहन की खरीद की राशि सही किसान के खाते में पहुंचे तथा उसे इसके संबंध में पहले से ही सूचना मिल जाए इसकी व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने बताया कि कई किसानों के भामाशाह कार्ड के साथ लिंक की गई बैंक खाता संख्याओं में गलतियांं सामने आ रही हैं। इसके समाधान के लिए किसनों को एसएमएस के जरिए सूचित किए जाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित कर दिया है।

श्री कुमार ने बताया कि कई किसानों के बैंक खातों के साथ लिंक मोबाइल नम्बर एवं ऑनलाइन पंजीयन के समय दिए गए मोबाइल नम्बर अलग-अलग हैं, ऎसे सभी किसानों को उनके ऑनलाइन पंजीयन के समय दिए गए मोबाइल नम्बर पर भी एसएमएस के जरिए भुगतान की सूचना दी जाएगी। उन्होंने बताया कि इस व्यवस्था से किसान तत्काल बैंक में जाकर राशि प्राप्ति की पुष्टि कर सकेगा और यदि उसे भुगतान प्राप्त नहीं हुआ है तो ऎसी स्थिति में उसका निवारण कर भुगतान सुनिश्चित किया जाएगा। यह व्यवस्था कल से कार्य करना प्रारम्भ कर देगी।

यह भी पढ़ें   सब्सिडी पर दाल, राइस एवं मिलेट मिल सहित ऑयल एक्सट्रेक्टर मशीन लेने के लिए अभी आवेदन करें

प्रमुख शासन सचिव ने बताया कि यदि किसी किसान को संदेश प्राप्त होने के वाबजूद भी भुगतान प्राप्त नहीं होता है तो उसे तत्काल राजफैड द्वारा संचालित हैल्पलाइन 1800-180-6001 पर प्रातः 8 बजे से रात्रि 10 बजे तक सूचित करें ताकि मामले ऎसे मामलों में त्वरित कार्यवाही कर भुगतान सुनिश्चित किया जा सके।

किसान द्वारा गलत बैंक खाता देने से हुआ है दूसरे खाते में भुगतान

उन्होंने बताया कि सवाईमाधोपुर के एक किसान श्री प्रहलाद जाट द्वारा ऑनलाइन पंजीयन के समय गलत बैंक खाता संख्या कोप्रमाणितकर भुगतान करने की सहमति प्रदान की थी, जिससे उसकी उपज की राशि गुजरात के खाताधारक के खाते में भुगतान ट्रांसफर हो गया। उन्होंने बताया कि मामला ध्यान में आते ही अपेक्स बैंक के माध्यम से संबंधित बैंक को खाता को फ्रीज करने को कहा है ताकि राशि का दुरूपयोग न हो। ऎसे प्रकरणों की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए यह कदम उठाया गया है।

उपज तुलाई के समय ली जाएगी बैंक खाता पासबुक की फोटोप्रत

राजफैड की प्रबंध निदेशक डॉ. वीना प्रधान ने बताया कि ऎसे किसान जिनके खाता संख्या में गलती के कारण राशि ट्रांसफर नहीं हो पाई है उनको भी एसएमएस के जरिए सूचित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य में आज से उपज की तुलाई वाले दिन ही किसान से उसके बैंक खाता की पासबुक के विवरण की फोटोप्रति प्राप्त करने के निर्देश दे दिए गए हैं ताकि जिन मामलों में पंजीयन के समय दिए गए बैंक खाता के संबंध में पुष्टि कर ली जाए।

यह भी पढ़ें   अधिक से अधिक युवाओं को माली प्रशिक्षण देने के लिए की जाए व्यवस्था

सात दिवस में हो जाएगा सभी काश्तकारों को भुगतान

डॉ. प्रधान ने बताया कि 10 नवम्बर तक क्रय की गई मूंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली का भुगतान आगामी सात दिवस में कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि 10 नवम्बर तक पंजीकृत किसानों को प्राथमिकता के आधार पर तुलाई हेतु दिनांकों का आवंटन किया जा रहा है। मूंग एवं उड़द को क्रय करने के लक्ष्यों में वृद्धि के लिए भारत सरकार को लिखा गया है। सभी पंजीकृत किसानों को दिनांकों का आवंटन हो जाने या 30 नवम्बर तक इन जिन्सों के लिए पंजीयन को स्थगित रखा गया है।

यह भी पढ़ें: पॉली हाऊस में सफलतापूर्वक की जा रही है मृदा रहित खेती

यह भी पढ़ें : समर्थन मूल्य पर खरीद में आ रही समस्याओं को दूर करने के लिए हैल्पलाईन

यह भी पढ़ें: केंद्र सरकार द्वारा किये गये अफीम नीति में बदलाव में किया जाये

 

5 टिप्पणी

  1. मान्यवर कुछ किसानों के अनपढ़ होने के कारण ई मित्र कियोस्क धारक ने अपने मोबाइल नंबर दे दिए जोकि इसलिए दिए गए ताकि मैसेज आने पर किसानों को उक्त जानकारी दे सकें कि किस तारीख को मूंग की तुलाई होगी लेकिन विभाग द्वारा की गई कार्रवाई से कई किसानों को इस संबंध में नुकसान हो रहा है विभाग उन किसानों के टोकन जारी नहीं कर रहे हैं जिन्होंने एक से ज्यादा बार इस्तेमाल किया गया उनका टोकन जारी नहीं किया जा रहा है अतः निवेदन है कि उक्त कार्रवाई करने से पूर्व पूर्व मोबाइल नंबर की जांच की जाए अगर ईमित्र क्यों उसके मोबाइल नंबर है तो वह टोकन रिजेक्ट नहीं किया जाए क्योंकि किसान अनपढ़ होने के कारण वह कियोस्क धारक को बोलते हैं कि आप अपने नंबर दे दो मैसेज आने पर हम आपसे जानकारी प्राप्त कर लेंगे अगर क्यों उसके नंबर सही पाए जाते हैं तो उसका टोकन रिजल्ट नहीं किया जाए और किसान को टोकन की दिनांक व समय मैसेज द्वारा भेजा जाए अतः उक्त विषय पर आपसे निवेदन है जांच करके टोकन रिजेक्ट किए जाएं धन्यवाद

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबरें

डाउनलोड एप